हर साल 100 टन सोना पैदा कर सकता है भारत, एसोचैम ने जारी की चौंकाने वाली रिपोर्ट

हर साल 100 टन सोना पैदा कर सकता है भारत, एसोचैम ने जारी की चौंकाने वाली रिपोर्ट

Saurabh Sharma | Publish: Oct, 05 2018 02:50:56 PM (IST) कॉर्पोरेट

एेसोचैम रिपोर्ट के अनुसार देश हर साल 100 टन सोने का उत्पदान कर सकता है।

नर्इ दिल्ली। देश के एक बार फिर से सोने की चीड़िया बन सकता है। इसके लिए भारत के पास पर्याप्त मात्रा में सोना भी हैै। बस जरुरत है उसे निकालने की आैर उसे तराशने की। एेसोचैम रिपोर्ट के अनुसार देश हर साल 100 टन सोने का उत्पदान कर सकता है। जिससे देश को सोने की आयात की मात्रा कम हो जाएगी। साथ ही सोने के दाम भी आम आदमी की पहुंच में रहेंगे। देश को ज्यादा नुकसान भी नहीं उठाना पड़ेगा। आपको बता दें कि देश में हर साल 900 टन सोने की खपत होती है। लेकिन सोने का उत्पदान मात्र एक से डेढ़ टन के आसपास होता है। आइए आपको भी बताते हैं कि एसोचैम की रिपोर्ट में आैर क्या कहा गया है?

अगर भारत को करना है 100 टन का उत्पादन
मौजूदा समय में भारत में प्रति वर्ष एक से डेढ़ टन सोने का उत्पादन करता है। अगर भारत के संसाधनों की बात करें तो उससे भी सोने का उत्पादन दो से ढार्इ टन ही किया जा सकता है। इसके लिए अतिरिक्त खदानों की जरुरत नहीं होगी। वहीं देश को सालाना 100 से 200 टन का सोने का उत्पदान करना है तो 20 अतिरिक्त खदानों की जरुरत होगी। वहीं इसके लिए 1 से 1.5 बिलियन डॉलर के निवेश करना होगा। इससे देश में करीब 50 हजार से एक लाख लोगों को रोजगार भी मिल पाएगा।

कितना है भारत का प्रोडक्शन आैर पाॅलिसी
भारत का सोने को लेकर लंबा इतिहास रहा है। लेकिन रिपोर्ट के मुताबिक मौजूदा समय में सोने का उत्पादन स्तर काफी कम है। भारत में वर्ष 2016 में सोने का प्रोडक्शन 2 टन से कम रहा है। वहीं केंद्र सरकार की पाॅलिसी की बात करें तो सोने का खनन बढ़ाने के लिए वर्ष 2016 में द माइन्स एंड मिनरल्स एक्ट 1957 में संशोधन हुआ था। संशोधन के बाद प्राइवेट कंपनियां सोने की खनन में हिस्सा 50 तक के लिए ले सकती हैं। इससे पहले ये लिमिट 30 साल के लिए थी।

Ad Block is Banned