पाकिस्तान की खुली पोल, दाऊद के गुर्गे जाबिर को बचाने के लिए कर रहा हर संभव कोशिश

पाकिस्तान की खुली पोल, दाऊद के गुर्गे जाबिर को बचाने के लिए कर रहा हर संभव कोशिश

Anil Kumar | Updated: 02 Jul 2019, 10:56:18 PM (IST) यूरोप

  • Dawood Ibrahim के गुर्गे जाबिर मोतीवाला ( Jabir Motiwala ) को बचाने की कोशिश में है पाकिस्तान
  • जाबिर लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में मनी लॉंड्रिंग, ड्रग्स तस्करी व अन्य आरोपों में बंद है

लंदन। आतंक के खिलाफ लड़ाई को लेकर हमेशा दोहरा चरित्र दिखाने वाले पाकिस्तान की पोल एक बार फिर से खुल गई है। दरअसल, मोस्ट वांटेड आतंकी दाऊद इब्राहिम के खास गुर्गा जाबिर मोतीवाला ( D-Company's top lieutenant Jabir Motiwala ) को बचाने के लिए पाकिस्तान पूरी ताकत लगा रहा है।

लंदन स्थित पाकिस्तान के राजनयिक दाऊद के करीबी जाबिर को अमरीका में प्रत्यर्पण ( extradition of Jabir Motiwala to United States ) को लेकर रोड़ा अटकाने की कोशिश कर रहे हैं। पाकिस्तान को लग रहा है कि यदि ऐसा हुआ तो दुनिया के सामने फिर से उसकी पोल खुल जाएगी।

दाऊद इब्राहिम नहीं बल्कि ये है दुनिया का सबसे अमीर डॉन, जानें दहशत बड़ी है या दौलत

वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में जाबिर मोतीवाला के प्रत्यर्पण की याचिका पर सुनवाई के दौरान पकिस्तानी राजनयिकों ने दलील दी कि मोतीवाला गंभीर अवसाद से ग्रस्त है।

वह अमरीका जाने की स्थिति में नहीं है। इतना ही नहीं, पाकिस्तानी राजनयिकों ने यहां तक दलील दी कि जोबिर कई बार आत्महत्या का भी प्रयास कर चुका है।

जाबिर मोतीवाला

लंदन की जेल में बंद है जाबिर मोतीवाला

मालूम हो कि जाबिर मोतीवाला लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में बंद हैं। मोतीवाला कराची में रहता था और उसके पास ब्रिटेन का 10 साल का वीजा है। जाबिर पर धनशोधन ( money laundering ) धनशोधन, ड्रग तस्करी और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के साथ काम करने का आरोप है। जाबिर को दाऊद का के बहुत करीबी माना जाता है।

2018 में लंदन में धनशोधन और ड्रग तस्करी के आरोपों में फैड्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन ( fbi ) की सूचना पर जाबिर को गिरफ्तार किया गया था। अब अमरीका में प्रत्यर्पण को लेकर पाकिस्तान जाबिर को बचाने की कोशिश कर रहा है।

सीज होगी अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की संपत्ति, सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को दिया आदेश

भारतीय एजेंसियों के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान ने सुनवाई के दौरान कोर्ट को बताया कि मोतीवाला को पाकिस्तान का एक प्रसिद्ध और सम्मानित कारोबारी है।

दाऊद इब्राहिम और जाबिर मोतीवाला

जाबिर मोतीवाला पर ये है आरोप

बता दें कि 2018 में स्कॉटलैंड यार्ड की प्रत्यर्पण इकाई ने मनी लॉंड्रिंग और डी-कंपनी के जरिए कमाए गए नारकोटिक्स धन को साझा करने के आरोपों में गिरफ्तार किया था। इसके बाद जाबिर को में मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया।

अमरीका की ओर से कोर्ट में पेस हुए वकील जॉन हार्डी ने दलील दी कि मोतीवाला दाऊद के लिए काम करता है। साथ ही दाऊद के लिए अंडरवर्ल्ड से जुड़ी गतिविधियों को लिए मीटिंग में शामिल होता है।

जॉन ने कोर्ट को यह भी बताया कि मोतीवाला ड्रग्स ट्रैफिकिंग में शामिल है और डी कंपनी के नाम पर यूरोपीय देशों में भी उगाही करता है।

क्यों डर रहा है पाकिस्तान?

दाऊद के करीबी जाबिर मातीवाला के प्रत्यर्पण को लेकर आखिर पाकिस्तान इतना क्यों डर रहा है। दरअसल, पाकिस्तान दाऊद के लिए सबसे सुरक्षित पनाहगार है।

ऐसे में यदि जाबिर का प्रत्यर्पण होता है तो उसके अंडरवर्ल्ड नेटवर्क और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी इंटर सर्विसिस इंटेलिजेंस की साठगांठ का भी खुलासा हो जाएगा।

अंडर वर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के करीबी की कोर्ट में पेशी, 25 सितंबर को होगी अगली सुनवाई

इसके अलावा पाकिस्तान आतकंवाद के खिलाफ लडा़ई की बात करता है लेकिन अमरीका ने दाऊद इब्राहिम ( Dawood Ibrahim ) को पहले ही एक वैश्विक आतंकवादी घोषित कर चुका है।

अब दाऊद के पाकिस्तान के साथ लिंक सामने आ जाते हैं तो विश्व जगत में पाकिस्तान की फिर से किरकिरी हो सकती है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned