उन्नाव में दुष्कर्म पीड़िता को जिंदा जलाने का मामला - पीड़िता के परिवार की इस मांग से जिला प्रशासन हलकान

- पीड़ित परिवार की शर्त मुख्यमंत्री आएंगे तभी होगा अंतिम संस्कार

- अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा बातचीत चल रही

By: Narendra Awasthi

Updated: 08 Dec 2019, 10:20 AM IST

उन्नाव. जिंदा जलाई गई दुष्कर्म पीड़िता के अंतिम संस्कार पर सस्पेंस बरकरार है। पीड़ित परिवार योगी आदित्यनाथ के आने की मांग कर रहा है। उनका कहना है कि जब तक योगी आदित्यनाथ नहीं आएंगे तब तक वह अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। प्रशासन पीड़ित परिवार से लगातार संपर्क में हैं और उनसे बातचीत कर अंतिम संस्कार करने की मांग कर रहा है। इस संबंध में बातचीत करने पर अपर पुलिस अधीक्षक ने कहा बातचीत चल रही है।

प्रशासनिक अमला मौके पर

गौरतलब है विगत 5 दिसंबर को दुष्कर्म पीड़िता की संदिग्ध परिस्थितियों में आग लगने से उस समय गंभीर रूप से झुलस गई थी। जब वह अपने वकील से मिलने जा रही थी। गंभीर रूप झुलसी दुष्कर्म पीड़िता की सफदरजंग अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। जिसका शव देर रात गांव पहुंचा। जिला प्रशासन लगातार पूरे मामले बनाए हैं। जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पांडे पूरे मामले में निगाह रखे हैं। घटना को राजनीतिक रंग देने के देने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियां लगी हुई है। कांग्रेस से प्रियंका गांधी से लेकर समाजवादी पार्टी सुनील सिंह साजन, पूर्व विधायक उदय राज यादव वहीं सत्ता पक्ष के क्षेत्रीय सांसद साक्षी महाराज, स्वामी प्रसाद मौर्य, जनपद प्रभारी मंत्री कमल रानी वरुण सहित शनिवार के दिन नेताओं के चहल कदमी का केंद्र बिंदु बना रहा पीड़िता का गांव। मुख्यमंत्री द्वारा पीड़ित परिवार को ₹2500000 का चेक दिया जा चुका है। लेकिन अब इनकी मांग से जिला प्रशासन के माथे पर शिकन है। पीड़िता के पिता का कहना है कि जब तक मुख्यमंत्री नहीं आएंगे तब तक अंतिम संस्कार नहीं होगा। इस संबंध में बातचीत करने पर अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार पांडे ने कहा है कि परिवार के सदस्यों से अंतिम संस्कार के लिए बातचीत चल रही है।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned