9/11 की 18वीं बरसी पर काबुल को दहलाने की साजिश, रॉकेट से बनाया अमरीकी दूतावास को निशाना

9/11 की 18वीं बरसी पर काबुल को दहलाने की साजिश, रॉकेट से बनाया अमरीकी दूतावास को निशाना

Shweta Singh | Updated: 11 Sep 2019, 09:21:00 AM (IST) एशिया

  • ट्रंप ने हाल में रद्द की थी तालिबान के साथ वार्ता
  • तालिबान ने अमरीकियों पर हमले की दी थी धमकी

काबुल। अफगानिस्तान में अमरीकी दूतावास पर एक बड़े हमले को अंजाम दिया गया है। हमला रॉकेट से किया गया, जिसकी तीव्रता काफी खतरनाक स्तर वाली थी। यह हमला अमरीका के ट्रेड सेंटर पर हुए 9/11 की 18वीं बरसी पर किया गया है। बुधवार तड़के दूतावास के पास बड़ा विस्फोट हुआ। हालांकि, राहत की बात ये रही कि इसमें कोई घायल नहीं हुआ। परिसर के अधिकारियों ने विस्फोट के करीब एक घंटे बाद बताया कि सभी सुरक्षित हैं।

अफगान अधिकारियों की ओर से प्रतिक्रिया नहीं

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस रॉकेट हमले पर अफगान अधिकारियों की ओर से कोई तत्काल टिप्पणी नहीं आई है। जबकि नाटो मिशन ने बताया कि कोई भी कर्मी घायल नहीं हुआ है। आपको बता दें कि हाल ही में अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अमरीका-तालिबान शांति वार्ता को रद्द करने का ऐलान किया था। ट्रंप के इस ऐलान के बाद काबुल में यह पहला बड़ा हमला है। हालांकि किसी आतंकी संगठन ने अभी तक इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

ट्रंप के फैसले के बाद हुआ पहला बड़ा हमला

दरअसल, रविवार को ट्रंप ने अफगान सरकार और तालिबान के साथ अलग-अलग बैठकें प्रस्तावित की थी। लेकिन इससे ठीक पहले काबुल में तालिबान ने एक हमला किया, जिसमें एक अमरीकी सैनिक समेत 12 की मौत हो गई। इस हमले को तालिबान की बड़ी गलती बताते हुए ट्रंप ने अचानक अमरीका तालिबान वार्ता को रद्द करने का ऐलान कर दिया था।

दूसरी तरफ, ट्रंप के इस फैसले के बाद तालिबान ने कहा था कि इसका सबसे अधिक नुकसान अमरीका को ही होगा। तालिबान ने चेतावनी दी थी कि अब और अधिक अमरीकी मारे जाएंगे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned