बिस्टान हिंसा मामला : SP के बाद SDOP पर गिरी गाज, सरकार ने किया निलंबित

बिस्टान हिंसा मामले में सरकार द्वारा एक और बड़ा एक्शन लेते हुए भीकनगांव के एसडीओपी प्रवीण कुमार उईके को भी सोमवार को निलंबित कर दिया गया है।

By: Faiz

Published: 13 Sep 2021, 09:45 PM IST

खरगोन. मध्य प्रदेश के खरगोन जिले के बिस्टान थाने में लूट के आरोप में पकड़े गए बिशन नामक युवक की पुलिस कस्टडी में मौत के मामले में सरकार द्वारा एक और बड़ा एक्शन लेते हुए भीकनगांव के एसडीओपी प्रवीण कुमार उईके को भी सोमवार को निलंबित कर दिया गया है। राज्य शासन की ओर से उनके खिलाफ कार्रवाई करने की वजह अपने कर्तव्य पालन में गंभीर लापरवाही बताया है।

खरगोन जिले के थाना बिस्टान में पुलिस अभिरक्षा में पिटाई के कारण हुई बिशन आदिवासी की मौत के मामले में पुलिस की गंभीर लापरवाही सामने आई है। इस संबंध में रविवार को खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो जारी करते हुए खरगोन एसपी शैलेंद्र कुमार चौहान को हटाने की पुष्टि की थी। इससे पहले जेल अधीक्षक जी एल औसारी समे बिस्टान थाने के 4 पुलिस कर्मियों को निलंबित किया था। इसके बाद आज भीकनगांव एसडीओ प्रवीण कुमार उईके को भी निलंबित किया गया है। गृह विभाग के अवर सचिव के हस्ताक्षर से जारी आदेश के अनुसार प्रवीण कुमार उईके को इस पूरे मामले में कमजोर परीक्षण और कर्तव्य में लापरवाही का प्रथम दृष्टया दोषी पाया गया है। निलंबन की अवधि में उनका मुख्यालय पुलिस मुख्यालय भोपाल होगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- बिस्टान हिंसा मामले में सीएम शिवराज का बड़ा एक्शन, खरगोन SP को हटाया गया


जानिये मामला

News

बिशन भील नामक युवक को चार सितंबर को बिस्टान पुलिस ने 11 अन्य लोगों के साथ खरगोन जिले के खेरकुंडी गांव में लूट और डकैती के मामले में गिरफ्तार किया था। उसे खरगोन उप-जेल में रखा गया था, जहां 6-7 सितंबर की दरमियानी रात करीब 2 बजे उसकी मौत हो गई थी। उसकी मौत से के बाद आदिवासियों की भीड़ ने 7 सितंबर की सुबह खरगोन जिले के बिस्टान थाने का घेराव कर पथराव कर दिया। पथराव में जहां एक तरफ 3 पुलिसकर्मी घायल हुए, तो वहीं कई वाहन क्षतिग्रस्त भी हुए थे।

 

कच्ची सड़क बनी मुसीबत, घायलों को खाट पर ले जाना पड़ता है अस्पताल - देखें Video

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned