अखिलेश के गढ़ में चंद्रशेखर का योगी पर हमला, कहा तानाशाही से नहीं चलता लोकतंत्र

आरोप, एक माह में दलितों के साथ दुष्कर्म सहित हुई 40 घटनाएं मौन है आजमगढ़ प्रशासन

यूपी सरकार एनकाउंटर के नाम पर विरोधियों की करा रही है हत्या

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
आजमगढ़. समाजवादी पार्टी के मुखिया पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ (Azamgarh) में पहुंचे भीम आर्मी (Bhim Army) के मुखिया चंद्रशेखर ने मंगलवार सीएम योगी और उनकी सरकार पर जमकर हमला बोला। कहा तानाशाही से लोकतंत्र नहीं चलता है। इस दौरान उन्होंने सरकार पर विरोधियों को एनकाउंटर में मरवाने का भी आरोप लगाया।

इसे भी पढ़ें- अखिलेश के गढ़ में चंद्रशेखर का योगी पर हमला, कहा तानाशाही से नहीं चलता लोकतंत्र

रोडवेज के समीप एक होटल में मीडिया से बात करते हुए चंद्रशेखर आजाद (Chandrshekhar Azad) ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था (स्ंू ंंंंंंंदक व्ततकमतममकक) पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। लोकतांत्रिक व्यवस्था पूरी तरह बेपटरी हो गई है। आजमगढ़ में एक माह में दुष्कर्म सहित दलितों व गरीब तबके साथ 40 घटनाएं हुईं और पुलिस प्रशासन पूरी तरह मौन रहा। सरकार सिर्फ अपनी नाकामियों को छिपाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि यूपी सरकार एनकाउंटर के नाम अपने विरोधियों को पुलिस से मरवा रही है।

इसे भी पढ़ें- भीम आर्मी मुखिया चंद्रशेखर की पुलिस से झड़प, बोले उतारूंगा सत्ता का नशा

चंद्रशेखर ने कहा कि तानाशाही से लोकतंत्र नहीं चलता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) अपने अधिकारियों व कर्मचारियों को ठीक करें। जनता का उत्पीड़न किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। किसान आंदोलन पर चर्चा करते हुए कहा कि कोरोना का बहाना बनाकर सरकार ने सदन सत्र समाप्त कर दिया। आज पूरे देश का किसान सड़क पर है लेकिन सरकार को उससे कोई लेना देना नहीं है। देश के गृहमंत्री किसानों (Home Minister) का दर्द समझने के बजाय बंगाल में रोड शो और सभा कर रहे हैं। किसानों की मांग जायज है। तीनों कृषि विधेयक वापस होने चाहिए।

इसे भी पढ़ें- गोरखपुर सीरियल ब्लास्ट में आजमगढ़ के तारिक काजमी को आजीवन कारावास

उन्होंने कहा कि किसी के हत्या का अधिकार किसी को नहीं है। पूर्व प्रधान सत्यमेव जयते अब नहीं रहे लेकिन उनके बच्चों की पढ़ाई कैसे होगी। परिवार अन्य जरूरते कैसे पूरी करेगा। प्रधान की हत्या से दलित समाज का जो सम्मान था वह भी चला गया। इसे कैसे लौटाएंगे। यहां बातें बड़ी बड़ी हो रही है लेकिन काम नहीं हो रहा है।

BY Ran vijay singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned