Meerut: सीएम योगी के दौरे से पहले अलर्ट मोड पर आए अधिकारी, बनाया कोरोना के खात्मे का माइक्रोप्लान

Highlights
- मीटिंग और विशेष अभियान का दौर शुरू
- माइक्रोप्लान बनाकर रोका जाएगा कोविड-19 का संक्रमण
- 2 जुलाई से 12 जुलाई तक अभियान चलाने का निर्णय

By: lokesh verma

Published: 30 Jun 2020, 10:06 AM IST

मेरठ. कोरोना वायरस ( Corona Virus) की महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते 5 जुलाई को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ( CM Yogi Adityanath ) मेरठ ( Meerut ) का दौरा करेंगे। सीएम योगी के प्रस्तावित दौरे की जानकारी मिलते ही अधिकारियों में सरगर्मियां तेज हो गई हैं। मुख्यमंत्री के दौरे संबंधी तैयारियों और कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए किए जा रहे बचाव कार्यों को लेकर विकास भवन में जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक आयोजित हुई। बैठक सीडीओ ईशा दूहन की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में शासन के निर्देशों के अनुसार, आगामी 2 जुलाई से 12 जुलाई 2020 तक विशेष अभियान चलाकर घर घर जाकर सर्वे किया जाएगा। इसके लिए माइक्रो प्लान ( Micro Plan ) बनाया जा रहा है, जिसमें जिलेभर में 1400 टीमों को लगाया गया है। यह कार्य युद्ध स्तर पर किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- Corona: गाजियाबाद के एडीएम सिटी की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, एसडीएम पत्नी भी भर्ती

सीएमओ डाॅ. राजकुमार ने बताया कि आगामी 5 जुलाई को जनपद में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दौरा प्रस्तावित है। विकास भवन में जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक की अध्यक्षता करते हुए सीडीओ ईशा दूहन ने कहा है कि 2 जुलाई से प्रारंभ होने वाले सर्वे के कार्य को युद्धस्तर पर किया जाए तथा घर-घर सर्वे किया जाए। उन्होंने कहा कि इसके लिए प्रत्येक घर में चेक से मार्किंग की जाएगी। संभावित मरीजों की जानकारी उपलब्ध की जाएगी। प्रत्येक घर में जागरुकता संबंधी स्टीकर लगाया जाएगा।

अभियान का मुख्य उद्देश्य मरीजों की पहचान करना

उन्होंने बताया कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य जागरुकता के साथ कोविड-19 के संदिग्ध मरीजों की पहचान करना व उसी के अनुरूप टेस्टिंग कराना है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के प्रारंभ होने से जनपद व मंडल को बहुत फायदा होगा। यह सरकार की दूरदर्शिता आमजन के प्रति सोच को परिलक्षित करता है यह सरकार का अच्छा कदम है।

पल्स पोलियो की तर्ज पर चलेगा अभियान

सीएमओ ने बताया कि अभियान के लिए माइक्रो प्लान बनाया जा रहा है तथा इसके लिए पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर 1400 टीम घर-घर जाकर सर्वे करेंगी तथा संदिग्ध मरीजों की पहचान करेंगी, ताकि उनको समय रहते इलाज उपलब्ध कराए जा सके। उन्होंने बताया कि प्रत्येक 5 टीम पर एक सुपरवाइजर की तैनाती की जाएगी। अभियान के लिए जिला प्रतिरक्षण अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया गया है। अभियान के दिनों में से 8 जुलाई को यह कार्यक्रम नहीं होगा, उस दिन टीकाकरण का कार्यक्रम होगा। यह अभियान 10 दिन का होगा।

घर-घर में की जाएगी मार्किंग

जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. विश्वास चौधरी ने बताया कि अभियान कंटेनमेंट जोन व नॉन कंटेनमेंट जोन दोनों में चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि अभियान के अंतर्गत रिपोर्टिंग शीट, टैली शीट, घर-घर में मार्किंग, संदिग्ध मरीजों की पहचान, जागरुकता संबंधी पोस्टरों को घर-घर चस्पा किया जाएगा। लंबी बीमारी वाले व्यक्तियों को चिन्हित किया जाएगा अर्थात जिनकी पुरानी बीमारी चली आ रही है उनको भी चिन्हित किया जाएगा।

अभियान में आईसीडीएस, पंचायती राज विभाग, एनसीसी, एनएसएस, यूनिसेफ, डब्ल्यूएचओ व अन्य सरकारी विभागों का सहयोग लिया जाएगा तथा डाटा हैंडलर की ट्रेनिंग भी कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि डब्ल्यूएचओ द्वारा मेन पावर डिस्ट्रीब्यूशन, माइक्रो प्लानिंग बनवाने, ट्रेनिंग देने में सहयोग किया जाएगा। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर राजकुमार, जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ विश्वास चैधरी, डॉ अशोक तालियान, डॉक्टर पी पी सिंह, एसीएमओ डॉ पूजा शर्मा, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी सहित अन्य चिकित्सक व अधिकारी उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें- Corona Virus: सहारनपुर सांसद हाजी फजलुर्रहमान का कांग्रेस के नेता इमरान मसूद ने जाना हाल

coronavirus
Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned