अंतरिक्ष में विस्फोट कराने की तैयारी में नासा, बना रही ऐसा यान

Deepika Sharma | Updated: 12 May 2019, 07:03:36 PM (IST) विज्ञान और तकनीक

  • 2022 में भेजेगा अपना यान नासा
  • धूमकेतु से टकराने के लिए किया जा रहा है खासतौर पर इस यानको तैयार
  • ऐसा परीक्षण पहली कर रहा है नासा

नई दिल्ली। पिंड़ों और ग्रहों के आपसी टकराव या उनमें चल रहीं गतिविधियों का पता लगाने के लिए उपग्रहों को अंतरिक्ष ( space ) में भेजा जाता रहा है। लेकिन नासा (nasa ) सन 2022 में अपना एक ऐसा यान अंतरिक्ष में भेजने वाली है, जो वहां जाकर विस्फोट करेगा।

देश में बढ़ रही है पियक्कड़ों की संख्या, अध्ययन में हुआ खुलासा

इस विस्फोट के माध्यम से धरती ( earth )से टकराने वाले पिड़ को उसकी दूरी पर ही खत्म कर दिया जाएगा। यह असल में खगोलीय रक्षा तकनीक ( tecnology ) का प्रर्दशन होगा।

 

space

नासा ने इस बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए बताया है कि यह एक तरह का छोटा-सा परीक्षण है। डबल एस्टेरॉयड रिडायरेक्शन टेस्ट (डीएआरटी) के माध्यम से पहली बार धरती से सीधा निशाना डिडिमॉस पर लगाने का अवसर मिलेगा। यह धूमकेतू धरती के करीब आ रहा है। परीक्षण में नासा का यान धूमकेतु के बाइनरी एस्टेरॉयड सिस्टम में चंद्रमा के आकार के टुकड़े को अपना निशाना बनाएगा। हालांकि इससे धरती को किसी भी तरह का कोई खतरा नहीं हैं। नासा का यह परीक्षण करने का मकसद सिर्फ इतना है कि भविष्य में कभी भी कोई पिंड धरती की तरफ अचानक आता है, तो वैज्ञानिक सीधा धरती से अंतरिक्ष की ओर निशाना भेद सके।

वैज्ञानिकों का दावा : प्राकृति के लिए नहीं किया ये काम तो हो जाएगा सब खत्म

नासा के अनुसार इस मिशन को 2021 में लॉन्च किया जाएगा। डीएआरटी सौर ऊर्जा से संचालित होता है। नासा इस बात पर खास तौर पर ध्यान रखेगी कि परीक्षण के समय धुमकेतु की धरती से दूरी 1 करोड़ 10 लाख किमी हो।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned