सीआरपीएफ ने तैयार किया 6.5 करोड़ का सिविक एक्शन प्लान, नक्सलियों से निपटने प्रभावित इलाकों में खर्च की जाएगी राशि

इस बार सिविक एक्शन प्लान सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा, नारायणपुर, कांकेर, गरियाबंद, महासमुंद और अंबिकापुर में किया जाएगा। इसके तहत स्थानीय लोगों को घरेलू सामान, चिकित्सा सुविधा, दवाएं, पेयजल, खेल सामग्री, पुस्तकें, स्टेशनरी, स्कूलों में कम्प्यूटर, कौशल विकास प्रशिक्षण जैसी चीजें उपलब्ध कराई जाती हैं।

By: Karunakant Chaubey

Published: 18 Feb 2020, 12:56 PM IST

रायपुर. केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल इस बार माओवाद प्रभावित इलाकों में सिविक एक्शन प्लान पर 6 करोड़ 50 लाख रुपए खर्च करने की तैयारी में है। सीआरपीएफ मुख्यालय को इसका प्रस्ताव भेजा गया है। स्वीकृति मिली तो स्थानीय अधिकारी विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक और खेलकूद गतिविधियों का आयोजन करेंगे।

इस बार सिविक एक्शन प्लान सुकमा, बीजापुर, दंतेवाड़ा, नारायणपुर, कांकेर, गरियाबंद, महासमुंद और अंबिकापुर में किया जाएगा। इसके तहत स्थानीय लोगों को घरेलू सामान, चिकित्सा सुविधा, दवाएं, पेयजल, खेल सामग्री, पुस्तकें, स्टेशनरी, स्कूलों में कम्प्यूटर, कौशल विकास प्रशिक्षण जैसी चीजें उपलब्ध कराई जाती हैं। स्कूल, अस्पताल और सामुदायिक केंद्र का निर्माण भी सिविक एक्शन प्लान में शामिल है। आयोजनों का वार्षिक कैलेंडर भी तैयार कर लिया गया है। बता दें कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में सीआरपीएफ ने करीब 5 करोड़ रुपए खर्च किए थे।

गांव को गोद लिया

केंद्रीय सुरक्षा बलों ने इस कार्यक्रम के लिए करीब 300 गांव और मजरो-टोलों को गोद लिया है। सुरक्षा बल यहां के लोगों की समस्याओं को सुलझाने में मदद करते हैं। सीआरपीएफ ने प्रत्येक कैंप प्रभारी को २-३ गांव गोद लेने का निर्देश दिया हुआ है।

स्थानीय लोगों की मदद करने और विश्वास का भावना जागृत करने के लिए सिविल एक्शन प्लान चलाया जा रहा है। इससे माओवाद समाप्त करने के साथ ही लोगों को मुख्यधारा में जोडऩे में मदद मिल रही है।
बिधानचंद्र पात्रा, सीआरपीएफ प्रवक्ता

ये भी पढ़ें: जंगल सफारी में बाघ के साथ छेड़खानी को रणदीप हुडा और दिया मिर्जा ने बताया शर्मनाक, तीन कर्मचारी निलंबित

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned