scriptBrain Tumor Day : ऐसे संकेत मिलते ही तुरंत जाएं अस्पताल, जानिए लक्षण, प्रकार और उपचार | Brain Tumor Day: symptoms, types and treatment | Patrika News
स्वास्थ्य

Brain Tumor Day : ऐसे संकेत मिलते ही तुरंत जाएं अस्पताल, जानिए लक्षण, प्रकार और उपचार

Brain Tumor Day 8 june : आज 8 जून को वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे (World Brain Tumor Day) के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य इस बीमारी के बारे में जागरूक करना है। ब्रेन ट्यूमर या ब्रेन कैंसर दिमाग या उसके आसपास कैंसर सेल्स बढ़ने लगती हैं।

Jun 08, 2023 / 10:23 am

Manoj Kumar

brain-tumor-day-8-june.jpg

Brain Tumor Day 8 june : आज 8 जून को वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे (World Brain Tumor Day) के रूप में मनाया जाता है।

Brain Tumor Day 8 june : : आज 8 जून को वर्ल्ड ब्रेन ट्यूमर डे (World Brain Tumor Day) के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य इस बीमारी के बारे में जागरूक करना है। ब्रेन ट्यूमर या ब्रेन कैंसर दिमाग या उसके आसपास कैंसर सेल्स बढ़ने लगती हैं। ब्रेन ट्यूमर दिमाग में शुरू हो सकता है, जिसे प्राइमरी ब्रेन ट्यूमर कहा जाता है। कभी-कभी कैंसर शरीर के अन्य हिस्सों से दिमाग में फैलता है, जिसे सेकेंडरी ब्रेन ट्यूमर कहा जाता है, जिसे मेटास्टेटिक ब्रेन ट्यूमर भी कहा जाता है।
कई अलग-अलग प्रकार के ब्रेन ट्यूमर मौजूद हैं। कुछ ब्रेन ट्यूमर (Brain tumour) कैंसर रहित होते हैं। और कुछ ब्रेन ट्यूमर कैंसरयुक्त पाए जाते हैं। ब्रेन ट्यूमर आपके मस्तिष्क (प्राथमिक ब्रेन ट्यूमर) में शुरू हो सकता है, या कैंसर आपके शरीर के किसी भी भागों में शुरू हो सकता है और आपके मस्तिष्क (माध्यमिक, या मेटास्टेटिक, ब्रेन ट्यूमर) में फैल सकता है। ब्रेन ट्यूमर के उपचार के विकल्प आपके ब्रेन ट्यूमर के प्रकार, साथ ही उसके आकार और स्थान पर निर्भर करते हैं।
यह भी पढ़ें

Brain Tumor Remedy: आयुर्वेद में है ब्रेन ट्यूमर का सटीक इलाज, जानिए तीन आयुर्वेदिक उपाय

बच्चों में ब्रेन ट्यूमर के वो चेतावनी संकेत जो आपके लिए जानने जरूरी हैं:

सिरदर्द: ब्रेन ट्यूमर का सामना करने वाले कई बच्चे अपने निदान से पहले सिरदर्द का अनुभव करते हैं। लेकिन बहुत से बच्चों के सिर में दर्द की शिकायत रहती है। लेकिन उनमें से अधिकांश को ब्रेन ट्यूमर नहीं होता है। कई बार यह सिरदर्द सुबह-सुबह बहुत ज्यादा बढ़ जाता है। यह आंशिक रूप से इसलिए है क्योंकि जब आप लेटते हैं तो मस्तिष्क में दबाव बढ़ जाता है। और अगर आपको ट्यूमर है तो स्थिति और भी खराब हो सकती है।
मतली और उल्टी: मतली और उल्टी फ्लू या फ्लू जैसी बीमारियों के दो सामान्य लक्षण हैं। हालांकि, दुर्लभ मामलों में ये लक्षण ब्रेन ट्यूमर के कारण हो सकते हैं जिससे मस्तिष्क के अंदर दबाव बढ़ जाता है। यदि ये लक्षण बने रहते हैं या सिरदर्द भी साथ में रहता है तो अपने बच्चे को किसी अच्छे बाल रोग विशेषज्ञ को दिखाना चाहिए।
यह भी पढ़ें

Heart Attack : स्टडी ने बड़ा खुलासा! : सोमवार को आते है सर्वाधिक हार्ट अटैक, जानिए

बड़ी वजह

नींद न आना: एक अच्छी नींद वाला बच्चा आमतौर पर एक बार जगाने या अलार्म से उठ जाता है। लेकिन यदि ऐसा नहीं हो रहा हो तो आप अपने बच्चे पर ध्यान दें। यदि आपका बच्चा बिना किसी कारण के सुस्त, या ज्यादा सो रहा है तो उसकी सेहत पर ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है।
देखने, सुनने या भाषा में परिवर्तन: मरीज की परेशानी ट्यूमर किसी स्थान पर हुआ है इस आधार पर निर्भर करती है। इसके कई बार देखने, सुनने और बोलने में परेशानी हो सकती हैै। इनमें से कई बच्चों को ऐसी चुनौतियां हैं जिनका ब्रेन ट्यूमर से कोई लेना-देना नहीं होता है। फिर भी आपके बच्चे के देखने, सुनने और बातचीत में किसी भी तरह की परेशानी या अचानक हुए बदलाव का मूल्यांकन किसी चिकित्सक द्वारा किया जाना चाहिए।
यह भी पढ़ें

पीसीओएस नहीं बनेगा मां बनने में रुकावट, जानिए पीसीओएस क्या है?

व्यक्तित्व परिवर्तन: अगर आपके बच्चे में व्यक्तित्व परिवर्तन देखने में मिल रहा है । तो ये ब्रेन ट्यूमर के कारण हो सकते हैं जो सेरेब्रल कॉर्टेक्स को प्रभावित कर रहा है। यदि आपके बच्चे का मिजाज या व्यक्तित्व में बदलाव अचानक या गंभीर लगता है तो तुरंत किसी बाल रोग विशेषज्ञ को दिखाएं।
संतुलन की समस्या: यदि ट्यूमर ब्रेन स्टेम के पास है तो यह संतुलन की समस्या पैदा कर सकता है। अधिकांश बच्चों के लिए टंबल्स और फॉल्स जीवन का एक नियमित हिस्सा हैं। लेकिन छोटे बच्चों में संतुलन की गंभीर या बिगड़ती समस्याएं होने पर आपने डॉक्टर को आवश्य मिलें। यदि आपके बड़े बच्चे को अचानक अपना संतुलन बनाए रखने में कठिनाई होती है तो डॉक्टर यह निर्धारित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं कि ऐसा क्यों हो रहा है।
दौरे पड़ना: जब ब्रेन ट्यूमर मस्तिष्क की सतह पर होता है तो यह दौरे का कारण बन सकता है। यदि आपका बच्चा दौरे का अनुभव कर रहा है तो आप डॉक्टर को जरूर दिखाएं। इसका कारण ट्यूमर या कुछ और हो सकता है।
सिर का बढ़ता हुआ आकार: जब बच्चे छोटे होते हैं तो उनकी खोपड़ी की हड्डियाँ आपस में जुड़ी हुई नहीं होती क्योंकि ये हड्डियाँ अभी भी नरम होती हैं। ब्रेन ट्यूमर उनके सिर को असामान्य तरीके से बढ़ने का कारण बन सकता है। यदि आप अपने बच्चे के सिर के आकार में एक तरफ उभार या कोई अन्य गंभीर परिवर्तन देखते हैं तो आपका डॉक्टर यह तय करने में आपकी मदद कर सकता है कि इसके लिए क्या करना चाहिए।
यह भी पढ़ें

दिल पर भारी पड़ती है विटामिन डी की कमी, 40 की उम्र के बाद संभल जाएं नहीं तो

ब्रेन ट्यूमर के प्रकार (Types of brain tumour)
ब्रेन ट्यूमर के दो मुख्य प्रकार होते हैं – प्राइमरी और मेटास्टेटिक (Metastatic)या सेकेंडरी। प्राथमिक ब्रेन ट्यूमर मस्तिष्क के भीतर उत्पन्न होते हैं। वे बिनाइग्न (benign) हो सकते हैं। एक माध्यमिक ब्रेन ट्यूमर, जिसे मेटास्टेटिक ब्रेन ट्यूमर के रूप में भी जाना जाता है, तब होता है जब कैंसर कोशिकाएं आपके मस्तिष्क में किसी अन्य अंग, जैसे कि आपके फेफड़े या स्तन में फैल जाती हैं।

ये कोशिकाएं न्यूरॉन्स को घेरकर और पकड़कर, तंत्रिका कोशिकाओं को पोषक तत्वों और ऑक्सीजन की आपूर्ति करके, मृत न्यूरॉन्स को हटाकर और एक दूसरे से न्यूरॉन्स को इन्सुलेट करके तंत्रिका तंत्र का समर्थन करती हैं। ग्लिओमास के उदाहरण हैंः
एस्ट्रोसाइटोमा: ये मस्तिष्क के मस्तिष्क में विकसित होते हैं।
ओलिगोडेन्ड्रोग्लिओमा: ट्यूमर ये मस्तिष्क के सामने टेम्पोरल लोब में होते हैं।
गलायोब्लास्टोमा: ये बहुत आक्रामक ट्यूमर हैं और मस्तिष्क के सहायक ऊतक में विकसित होते हैं।

ब्रेन ट्यूमर का इलाज (Brain tumour treatment)

सर्जरी: मैलिग्नेंट ब्रेन ट्यूमर के लिए यह सबसे आम उपचार है। सर्जन स्वस्थ मस्तिष्क के ऊतकों को नुकसान पहुंचाए बिना अधिक से अधिक कैंसर कोशिकाओं को हटा देती है। रक्तस्राव और संक्रमण सर्जरी के 2 संभावित दुष्प्रभाव हैं। बिनाइन ब्रेन ट्यूमर को सर्जरी के जरिए भी हटाया जा सकता है।
मिनिमल इनवेसिव सर्जरी: न्यूरो सर्जन इस ब्रेन ट्यूमर सर्जरी के लिए कैंसर कोशिकाओं को हटाने के लिए मिनिमल इनवेसिव तकनीकों का उपयोग करते हैं। यह तकनीक आपके अस्पताल में रहने की अवधि को कम करती है, आपके ठीक होने में लगने वाले समय को भी घटाती है ।
रेडिएशन थेरेपी: इस प्रकार के ब्रेन ट्यूमर उपचार में, ट्यूमर कोशिकाओं को मारने के लिए एक्स-रे या प्रोटॉन बीम जैसे विकिरण यानी कि रेडिएशन का उपयोग किया जाता है। यह बाहरी बीम विकिरण द्वारा किया जा सकता है, जहां आप एक मशीन के सामने बैठते हैं और एक सुरक्षात्मक आवरण पहनते हैं, जिससे केवल ट्यूमर क्षेत्र उजागर होता है। यह थेरेपी ब्रैकीथेरेपी के माध्यम से भी की जा सकती है – ब्रेन ट्यूमर के पास आपके शरीर के अंदर एक उपकरण रखा जाता है जो ट्यूमर कोशिकाओं को मारने के लिए विकिरण की जाती है। इस थेरेपी के साइड-इफेक्ट्स में थकान, याददाश्त कम होना, सिरदर्द और खोपड़ी में जलन शामिल हैं।
कीमोथेरेपी: इसमें दवाओं को शरीर में इंजेक्ट किया जाता है और वे ट्यूमर कोशिकाओं को लक्षित कर मारते हैं। कीमोथेरेपी के कारण बालों का झड़ना, उल्टी, जी मिचलाना और थकान जैसे दुष्प्रभाव होते हैं।
टारगेडेट थेरेपी: कुछ प्रकार के ब्रेन ट्यूमर का इलाज उन दवाओं से किया जाता है जो ट्यूमर कोशिकाओं में मौजूद विशिष्ट असामान्यताओं को अवरुद्ध करके उन्हें लक्षित करती हैं। इससे कैंसर की कोशिकाएं मर जाती हैं।
रेडियो सर्जरी: सर्जरी की तरह ही इस उपचार में ट्यूमर कोशिकाओं को मारने के लिए रेडिएशन के कई बीम ब्रेन ट्यूमर को केंद्रित किया जाता है। रेडिएशन से ब्रेन ट्यूमर का इलाज करने के लिए लीनियर एक्सेलरेटर और गामा नाइफ जैसी विभिन्न तकनीकों का उपयोग किया जाता है।

Hindi News/ Health / Brain Tumor Day : ऐसे संकेत मिलते ही तुरंत जाएं अस्पताल, जानिए लक्षण, प्रकार और उपचार

ट्रेंडिंग वीडियो