अस्पताल में उपचार के नहीं मिलने से बच्चे की माैत, लूड़ों खेलता रहा कंपाउंडर, डॉक्टर पर भी लापरवाही का आराेप

परिजनाें का आराेप है कि बच्चा तपड़ता रहा और कंपाउंडर लूड़ों खेलता रहा। बार-बार कहने पर भी उसने डॉक्टर काे नहीं बुलाया और समय पर उपचार नहीं मिलने पर बच्चे की माैत हाे गई।

By: shivmani tyagi

Updated: 26 Jun 2020, 05:13 PM IST

बिजनाैर। नजीबाबाद शहर में एक प्राईवेट नर्सिंग हाेम में भर्ती मासूम बच्चे की इलाज़ के अभाव में मौत हो गई। बच्ची के परिजनों ने अस्पताल के डॉक्टर और कंपाउंडर पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए बच्ची की जान जाने की बात कही है। बच्ची की मौत के बाद मृतक बच्ची के घर वालो का रो रोकर बुरा हाल है। मौके पर पहुँची पुलिस को मृतक बच्ची के परिजनों अस्पताल स्टाफ और डॉक्टर पर इलाज़ के दौरान लापरवाही बरतने के मामले में तहरीर दी है ।

यह भी पढ़ें: Ghaziabad: रियल एस्टेट कारोबारी की संदिग्ध परिस्थितियों में गिरकर मौत, उठ रहे कई सवाल

घटना शुक्रवार सुबह की है। बच्ची की तबीयत बिगड़ने पर परिजनों ने उसे नजीबाबाद के प्राइवेट अस्पताल में इलाज़ के लिये बच्ची को भर्ती कराया था। बच्ची के पिता विकास का आरोप है कि बच्ची की मौत डॉक्टर की लापरवाही से हुई है। इस घटना के बाद से परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों को समझाने की कोशिश की तो परिजनों का कहना था कि कंपाउंडर अस्पताल में ताश और लूड़ों खेल रहे थे। मेरे बार बार कहने पर भी कंपाउंडर ने डॉक्टर को नहीं बुलाया। फिर कुछ घंटे बाद डॉक्टर ने मेरी बच्ची को देखा तो बच्ची की मौत हो चुकी थी।

यह भी पढ़ें: जिन लोगों को जेल से होना था रिहा, कोविड-19 के चलते अब 14 दिन और खानी होगी जेल की हवा

डॉक्टर ने फिर भी बच्ची को इलाज़ के लिये बिजनौर रेफर कर दिया। मृतक बच्ची के पिता विकास ने निजी अस्पताल के डॉक्टर और स्टाफ पर इलाज़ के दौरान लापरवाही का आरोप लगाते हुए तहरीर थाने में दी है। इस घटना को लेकर सीओ नजीबाबाद ने फोन पर बताया कि पूरे घटना की जांच कराई जा रही है। जांच के बाद निजी चिकित्सक सहित स्टाफ पर कार्यवाही की जाएगी।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned