यादव सिंह और उसके परिवार पर आरोप तय, अब कुल 9 लोगों पर चलेगा केस

यादव सिंह और उसके परिवार पर आरोप तय, अब कुल 9 लोगों पर चलेगा केस

lokesh verma | Publish: Sep, 08 2018 10:24:34 AM (IST) Ghaziabad, Uttar Pradesh, India

बहुचर्चित टेंडर घोटाले में आरोपी यादव सिंह एवं उसके परिवार पर सीबीआई कोर्ट में आरोप तय

नोएडा. बहुचर्चित टेंडर घोटाले में आरोपी यादव सिंह एवं उसके परिवार पर शुक्रवार को गाजियाबाद स्थिति सीबीआई कोर्ट में आरोप तय हो गए हैं। यानि अब यादव सिंह समेत उसके परिवार एवं सहयोगियों समेत कुल 9 अभियुक्तों पर मुकदमा चलेगा। सीबीआई की विशेष अदालत ने यादव सिंह और उनके परिवार के चार सदस्यों पर भी आरोप तय किए गए हैं। आरोपियों में पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह के साथ जेल में बंद उनका बेटा सन्नी, पुत्रवधू श्रेष्ठा सिंह, दोनों बेटियां गरिमा भूषण, करुर्णा सिंह शामिल हैं। सीबीआई ने उनकी तीन कंपनियां और एक ट्रस्ट को भी आरोपी बनाया है।

यूपी फिर शर्मसार: यमुना एक्सप्रेस-वे पर लिफ्ट देने के बहाने कक्षा 3 की छात्रा से हैवानियत

इस दौरान तमाम जांच के बाद सीबीआई की जांच में पाया कि यादव सिंह और उसके पूरे परिवार की संपत्ति आय से करीब 500 प्रतिशत ज्यादा है। इस पूरी आय के मामले में सीबीआई द्वारा यादव सिंह और उसके परिवार एवं उसके सहयोगियों से तमाम दस्तावेज मांगे गए थे। इसमें साफ तौर पर पाया गया कि कालेधन को नंबर 1 के करने में भी इसकी कुछ सहयोगी कंपनियां और पूरा परिवार शामिल रहा है, जिसे देखते हुए इन पर सीबीआई द्वारा तमाम चार्ज फ्रेम किए गए हैं। सीबीआई के वरिष्ठ लोक अभियोजक वीके सिंह ने बताया कि शुक्रवार को पेशी के दौरान सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा यादव सिंह समेत कुल 9 अभियुक्तों पर आरोप तय किए गए हैं, जिसके चलते अब यादव सिंह की मुश्किल और बढ़ गई हैं। क्योंकि यादव सिंह समेत अब कुल 9 अभियुक्तों पर मुकदमा चलेगा। इसकी अगली सुनवाई 12 सितंबर को होनी निश्चित हुई है।

Good News: मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के इस कदम के बाद यह कंपनी 14 हजार लोगों को देगी नौकरी

उन्होंने बताया कि राखी और तीन कंपनियां कुसुम गारमेंट प्राइवेट लिमिटेड, मिस केएस अल्ट्राटेक प्राइवेट लिमिटेड, मिस हित्विकी क्रिश्चियन प्राइवेट लिमिटेड और ट्रस्ट पीजीपी चैरिटेबल को भी आरोपी बनाया था। इनकी मदद से ही यादव सिंह ने तमाम काले धन को नंबर 1 में साबित करने का प्रयास किया था। तमाम जांच के बाद यादव सिंह और उसका परिवार एवं अन्य सहयोगी कंपनी अभी पूरे मामले में दोषी पाई गई हैं।

सड़क पर तड़प रहा था हादसे में घायल युवक, महिला मजिस्ट्रेट ने अपनी कार में डालकर पहुंचाया अस्पताल

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned