यूपी कॉलेज छात्रसंघ चुनाव पर मतपत्र फाड़ने का सीसीटीवी फुटेज वायरल, पुलिस की भूमिका पर बड़ा सवाल

यूपी कॉलेज छात्रसंघ चुनाव पर मतपत्र फाड़ने का सीसीटीवी फुटेज वायरल, पुलिस की भूमिका पर बड़ा सवाल

Devesh Singh | Publish: Dec, 08 2018 09:08:40 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

इतनी थानों की फोर्स लगाने के बाद भी फाड़े गये मतपत्र, डीएम व एसएसपी का ेखुद ही संभालनी पड़ी स्थिति

वाराणसी. यूपी कॉलेज छात्रसंघ चुनाव ने पुलिस की भूमिका पर बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। कॉलेज में मतपत्र फाडऩे का सीसीटीवी फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। फुटेज में साफ देखा जा सकता है कि आराम से प्रत्याशी ने मतगणना के समय मतपत्र उठाया और उसे फाड़ दिया। पास में ही पुलिसकर्मी खड़े थे लेकिन किसी ने प्रत्याशी को रोकने का प्रयास नहीं किया।
यह भी पढ़े:-बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष का एग्जिट पोल पर बड़ा बयान, क्या सच होगी भविष्यवाणी

यूपी कॉलेज में मतपत्र फाडऩे की खबर बाहर निकलते ही छात्रों ने हंगामा शुरू कर दिया था। छात्रों ने चुनाव पर ही धांधली का आरोप लगा कर धरना देना शुरू कर दिया था। यूपी कॉलेज की स्थिति बिगड़ सकती थी लेकिन डीएम सुरेन्द्र सिंह व एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने मौके पर जाकर स्थिति को संभाल लिया। इसके बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज में शिनाख्त कर चार लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के बाद यूपी कॉलेज में ही छात्रसंघ चुनाव हुआ है और पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा हो गया है। अभी सम्पूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय व हरिश्चन्द्र पीजी कॉलेज में छात्रसंघ चुनाव होना है अब देखना है कि पुलिस प्रशासन अपनी गलती से सबक लेता है कि नहीं।
यह भी पढ़े:-पांच राज्यों के आये एग्जिट पोल के बाद अनुप्रिया पटेल का बीजेपी गठबंधन को लेकर बड़ा बयान, ऐसे लड़ेंगे लोकसभा चुनाव 2019

हमेशा ही डीएम व एसएसपी को संभालनी पड़ती है स्थिति
शहर को अतिक्रमण से मुक्त करना हो या फिर बीएचयू में हंगामा शांत करना पड़ता है जबकि इस काम के लिए खुद पुलिस रहती है लेकिन उच्च अधिकारियों को हस्तक्षेप करना पड़ता है। पुलिस की कार्यप्रणाली ऐसी ही रही तो जिला व पुलिस प्रशासन के उच्चाधिकारी को अपना काम छोड़ कर अधीनस्थों की ड्यूटी करनी पड़ रही है।
यह भी पढ़े:-यूपी कॉलेज में छात्रसंघ के नये अध्यक्ष मिलिंद, उपाध्यक्ष अमन व महामंत्री शिवम सिंह बाबू निर्वाचित घोषित

Ad Block is Banned