देखें VIDEO आरएसएस का सबसे बड़ा निर्णय

आरएसएस याने की राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने एक बड़ा निर्णय लेते हुए यष्टि को स्वयं में शामिल किया है। इसके बारे में निर्णय मुंबई में लिया गया था। यष्टि का प्रदर्शन रतलाम में संघ द्वारा निकाले गए जिला स्तरीय गुणवत्ता पथ संचलन में किया गया।

By: Ashish Pathak

Published: 24 Feb 2020, 03:44 PM IST

रतलाम। आरएसएस याने की राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने एक बड़ा निर्णय लेते हुए यष्टि को स्वयं में शामिल किया है। इसके बारे में निर्णय मुंबई में लिया गया था। यष्टि का प्रदर्शन रतलाम में संघ द्वारा निकाले गए जिला स्तरीय गुणवत्ता पथ संचलन में किया गया। देखें खबर का पूरा...

अब शराब पीकर ट्रेन चलाई तो जाएगी आप की 'नौकरी'

केरल में पूर्व में युद्ध के समय चिरुवली का उपयोग होता था। यह इमली की लकड़ी से बनती है। इसको दो वर्ष तक अध्ययन के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने स्वयं में शामिल किया है। इसके बारे में इसी वर्ष जनवरी में हुए मुंबई के अधिवेशन में लंबा मंथन हुआ, इसके बाद तय किया गया कि इसको चलाने के बारे में राष्ट्र में लगने वाली प्रत्येक शाखा के स्वयं सेवक को सीखाया जाए। अब रविवार को रतलाम में हुए जिला स्तरीय गुणवत्ता पथ संचलन में इसका प्रदर्शन किया गया।

रतलाम सर्किल में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने एयरपोर्ट मंजूर किया

rss video

अगस्त ऋषि ने किया था सृजन

संघ के पदाधिकारियों के अनुसार यष्टि का सृजन हजारों वर्ष पूर्व अगस्त ऋषि ने किया था। इसको चलाना सीखने में 15 से 20 दिन लगते है। दक्षिण के राज्य में यह इमली के पेड़ से बनती है, लेकिन रतलाम में इसको बबूल से बनाया गया है। संघ ने ड्रेस कोड के बाद यह बड़ा परिवर्तन स्वयं में किया है। जिले में इसको अब सुबह लगने वाली नियमित शाखा, गांव मंे लगने वाली रात्रिकालीन शाखा, साप्ताहिक शाखा में सीखाया जा रहा है।

PINK BOOK VIDEO दिल्ली रतलाम मुंबई के बीच 200 की स्पीड करने के लिए राशि जारी

rss video

चीन कलरी विद्या में होता है उपयोग

असल में चीन की कलरी विद्या जिसमे कुंग फूं, जुडो, कराटे आदि को शामिल किया गया है, इसमे युद्ध की प्रारंभिक शिक्षा यष्टि के माध्यम से ही दी जाती है। संघ के पदाधिकारियों के अनुसार असल में दक्षिण में जिसको चिरुवली कहा जाता है, उसी का नाम संघ ने यष्टि रखा है। अब इसको चलाना सभी को सीखाया जा रहा है। इसके लिए मुंबई में हुए सात दिन के अधिवेशन से प्रांत से विभिन्न पदाधिकारी गए थे। रविवार को इसका प्रदर्शन भी शहर में किया गया।

25 फरवरी तक इन ट्रेनों के बदले रहेंगे रूट, यात्रा करने से पहले देख लें लिस्ट

rsss.jpg

यहां से निकला पथ संचलन
शहर में संघ ने जिला गुणवत्ता पथ संचलन निकाला। इसमे कदम से कदम मिलाते हुए स्वयं सेवक चल रहे थे। डॉ. अंबेडकर मैदान से निकला पथ संचलन दो बत्ती, स्टेशन रोड, दिल बहार चौराहा, महू रोड फव्वारा, मित्र निवास रोड होते हुए फिर डॉ. अंबेडकर मैदान में समापन हुआ। करीब ३०० स्वयं सेवक इसमे शामिल हुए।

ज्योतिष : शनि की शुक्र पर नजर, पांच राशि वालों का होगा तबादला

मोहन भागवत ने बताया RSS का उद्देश्य,बोले-

जिले में यहां सीखा रहे यष्टि चलाना

कुल शाखा - 112
साप्ताहिक शाखा - 70

रात्रिकालीन शाखा - 78

शुभ विवाह मुहूर्त 2020 : एक साल में सिर्फ 56 दिन होंगे सात फेरे

rss.jpg

पहली बार किया शामिल
भारत की प्राचिन युद्ध कला में यष्टि का विशेष महत्व शुरू से रहा है। इसके उपर दो वर्ष तक अध्ययन किया गया, इसके बाद आरएसएस में इसको शामिल किया गया है। रविवार को इसका पहली बार रतलाम में प्रदर्शन किया गया है।

- विकास पाटीदार, जिला शारीरिक प्रमुख, आरएसएस

पांच मार्च की बैठक में होगा रतलाम के एयरपोर्ट का निर्णय

VIDEO रेलवे नहीं चलाएगा मार्च तक इन ट्रेन को, यहां पढे़ पूरी सूची

VIDEO बेटा पढऩे नहीं गया तो नाराज मां ने भेजा जंगल में, बाद में मिला शव

VIDEO मुस्लिमों ने किया फूलों से शाही सवारी का स्वागत, फिर सड़क को किया साफ

VIDEO अवसर मिला है तो अब कृष्ण बनकर जेल से बाहर आना

RSS
IMAGE CREDIT: Patrika
Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned