बिहार और कर्नाटक के लिए केंद्र ने खोला अपना खजाना, दोनों राज्यों को बांटे 1600 करोड़

बिहार और कर्नाटक के लिए केंद्र ने खोला अपना खजाना, दोनों राज्यों को बांटे 1600 करोड़

Saurabh Sharma | Updated: 05 Oct 2019, 09:20:24 AM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फंड से बिहार को 400 करोड़ रुपए मिले
  • कर्नाटक को एनडीआरएफ की ओर से 1200 करोड़ रुपए देने की घोषणा

नई दिल्ली। बाढ़ ने पूूरे देश को अपनी चपेट में लिया हुआ है। फिर चाहे वो पूर्वी भारत को या फिर दक्ष्रिण भारत। बाढ की वजह से देश के कई राज्यों को काफी नुकसान हो चुका है। लाखों करोड़ों लोग अपने घरों से बेघर हो चुके हैं। जिसे देखते हुए केंद्र सरकार की ओर से दो राज्यों के लिए अपने खजाने खोल दिए हैं। वास्तव में बिहार और कर्नाटक में सैकड़ों लोगों की जान भी जा चुकी है। ऐसे में नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फंड से राशि देने की घोषणा की गई है।

यह भी पढ़ेंः- तीन दिनों में 50 पैसे प्रति लीटर से ज्यादा सस्ता हुआ पेट्रोल, डीजल के दाम में कटौती जारी

दोनों राज्यों को दिए 1600 करोड़ रुपए
बाढ़ से प्रभावित बिहार और कर्नाटक को केंद्र सरकार की ओर 1600 करोड़ की मदद का ऐलान हुआ है। नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फंड के माध्यम से बिहार को 400 करोड़ और कर्नाटक को 1200 करोड़ रुपए की राशि देने की घोषणा की गई है। इसके अलावा केंद्र सरकार ने बिहार के एसडीआरएफ के लिए अपने हिस्से की दूसरी किस्त को अग्रिम रूप से जारी करने का फैसला किया है। इसके तहत राज्य को 213.75 करोड़ रुपए मिलेंगे।

यह भी पढ़ेंः- प्याज की तरह दालों पर नहीं लगाई जाएगी स्टॉक लिमिट

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा मौतें
गृह मंत्रालय के अनुसार इस वर्ष मनसून में बारिश और बाढ़ के कारण करीब 1,900 लोगों की मौत हो चुकी है। साथ ही 46 लोगों का कुछ भी पता नहीं लग सका है। 22 राज्यों में करीब 25 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। अधिकारियों के अनुसार बारिश, बाढ़ और भूस्खलन से सबसे अधिक मौतें महाराष्ट्र में 382 लोगों की हुई है। जिसके बाद 227 मौतों के साथ पश्चिम बंगाल नंबर दूसरे स्थान पर हैं।

यह भी पढ़ेंः- प्रधानमंत्री ने स्वच्छता अभियान के लिए रिलायंस, टाटा समूह को सराहा

एक लाख से ज्यादा घर बर्बाद
देश के करीब 357 जिले बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं से प्रभावित हुए। जिसके वजह से 738 लोग घायल और करीब 20 हजार मवेशियों की भी इस दौरान मौत हो चुकी है। 1.09 लाख घर पूरी तरह से तबाह हो गए हैं, 2.05 लाख मकानों को आंशिक क्षति पहुंची है और 14.14 लाख हेक्टेयर फसल बर्बाद हो चुकी है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned