गुरुग्राम: हिन्दू संगठनों के विरोध के बाद मस्जिद को किया गया सील, प्रशासन ने दी सफाई

गुरुग्राम नगर निगम (एमसीजी) ने बुधवार को शीतला कॉलोनी इलाके में एक कथित तौर पर एक मस्जिद को सील कर दिया। जिसके बाद स्थानीय लोगों ने अधिकारियों के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया।

Anil Kumar

September, 1308:34 PM

New Delhi, Delhi, India

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में एक बार फिर से दो समुदायों के बीच टकराव की स्थिति बनती दिख रही है। दरअसल गुरुग्राम नगर निगम (एमसीजी) ने बुधवार को शीतला कॉलोनी इलाके में एक कथित तौर पर एक मस्जिद को सील कर दिया। जिसके बाद स्थानीय लोगों ने अधिकारियों के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया। एक अधिकारी ने बताया कि यह मस्जिद नया बना है और यह इलाका भारतीय वायुसेना के एक गोला-बारूद डिपो से 300 मीटर के प्रतिबंधित दायरे में आती है। अधिकारी ने कहा कि प्रशासन ने मस्जिद के अलावे अन्य 11 नवनिर्मित ढांचों को सील किया है जो कि प्रतिबंधित दायरे के अंदर आती है। बता दें कि प्रशासन के इस कार्रवाई के खिलाफ स्थानीय लोग धरने पर बैठ गए हैं और एमसीजी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। बता दें कि मुस्लिम एकता मंच के अधिकारियों को कहना है कि प्रशासन ने जानबूझकर यह कदम उठाया है।

प्रशासन की ने दी सफाई

आपको बता दें कि एमएसजी प्रशासन ने दावा किया कि ढ़ांचा करीब चार वर्ष पुरानी है। इस लिहाज से यह ढ़ांचा नवनिर्मित है और कानून का उल्लंघन है। इस ढांचे के साथ-साथ अन्य 11 ऐसे नवनिर्मित ढांचा है जो कि प्रतिबंधित क्षेत्र के दायरे में बनाया गया है जिसे सील कर दिया गया है।

घर को मस्जिद बनाकर लाउडस्पीकर पर अजान देने का आरोप, हिन्दू संगठनों ने जताया विरोध

क्या है पूरा मामला

आपको बता दें कि बीते दिनों यह मामला सामने आया था कि गुरुग्राम के शीतला कॉलोनी के एक घर को मस्जिद के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है और वहां पर पांच समय नमाज पढ़ा जाता है। साथ ही लाउडस्पीकर के जरिए अजान दिया जाता है। हिन्दू संगठनों ने यह आरोप लगाया था कि बीते 6 महीने से घर को मस्जिद बनाकर अजान दिया जा रहा है। यहां पर बाहर से भी लोग आते हैं । इससे कॉलोनी का माहौल खराब हो रहा है। इस बाबत मुस्लिम समुदायों ने भी अपनी बात प्रशासन के सामने रखी थी। इसके बाद हिन्दू संगठनों ने अपना विरोध तेज करते हुए बीते दिनों एक यज्ञ का भी आयोजन किया था। बता दें कि खुले में नमाज पढ़ने को लेकर गुरुग्राम में पहले भी बवाल हो चुका है। जिसके बाद सरकार ने गंभीरता से लेते हुए मुस्लिम समुदायों को नमाज पढ़ने के लिए जगह सुनिश्चित कर दी थी और कहा था कि वे निर्धारित जगहों पर ही नमाज पढ़ें। सार्वजनिक जगहों पर खुले में नमाज न पढें।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned