CCSU की मुख्य परीक्षाएं होंगी रद्द, बगैर परीक्षा के ही पास किए जाएंगे सभी स्टूडेंट्स

Highlights

- चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय (CCSU) की परीक्षाओं पर भी कोरोना का खतरा
- आगामी जुलाई में कराई जानी थी परीक्षाएं
- कोरोना संक्रमण के चलते विवि की परीक्षाएं कराना संभव नहीं
- शासन स्तर पर गठित कमेटी ने सौंपी रिपोर्ट

By: lokesh verma

Published: 29 Jun 2020, 11:00 AM IST

मेरठ. कोरोना वायरस (Corona Virus) का खतरा अब चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय (CCSU) की परीक्षाओं पर भी मंडराने लगा है। कोविड-19 (Covid 19) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जुलाई में परीक्षा कराना किसी भी विश्वविद्यालय के लिए संभव नहीं है, जिसके चलते अब सीसीएयू और उससे जुड़े कॉलेजों की मुख्य और सेमेस्टर परीक्षाएं रद्द हो सकती हैं। परीक्षा को लेकर शासन की ओर से बनाई कमेटी दो से तीन दिन में इस पर निर्णय सुनाएगी।

यह भी पढ़ें- Corona update: बिजनौर, सहारनपुर, शामली, मुजफ्फनगर, मेरठ, गाजियाबाद और नाेएडा में फैल रहा वायरस

बताया जा रहा है कि कोविड-19 को देखते हुए बगैर परीक्षा के छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट किया जा सकता है। बता दें कि सीसीएसयू समेत पूरे प्रदेश के राज्य विश्वविद्यालयों की परीक्षा को लेकर अभी कुछ दिन पहले ही सरकार ने एक कमेटी गठित की है। चार सदस्यीय कमेटी अध्यक्ष सीसीएसयू के कुलपति प्रोफेसर एनके तनेजा को बनाया गया है। इस कमेटी को 30 जून तक का समय दिया गया है, जिसे अपनी रिपोर्ट शासन को भेजनी है। कमेटी परीक्षा कराने को लेकर रिस्क नहीं लेना चाहती है।

उल्लेखनीय है कि 26 जून को लखनऊ विश्वविद्यालय की परीक्षा के संदर्भ में हाईकोर्ट की रुलिंग आई है, उसे देखते शारीरिक दूरी बनाए रखते हुए और सभी सेंटरों को सैनिटाइज कराकर परीक्षा कराना मुश्किल है। ऐसे में संभावना है कि परीक्षाएं रद्द कर दी जाएं। कुलपति प्रो. एनके तनेजा का कहना है कि वह कमेटी के निर्णय को अभी नहीं बता सकते हैं, दो से तीन दिन में सारी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

सीसीएसयू ने इससे पहले शासन के मांगने पर जो कार्ययोजना भेजी थी, उसमें मुख्य परीक्षा 15 जुलाई और सेमेस्टर परीक्षा 24 जुलाई से कराने की बात कही गई थी। शासन की ओर से कई अन्य विश्वविद्यालयों से भी ऐसी कार्ययोजनाएं परीक्षा को लेकर मांगी गई थीं। अब सभी परीक्षाएं कमेटी और शासन के निर्णय पर टिकी हुई हैं। विवि के कुलपति प्रो एनके तनेजा ने बताया कि रिपोर्ट शासन को भेजी जा चुकी है। फैसला शासन स्तर पर होना है।

यह भी पढ़ें- भाजपा नेता के बेटे पर सिख युवक से मारपीट और पगड़ी खोलने के आरोप, सीएम योगी से शिकायत

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned