बनारस के लिए ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे जैसा है बाबतपुर फोर लेन, यह है खासियत

बनारस के लिए ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे जैसा है बाबतपुर फोर लेन, यह है खासियत
Babatpur Four Lane

Devesh Singh | Publish: Nov, 07 2018 03:53:25 PM (IST) | Updated: Nov, 07 2018 03:53:26 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

पीएम नरेन्द्र मोदी करेंगे 12 नवम्बर को उद्घाटन, यूपी में पहली बार यहां पर हो रहा है ब्रिज प्लांटेशन

वाराणसी. बनारस के लिए ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे जैसा बाबतपुर फोर लेन है। बनारस से बाबतपुर हवाई अड्डे तक की सड़क 17 किलोमीटर की सड़क बनाने के लिए तकनीक के साथ पर्यावरण का भी ध्यान रखा गया है। पीएम नरेन्द्र मोदी 12 नवम्बर को इस फोर लेन का उद्घाटन करेंगे। फोर लेने व ओवर ब्रिज निर्माण में खास बातों का ध्यान रख कर इसे खास बना दिया है।
यह भी पढ़े:-बीजेपी इन तीन योजना के सहारे जुटायेगी लाखों की भीड़, महानगर व जिला कार्यकर्ताओं को मिली जिम्मेदारी

Babatpur Four Lane
IMAGE CREDIT: Patrika

पीएम नरेन्द्र मोदी ने 27 मई को दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का उद्घाटन किया था। 14 लेन वाले इस हाइवे को ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे भी कहते हैं जो देश का सबसे हाईटेक हाइवे है। नये एक्सप्रेसवे के चालू जो जाने से नई दिल्ली में वाहनों का लोड कम हुआ था। पीएम नरेन्द्र मोदी अब अपने संसदीय क्षेत्र बनारस में बने बाबतपुर फोर लेन का उद्घाटन करने वाले हैं। यह फोर लेन ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे जितना हाईटेक तो नहीं है लेकिन बनारस के लिए यह ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे के समान है। बनारस शहर से बाबतपुर की दूरी लगभग 17 किलोमीटर है। पहले यह सड़क संकरी थी जिसके चलते घंटों जाम लगा रहता था। पर्यटन की दृष्टि से आने वाले लोगों को असुवधिा का समाना करना पड़ता था। बनारस से संासद बनने के बाद पीएम नरेन्द्र मोदी ने सैकड़ों करोड़ की बाबतपुर फोर लेने की सौगात दी थी जो बन कर तैयार हो गया है और 12 नवम्बर को पीएम नरेन्द्र मोदी उद्घाटन करने के बाद रोड शो भी कर सकते हैं।
यह भी पढ़े: -मुस्लिम महिलाओं ने उर्दू में रचित आरती के साथ की प्रभु श्रीराम की पूजा

जानिए बाबतपुर लेने की खासियत
साबरमती रिवर फ्रंट में हरियाली लाने वाली कंपनी ग्रीन वैली सर्विसेज को फोर लेने में पेड़-पौधा लगाने के साथ रख-रखाव की जिम्मेदारी मिली है
संस्था के हितेश पटेल ने बताया कि बाबतपुर फोर लेने में पॉम की तीन वैरायिटी के 1100 से पेड़ लगाये गये हैं, जिसमे खजूर भी शामिल है
पेड़ों में पानी देने के लिए ऑटोमैटिक सेंटर लगे हैं जो नमी खत्म होते ही पंप को चला कर पानी देता है
ओवर ब्रिज के नीचे 42 तरह के सेमी इंडोर प्लांट लगाये गये हैं, जिनकी असली रंगत 6 माह बाद दिखेगी।
फोर लेन में जगह-जगह पर फव्वारे व फसाड लाइट लगाये गये हैं जिससे फोरलेन की खूबसूरती बढ़ गयी है
एलईडी लाइट से नहाये इस फोरलेन से शहर से बाबतपुर आधा घंटे से कम समय में पहुंचना संभव हुआ है
हाइवे के दोनों तरफ 20 बस स्टॉप भी बनाये जा रहे हैं जहां से हाइटेब बस चलेगी
सोलर लाइट से जलने वाले संकेतक यात्रा को आसान बनायेंगे
कई जगहों पर ओवर ब्रिज के नीचे लैंडस्कैपिंग बना कर सुन्दतरता को बढ़ाया गया है
हाइवे का पार करने के लिए जगह-जगह पर फुट ओवरब्रिज बनाये गये हैं
ओवरब्रिज के बीच में पार्किंग की व्यवस्था की गयी है, जिससे खराब वाहनों को तुरंत हटाया जा सके
यह भी पढ़े:-JHV डबल मर्डर केस में मुख्य आरोपी के गर्लफ्रेंड की भूमिका की होगी जांच

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned