Punjab: नवजोत सिंह सिद्धू बने पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष, सोनिया गांधी ने दी मंजूरी

कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया है। इसके अलावा चार कार्यकारी अध्यक्ष की भी नियुक्ति की गई है।

By: Anil Kumar

Updated: 18 Jul 2021, 10:50 PM IST

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस में चल रहे सियासी घमासान के बीच आखिरकार नवजोत सिंह सिद्धू को बड़ी सफलता मिल गई है। नवजोत सिद्धू को पंजाब कांग्रेस की कमान सौंप दी गई है। कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया है। इसके अलावा चार कार्यकारी अध्यक्ष की भी नियुक्ति की गई है।

इस संबंध में आधिकारिक तौर पर कांग्रेस पार्टी ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की है। इसमें कहा गया है कि कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नवजोत सिंह सिद्धू को तत्काल प्रभाव से पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया है। साथ ही साथ चार कार्यकारी अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है। जिन चार नेताओं का पंजाब कांग्रेस का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया है, उनमें संगत सिंह गिलाजियान, सुखविंदर सिंह डैनी, पवन गोयल और कुलजीत सिंह नागरा का नाम शामिल है।

यह भी पढ़ें :- सोनिया गांधी को कैप्टन अमरिंदर की दो टूक, कहा- पंजाब में जबरन न दें दखल, वरना होगा नुकसान

बता दें कि नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बनाए जाने की खबरों के बीच सीएम कैप्टन अमरिंदर ने नाराजगी जाहिर की थी। कैप्टन अमरिंदर ने सोनिया गांधी को शुक्रवार को एक पत्र लिखकर अपनी नाराजगी जताई थी और कहा था कि यदि जबरन पंजाब में दखल दी गई तो इसका नुकसान उठाना पड़ सकता है।

अब बढ़ सकता है विवाद

आपको बता दें कि अचानक लिए गए इस फैसले से अब पंजाब कांग्रेस में जारी विवाद खत्म होने के बजाए बढ़ सकता है। दरअसल, तमाम विधायकों ने रविवार को ही सोनिया गांधी को पत्र लिखा था, इसमें नवजोत सिंह सिद्धू को अध्यक्ष पद नहीं सौंपने की गुजारिश की गई थी। साथ ही सिद्धू को माफी मांगने की भी बात कही गई थी।

लेकिन अब सोनिया गांधी ने नवजोत सिद्धू को तत्काल प्रभाव से अध्यक्ष बना दिया है। सबसे अहम और खास बात ये है कि कांग्रेस में ऐसा पहली बार हुआ है जब प्रदेश कार्यकारिणी के अनुरोध के बिना ही किसी को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। कांग्रेस में ये परंपरा रही है कि जब भी किसी को मुख्यमंत्री या प्रदेश अध्यक्ष बनाया जाता है तो प्रदेश कार्यकारिणी राष्ट्रीय अध्यक्ष (सोनिया गांधी) के नाम पत्र लिखती है।

पंजाब में जारी विवाद के बीच सोमवार को पंजाब कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई थी। इस बैठक में यह निर्णय लिया जाना था कि पार्टी हाईकमान जो भी फैसला करेगी उसे प्रदेश नेतृत्व को मंजूर होगा। लेकिन उससे पहले ही अध्यक्ष पद का ऐलान कर दिया गया। ऐसे में अब विवाद खत्म होने के बजाए बढ़ सकता है।

कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से एक पत्र जारी किया गया है जिसमें मौजूदा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ का अबतक के काम के लिए धन्यवाद किया गया है। बताया गया है कि कुलजीत सिंह नागरा जो कि अभी सिक्किम, नागालैंड और त्रिपुरा के AICC इंचार्ज हैं, वह इस पद से मुक्त हो जाएंगे।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned