मिनटों में पता चलेगा शरीर में बैक्टीरिया है या नहीं, वैज्ञानिकों ने बनाया नया उपकरण

मिनटों में पता चलेगा शरीर में बैक्टीरिया है या नहीं, वैज्ञानिकों ने बनाया नया उपकरण

Deepika Sharma | Publish: May, 10 2019 04:15:02 PM (IST) | Updated: May, 10 2019 04:15:03 PM (IST) विज्ञान और तकनीक

  • चंद मिनटों में पता लगाया जा सकेगा बैक्टीरिया के बारे में
  • चिकित्सा क्षेत्र को मिलेगी मदद
  • स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने की अनोखी खोज

नई दिल्ली। जब कभी भी हम बीमार होते हैं तो डॉक्टर ( Doctor )अक्सर मरीज को शरीर में बैक्टीरिया ना होने के बावजूद एंटीबायोटिक देते हैं। लेकिन अब शायद उसकी जरूरत नहीं होगी। वैज्ञानिकों ने एक नई खेज की है, जिसके माध्यम से यह पता लगाया जा सकेगा कि शरीर में बैक्टीरिया है या नहीं।

गपशप के दौरान महिलाओं से ज्यादा नीचे गिर जाते हैं पुरुष, एक बार शुरू होने पर 52 मिनट तक नहीं रुकते

किसी भी बीमारी की शुरुआत शरीर में मौजूद बैक्टीरिया के कारण होती है। लेकिन इनके होने या ना होने का पता डॉक्टर की रिपोर्ट से ही लग पाता है। दरअसल, पेन स्टेट यूनिवर्सिटी ( university ) के वैज्ञानिकों ने ऐसा उपकरण बनाया है। हाल ही में नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की प्रोसीडिंग्स ने इस बारे में पूरी जानकारी दी है। इसे विकसित करने वाली टीम में पाक किन वोंग बायोमेडिकल इंजीनियरिंग और मेकेनिकल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर शामिल हैं।

 

bacteria

यह उपकरण माइक्रोटेक्नोलॉजी का उपयोग करने पर बैक्टीरिया की कोशिकाओं को फंसा लेता है जिसे इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप से देखा जा सकता है।

इंटरनेट एक्सप्लोरर 6 को खत्म करने की यूट्यूब इंजीनियरों ने रची थी साजिश

इससे केवल तीस सेंकेड में ही बैक्टीरिया की मौजूदगी के साथ दवाई के असर होने के बारें में पता चल सकेगा। जबकि अब तक इस सारे प्रोसीजर में 3 से 5 दिन का समय लग जाता है। एक मीडिया रिपोर्ट (media report ) के अनुसार इस उपकरण से बैक्टीरिया का वर्गीकरण करने में भी मदद मिलेगी।

 

 

bacteria

इस तकनीक की मदद से नहीं खराब होगा दूध, लंबे समय तक कर सकेंगे इस्तेमाल !

प्रोफेसर वोंग ने कहा कि उनकी टीम ने प्रोविजनल पेटेंट के लिए आवेदन किया है और 3 साल में इस उपकरण को बाजार market ) में ले आएंगे। इसके साथ ही उन्होंने इसका आकार छोटा करने की बात भी कही, ताकि इसे अस्पतालों और क्लिनिक (clinic ) में आसानी से इस्तेमाल किया जा सके।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned