UP Board Result 2020 सहारनपुर के 71000 छात्र-छात्राओं के भविष्य का फैंसला आज

UP Board Result 2020 सहारनपुर में 71 हजार छात्र-छात्राओं की बढ़ी धड़कनें, रिजल्ट आने के बाद शुरू होगी अभिभावकों की परीक्षा

By: shivmani tyagi

Updated: 27 Jun 2020, 11:55 AM IST

सहारनपुर। UP Board Result 2020 सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं टलने के बाद आज यूपी बोर्ड का परिणाम घोषित हाे रहा है। इनमे सहारनपुर के 71,701 छात्र छात्राएं हैं। इन सभी का आज परिणाम आना है। परिणाम आने से पहले इनके दिलों की धड़कन तेज हो गई हैं।

यह भी पढ़ें: Ghaziabad: न्यायालय परिसर को सील करने का आदेश रद्द, अब जारी हुआ नया आदेश

अगर जिले के ग्राफ पर नजर डाली जाए तो सहारनपुर में हाई स्कूल ( UP Board 10th Class Result ) में 38224 छात्र-छात्राएं परीक्षा में शामिल हुए थे। इसी के सापेक्ष इंटरमीडिएट ( UP Board 12th Class Result ) में 33477 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी थी। सहारनपुर में करीब 90 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे यूपी बोर्ड ( UP Board 12th Class Result 2020 ) ने इसके लिए पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के दौरान विशेष निगरानी बरती थी। साथ ही विषय वार मूल्यांकन का भी ध्यान रखा गया था। अब परिणाम की बारी है और यही कारण है कि छात्र-छात्राओं के दिलों की धड़कनें बढ़ी हुई हैं। डीआईओएस डॉ अरुण कुमार दुबे का कहना है कि इस बार स्कूल कॉलेज बंद हैं। ऐसे में छात्र छात्राएं घर पर रहकर ही अपना रिजल्ट देखेंगे। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाएगा।


अभिभावकों और बच्चों के लिए सलाह
कोरोना संक्रमण ने देश ही नहीं दुनिया भर के लोगों का लाइफ स्टाइल बदल दिया है। ऐसे में छात्र भी अपने परिणाम को लेकर तनाव में होंगे लेकिन उन्हें यह समझना होगा कि रिजल्ट जो भी हो उन्हें हिम्मत नहीं हारनी है। अगर किसी बच्चे का रिजल्ट नेगेटिव आता है या उम्मीद के मुताबिक नहीं आता है तो ऐसे में परेशान ना हों। बच्चे अपनी परीक्षाएं दे चुके हैं अब रिजल्ट आने पर अभिभावकों की परीक्षा शुरू हाेगी। ऐसे में अभिभावकों काे अपने बच्चों का सहयोग करना हाेगा।

यह भी पढ़ें: UP Board Result 2020: 10वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स की धड़कने तेज, साइबर कैफे पर लगी कतारें, इस तरह देखें रिजल्ट

अगर बच्चे के नंबर कम हैं तो अभिभावकाें काे उनसे सख्ती से पेश नहीं आना है। बच्चों के दिमाग पर दबाव देने की कोशिश ना करें। यहां ध्यान रखने वाली बात यह है कि कभी भी दूसरे बच्चों से अपने बच्चे की तुलना नहीं करनी है। अगर आपके दो बच्चे हैं तो उनकी भी एक दूसरे के अनुसार तुलना नहीं करनी चाहिए। तुलना करने से बच्चों के मन पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए बच्चों को प्रोत्साहित करें और अगर वह अच्छे नंबर नहीं ला पाए हैं तो उन्हें अगली बार और मेहनत करने के लिए प्रेरित करें।

Show More
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned