सहारनपुर के रहने वाले मशहूर संगीतकार साजिद-वाजिद खान की जोड़ी टूटी, वाजिद खान का निधन

Highlights

  • सहारनपुर के रहने वाले थे वाजिद खान
  • पिछले दिनों किडनी हुई थी ट्रांसप्लांट
  • कोरोना रिपोर्ट भी आई थी पॉजिटिव

 

By: shivmani tyagi

Updated: 01 Jun 2020, 10:25 AM IST

सहारनपुर। हिंदी फिल्म, प्यार किया तो डरना क्या, चोरी-चोरी, मुझसे शादी करोगी, पार्टनर और वांटेड समेत कई फिल्मों में सुपरहिट गीत देने वाले मशहूर संगीतकार व गायक वाजिद अली ( bollywood music composer sajid wajid ) अब इस दुनिया में नहीं रहे। वाजिद की मौत से जहां दोनों भाई साजिद-वाजिद की मशहूर जोड़ी बिछड़ गई है वहीं फिल्म इंडस्ट्री में दुख व्याप्त है।

यह भी पढ़ें: पुलिस की बर्बरता: युवक को हैवानियत की इस हद तक पीटा कि शरीर कि चमड़ी तक उतर गई, एसआई समेत तीन सस्पेंड

मूल रूप से सहारनपुर के रहने वाले वाजिद की उम्र महज 42 वर्ष थी और उनका मुंबई के एक अस्पताल में उपचार चल रहा था। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उनकी कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव थी। कुछ दिन पहले ही उनकी किडनी को भी ट्रांसप्लांट किया गया था। रविवार शाम को अचानक उनकी हालत बिगड़ी और डॉक्टरों की तमाम कोशिशें नाकाम हो गई।

यह भी पढ़ें : Baghpat: हाॅटस्पाॅट पर जांच के लिए गई स्वास्थ्य विभाग की टीम पर महिलाओं ने थूका, रासुका लगाने की मांग

इस तरह रविवार शाम 42 वर्षीय वाजिद खान ने अंतिम सांस ली और वह इस दुनिया से चले गए। आशंका जताई जा रही है की वाजिद खान की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव थी और किडनी ट्रांसप्लांट होने की वजह से उनकी इम्युनिटी पावर काफी कम हो गई थी। यही वजह उनकी मौत का कारण भी हाे सकती है

यह भी पढ़ें: पुलिस और इनामी बदमाश आए आमने-सामने, दिखा खौफनाक मंजर

1998 में शुरू किया था करियर
साजिद-वाजिद की जोड़ी देश ही नहीं दुनिया में अपनी पहचान बना चुकी थी। इनके करियर की शुरुआत वर्ष 1998 में प्यार किया तो डरना क्या सुपरहिट फिल्म से हुई थी और इन्होंने तेरी जवानी बड़ी मस्त-मस्त गीत सुपरहिट हुआ था। इसके बाद दोनों भाइयों ने सुपरस्टार सलमान खान की कई फिल्मों में अपने गाने दीजिए जिन्हें बेहद पसंद किया गया।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: IAS रानी नागर और उनकी बहन पर हमला, सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर कर दी जानकारी

कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी जिलाध्यक्ष व साजिद-वाजिद खान के करीबी जावेद साबरी ने बताया कि साजिद-वाजिद के पिता उस्ताद सराफत अली खान तबलावादक थे। वह मुम्बई चले गए थे लेकिन उनके पूरे परिवार का सहारनपुर से बेहद प्यार था। दोनों ने इतना नाम कमाने के बाद भी सहारनपुर काे याद रखा और यहां की कई प्रतिभाओं का फिल्मों में अवसर भी दिया। वह अक्सर अपने शाे में भी सहारनपुर का जिक्र किया करते थे। सहारनपुर में दाेनाें भाईयाें का आना-जाना लगा रहता था। अचानक वाजिद की माैत की खबर से जनपद के कला प्रेमियों में दुःख व्याप्त है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned