फेसबुक को दीजिए ये जानकारी, सबूत मिलने पर कंपनी देगी 26 लाख रुपए

फेसबुक को दीजिए ये जानकारी, सबूत मिलने पर कंपनी देगी 26 लाख रुपए

Saurabh Sharma | Updated: 11 Apr 2018, 03:48:32 PM (IST) कॉर्पोरेट

कंपनी की ओर से 500 डॉलर से लेकर 40,000 डॉलर यानी करीब 26 लाख रुपए तक का इनाम दि‍या जाएगा।

नई दिल्ली। डाटा लीक मामले को लेकर फेसबुक की चोतरफा आलोचना हो रही है। कई बड़े नाम फेसबुक को अलविदा कह चुके हैं या फिर करने की घोषणा कर चुके हैं। ऐसे में फेसबुक के संस्‍थापक मार्क जुकरबर्ग एक नई तककीब लेकर आए हैं। जिससे डाटा लीक मामले को रोका जा सके। खास बात यह है कि मार्क जुकरबर्ग यह तरीका उस वक्‍त लेकर आए हैं जब उन्‍हें अमरीकी संसद में पेश होना है।

इनाम देंगे की हुई घोषणा
डाटा लीक या यूं कहें कि डाटा मि‍सयूज के मामले को लेकर फेसबुक अब पूरी तरह से गंभीर हो चुका है। जिसके तहत फेसबुक कुछ नए उपायों लेकर सामने आया है। फेसबुक में तमाम तरह के बदलाव करने के बाद अब कंपनी ने ऐसे लोगों को इनाम देने की घोषणा कर दी है, जो किसी भी तरह के डाटा लीक मामले की जानकारी मुहैया कराएंगे। फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग के अमरीकी संसद के सामने आने से पहले इसकी घोषणा की है। आपको बता दें कि सिर्फ अमरीका में ही नहीं बल्कि ब्रिटेन और दुनियाभर के सभी देशों में मार्क जुकरबर्ग और फेसबुक को काफी आलोचना का सामना करपा पड़ रहा है।

26 लाख रुपए का मिलेगा इनाम
मार्क जुकरबर्ग की कंपनी के अधिकारियों की मानें तो फेसबुक ऐसे लोगों को इनाम के तौर पर मोटी राशि देगा जो फेसबुक चल रहे एप से होने वाले डाटा चोरी की जानकारी सबूत के साथ पेश करेगा। या फिर यूजर के डाटा को किसी थर्ड पार्टी को बेच रहा है। ऐसे लोगों को कंपनी की ओर से 500 डॉलर से लेकर 40,000 डॉलर यानी करीब 26 लाख रुपए तक का इनाम दि‍या जाएगा। कंपनी ने यह भी कहा है कि अधिकतम राशि 40 हजार डॉलर से भी ज्यादा हो सकती है। आपको बता दें कि फेसबुक को किसी भी देश का कोई भी आदमी जानकारी उपलब्‍ध करा सकता है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned