EXCLUSIVE-फ्लाईओवर हादसा: सुरक्षा मानक दरकिनार, सेतु निगम को इन मजदूरों की मौत का इंतजार

Devesh Singh

Publish: May, 17 2018 09:13:07 PM (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India

एक-दूसरे को सहारा देकर ऐसे बचाते हैं गरीब अपनी जान

1/7

एक-दूसरे को सहारा देकर ऐसे बचाते हैं गरीब अपनी जान

वाराणसी. फ्लाईओवर हादसे में हुई 18 मौतों के बाद भी सेतु निगम सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। सीएम योगी आदित्यनाथ से लेकर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने सेतु निगम के एमडी को हटाने, चार अधिकारियों को निलंबित करने के साथ ही विभाग पर मुकदमा दर्ज कराया है लेकिन विभाग की सेहत पर असर नहीं पड़ा है। गुरुवार को फ्लाईओवर का काम शुरू हो गया है और पत्रिका ने देखा कि मजदूरों प्लास्टिक का हेलमेट पहना कर बिना सुरक्षा उपकरण दिये ही ऊंचाई वाले स्थान पर काम लिया जा रहा है। इससे साफ हो जाता है कि अब सेतु निगम को इन मजदूरों की मौत का इंतजार है।
यह भी पढ़े:-अखिलेश यादव ने भगदड़ में हुई मौत पर की थी यह कार्रवाई, फ्लाईओवर हादसे के बाद सीएम योगी सरकार पर उठ रहे सवाल


इतने ऊंचे फ्लाईओवर पर बिना किसी सुरक्षा उपकरण के काम करना जान को जोखिम में डालना है। फ्लाईओवर की बीम पर सरिया का जाल लगा हुआ है यदि सरिया में फंस कर मजदूर जमीन पर गिर जाता है तो उसके बचने की न्यूनतम संभावना है। सुरक्षा मानको की यह अनदेखी साबित करती है कि सेतु निगम के अधिकारियों व ठेकेदार के गठजोड़ को आगे सारा सिस्टम बौना हो गया है। सीएम योगी से लेकर अन्य मंत्री, कमिश्रर व डीएम ने भी कई बार निर्माणाधीन फ्लाईओवर का निरीक्षण किया है लेकिन किसी को यह नहीं दिखा कि वहां पर सुरक्षा मानकों को दरकिनार करके मजदूरों से काम कराया जा रहा है। यदि सक्षम अधिकारी ने इन चीजों को संज्ञान लिया होता तो शायद मजदूरों को आवश्यक रक्षा उपकरण मिल जाते।
यह भी पढ़े:-फ्लाईओवर हादसे के बाद सीएम योगी की बड़ी कार्रवाई, हटाये गये डिप्टी सीएम केशव के खास राजन मित्तल

हल्की ठोकर भी काफी होती है आंख खोलने के लिए, यहां मौत की मुनादी के बाद भी नहीं सुधरी व्यवस्था
कहते हैं कि हल्की ठोकर भी आंख खोलने के लिए काफी होती है लेकिन सेतु निगम ऐसा विभाग है जो 18 लोगों के मौत की मुनादी के बाद भी नहीं बदलता है। पत्रिक ने जब मजदूरों को मिला हेलमेट देखा तो जमीन से पैरे ही खिसक गयी। हल्के प्लास्टिक का बने इस हेलमेट से मजदूरों के सिर की सुरक्षा की जा रही है। हेलमेट का हाल ऐसा है कि हल्की चोट लगने पर ही वह फट जायेगा। ऐसे में इतने ऊंचे फ्लाईओवर पर इन प्लास्टिक हेलमेट के सहारे मजदूरों की सुरक्षा का स्वांग रचा जा रहा है। सेतु निगम की यह लापरवाही कभी भी भारी पड़ सकती है। अब तो ऐसा लगता है कि मौत के फ्लाईओवर पर गरीब मजदूरों की बलि चढ़ाने की तैयारी की गयी है।
यह भी पढ़े:-क्राइम ब्रांच ने शुरू की फ्लाईओवर हादसे की जांच, अधिकारी से लेकर मजदूर तक की खंगाली जा रही कुंडली

इन मानकों का रखना होगा ध्यान
मानक के अनुसार इतने ऊंचे फ्लाईओवर के निर्माण के समय मजदूरों के काम करने वाली जगह के नीचे जाली बांधनी चाहिए। फ्लाईओवर के बीम पर काम करने वाले मजदूरों के कमर पर रास्सी या अन्य चीज बांधनी चाहिए। यदि अंसतुलित होकर मजदूर फ्लाईओवर से गिरते भी हैं तो उन्हें नुकसान नहीं पहुंचेगा। हेलमेट ऐसा होना चाहिए कि दुर्भाग्यवश कोई मजदूर फ्लाईओवर से गिर भी जाता है तो उसका सिर सुरक्षित रहे, लेकिन मौत के फ्लाईओवर में मजदूरों की बलि लेने के लिए यह सुविधा नहीं दी जा रही है।
यह भी पढ़े:-फ्लाईओवर हादसे में आखिर कितने की हुई मौत, सरकारी खेल में उलझा सही आंकड़ा, लापता का नहीं चल रहा पता

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned