सावन विशेष : एक पैर पर खड़े रहकर बनाते थे शिवलिंग, यहां 12 ज्योतिर्लिंग के एकसाथ होते हैं दर्शन

सावन विशेष : एक पैर पर खड़े रहकर बनाते थे शिवलिंग, यहां 12 ज्योतिर्लिंग के एकसाथ होते हैं दर्शन

Hussain Ali | Updated: 22 Jul 2019, 12:11:14 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

अद्र्धनारीश्वर तो कभी गणपति रूप में दर्शन देते हैं गेंदेश्वर महादेव

इंदौर. परदेशीपुरा स्थित श्री गेंदेश्वर द्वादश ज्योतिर्लिंग मंदिर में पूरे वर्ष जहां विशेष अनुष्ठान होते है वहीं अन्य शहरों के शृंगार के कलाकारों से विशेष शृंगार भी किए जाते है। कभी अद्र्ध नारेश्वर तो कभी सूर्य भगवान तो कभी पुत्र गणेश के रूप में भक्तों को दर्शन देते है। सालभर बुधवार और रविवार को शृंगार तय किया है। जबकि महा शिवरात्रि और अन्य पर्व -उत्सव पर विशेष शृंगार किया जाता है। शिवधाम के नाम से प्रचलित मंदिर में देश के 12 ज्योतिर्लिंग बनाए गए है।

must read : रामेश्वर में ज्योतिर्लिंग को छू भी नहीं सकते, यहां तो हर कोई महाकाल को रगड़ता दिखता है

मंदिर प्रबंधक राजेश विजयवर्गीय बताते है कि उनके दादाजी गेंदालाल विजयवर्गीय भोलेनाथ के भक्त थे। रोजाना एक पैर पर खड़े होकर पार्थिव शिवलिंग हाथ पर बनाते और अभिषेक करते थे। उनकी इच्छा के अनुसार मंदिर का निर्माण किया है। नर्मदा किनारे से शिवलिंग लाया गया है। पूरे साल भर जहां हर पर्व मनाया जाता है वहीं विशेष शृंगार भी किया जाता है। कई स्वरूपों में भोलेनाथ भक्तों को दर्शन देते है।

indore

संस्कृति के साथ तिलक भी पहचान

भोले बाबा के श्रृंगार का ध्यान इस तरह किया जाता है कि आने वाले भक्तों को अपनी पारंपरिक संस्कृति के साथ वेद और अन्य परंपराओं का भी ज्ञान हो। कई तरह के तिलक का भी शृंगार किया जाता है। बुधवार को पुत्र गणेश और रविवार को सूर्य भगवान का श्रृंगार ही होता है। शृंगार में ६ घंटे लगते हंै। जलाशय बनाकर नौका विहार, फूल बंगला, अमरनाथ बाबा, कैलाश पर्वत, केदारनाथ की गुफाएं सहित कई थीम पर शृंगार हो चुका है।

must read : सावन के पांच दिन सूखे निकले, अलसुबह आधे घंटे बरसे बादल और फिर रूठ गए

भक्तों की श्रद्धा पर शृंगार

भक्त जो सामग्री देते हैं उसके आधार पर शृृंगार किया जाता है। भांग, ड्रायफ्रूट, वस्त्र, नवरत्न, जरी-गोटा सहित कई सामग्री का उपयोग होता है। महाशिवरात्रि, जन्माष्टमी, हरतालिका तीज, गुरु पूर्णिमा, सावन सोमवार सहित कई बड़े दिनों पर विशेष अनुष्ठान, शृंगार भी होते हैं।

पार्थिव शिवलिंग बनाने का महत्व

पार्थिव शिवलिंग का बनाने का सबसे अधिक महत्व है। पूरे 365 दिन पार्थिव शिवलिंग का निर्माण कर अभिषेक किया जाता है। सावन में प्रतिदिन 11 हजार और सोमवार को 31 हजार पार्थिव शिवलिंग बनाए जाते है। इनका अभिषेक कर बाद में नर्मदा में विसर्जन होता है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned