भारत आए मेहमानों को सिखाई जाएगी हिंदी, यूनिवर्सिटी ने इसलिए उठाया ये बड़ा कदम

भारत आए मेहमानों को सिखाई जाएगी हिंदी, यूनिवर्सिटी ने इसलिए उठाया ये बड़ा कदम

Virendra Sharma | Publish: Mar, 14 2018 12:36:57 PM (IST) | Updated: Mar, 14 2018 01:55:50 PM (IST) Greater Noida, Uttar Pradesh, India

कम्यूनिकेशन गैप कम करने के लिए यूनिवर्सिटी उठा रही हैं यह कदम

 

ग्रेटर नोएडा. देश में ग्रेटर नोएडा एजूकेशन हब के नाम से मशहूर है। यहां सैकड़ों इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट और यूनिवर्सिटी मौजूद है। हर साल देश-विदेश से लाखों स्टूडेंट्स अपना करियर संवारने के लिए ग्रेटर नोएडा आते है। इनदिनों कॉलेज और यूनिवर्सिटी में एडमिशन का दौर शुरू हो गया है। पिछले कुछ सालों में देश और विदेशी छात्रों के बीच में हुए विवाद से कॉलेज और यूनिवर्सिटी संचालकों की टेंशन बढ़ी है। इस बार कॉलेज और यूनिवर्सिटी संचालक देश और विदेशी छात्रों के बीच में कम्यूनिकेशन गैप को खत्म करना चाहते है। लिहाजा विदेशी छात्रों के लिए अलग से हिंदी की क्लास लगाने पर विचार कर रहे है।

यह भी पढ़ें: VIDEO: इस सुपरहिट मूवी में काम कर चुकी यह लड़की नहीं बनना चाहती बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस, जानिए क्यों?

कॉलेज और यूनिवर्सिटी संचालकों की माने तो इसका फायदा यह होगा कि देश और विदेश के स्टूडेंट्स के बीच में कम्यूनिकेशन गैप नहीं होगा। दरअसल में दोनोें एक-दूसरे को आसानी के समझ सकते है। भाषा की वजह भी कई बार टकराव की स्थिति पैदा कर देती है। हालांकि ग्रेटर नोएडा एजूकेशन हब में पढ़ाई करने आने वाले स्टूडेंट्स काफी हिंदी सीखने में भी रुचि रखते है। संचालकों की माने तो विदेशी छात्रों को इस बार अलग से हिंदी की क्लास दी जाएगी। यहां साउथ अफ्रीका, नाइजीरिया, जापान, अफगानिस्तान, भूटान, कोरिया समेत कई अन्य देशों से पढ़ाई करने के लिए आते है।

पकौड़ा बेचने को रोेजगार बताना पीएम मोदी पर पड़ेगा भारी, अन्ना के नेतृत्व में लाखों छात्र खोलेंगे मोर्चा

शारदा यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्ट्रार अजीत सिंह ने बताया कि विदेशी छात्रों को आम बोलचाल की भाषा सिखाई जाएगी। ताकि विदेशी छात्र आसानी के साथ इंडियंस के साथ में घुल मिल सके। दरअसल में पिछले साल मार्च माह में परीचौक पर नाइजीरियंस को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया था। वहीं आए दिन देश और विदेश के छात्रों में तनाव की स्थिति बनी रहती है। ऐसे में विदेशी छात्रों को आम बोलचाल के शब्द सिखाए जाएंगे।

यूपी के इस शहर में लोगों को रोजगार के साथ मिलेगा बेहतर इलाज, जानिए कैसे

Ad Block is Banned