पंचांग को लेकर मतभेद, इस दिन मनाई जाएगी रंगपंचमी, शीतला सप्तमी व दशामाता पूजन

भारतीय हिंदू पंचांग में तिथि को लेकर आए दिन ज्योतिषियों में मतभेद होता है। इस बार रंगपंचमी से लेकर शीतला सप्तमी व दशामाता पूजन को लेकर भी तारीख को लेकर मतभेद है। इसी को दूर करने के लिए बड़ी बैठक का आयोजन मध्यप्रदेश के रतलाम में हुई। इसमे तिथि को लेकर गणना की गई च इसके बाद पर्व को लेकर बड़ी घोषणा कर दी गई।

रतलाम. भारतीय हिंदू पंचांग में तिथि को लेकर आए दिन ज्योतिषियों में मतभेद होता है। इस बार रंगपंचमी से लेकर शीतला सप्तमी व दशामाता पूजन को लेकर भी तारीख को लेकर मतभेद है। इसी को दूर करने के लिए बड़ी बैठक का आयोजन मध्यप्रदेश के रतलाम में हुई। इसमे तिथि को लेकर गणना की गई च इसके बाद पर्व को लेकर बड़ी घोषणा कर दी गई। इसके बाद अब साफ हो गया है कि रंगपंचमी, शीतला सप्तमी व दशामाता पर्व कब मनाया जाएगा।

अब शराब पीकर ट्रेन चलाई तो जाएगी आप की 'नौकरी'

Saints played flower holi at Magh mela
IMAGE CREDIT: net

अगर आप अलग-अलग पंचाग देखकर तिथियों को लेकर भ्रम में है तो इसको दूर कर लिजिए। शुक्रवार को तिथि के भ्रम को लेकर आयोजित बैठक में त्यौहार को लेकर निर्णय हो गया है। रानीजी के मंदिर पर हुई बैठक में यह भी आम राय बनी की होलाष्टक मध्यप्रदेश में लागू नहीं होता है, इसलिए शुभ कार्य किए जा सकते है। निर्णय अनुसार 14 मार्च को रंगपंचमी, 16 मार्च को शीतला सप्तमी व 19 मार्च को होगा दशामाता पूजन होगा।

रेलवे ने बदल दिए नियम, अब यह हो गया शुरू

holi ke rang .....

मंदिर में बैठक का आयोजन
शहर के विभिन्न पंडितों व ज्योतिषियों की शुक्रवार को रानीजी के मंदिर में बैठक का आयोजन हुआ। इसमे आचार्य दुर्गाशंकर ओझा के नेतृत्व में निर्णय हुआ कि विभिन्न पंचांग में अलग-अलग पर्व की तिथि को लेकर हुए भ्रम को दूर किया जाए। बैठक के बाद संजय शिवश्ंाकर दुबे ने बताया कि कुछ पंचांग अनुसार 13 मार्च को रंगपंचमी, 15 मार्च को शीतला सप्तमी व 18 मार्च को होगा दशामाता पूजन कार्य बताया गया है, जबकि यही भ्रम को जन्म दे रहा है। इसी को दूर करने के लिए बैठक की गई थी।

शुभ विवाह मुहूर्त 2020 : एक साल में सिर्फ 56 दिन होंगे सात फेरे

holi.jpg

रविवार है क्रुरवार

विगत लम्बे समय से हो रही तिथि त्योहारों पर तारीख को लेकर हो रही दोहरी स्तिथि को लेकर जन समुदाय में व्याप्त संशय के निवारणार्थ विद्वत जनों की बैठक में आगामी 14 मार्च को रंगपंचमी, शितलासप्तमी सोमवार 16 मार्च मनाई जाने पर सहमति हुई। चुकी साधक महिलाये छठ की रात्रि में पूजन करती हैं व शितलासप्तमी सप्तमी का विधान सामान्यत: सुबह 8 बजे समाप्त हो जाता हैं, साथ ही रविवार को क्रुरवार होने से इस दिन शितलासप्तमी होना निषिद्ध रहेंगा। इसलिए ही शितलासप्तमी सोमवार को ही मनाई जाएगी। इसी प्रकार दशामाता पूजन गुरुवार 19 मार्च को मनाई जाएगी।

ज्योतिष : शनि की शुक्र पर नजर, पांच राशि वालों का होगा तबादला

playing chang on holi festival and fagotsav in jodhpur

होलाष्टक पर हुई चर्चा

इस बैठक में दिनांक 2 से 9 मार्च तक के होलाष्टक पर भी चर्चा की गई। जिसमें गोपाल चतुर्वेदी ने बताया कि होलाष्टक नियम मात्र राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश में मान्य हैं। मध्यप्रदेश क़े क्षेत्र में होलाष्टक नियम मान्य नहीं है। होलाष्टक क़े मध्य मांगलिक आयोजन मध्यप्रदेश में निर्विघ्नता से सम्पन्न किए जा सकते हैं। बैठक में विद्वतजन समिति क़े शैलेंद्र ओझा, बालकृष्ण परसाई, संजय शिवशंकर दवे आदि उपस्थित रहे।

रतलाम सर्किल में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने एयरपोर्ट मंजूर किया

PINK BOOK VIDEO दिल्ली रतलाम मुंबई के बीच 200 की स्पीड करने के लिए राशि जारी

खुश खबर, अब ट्रेन में नहीं होगा कोई अपराध, ले लिया यह बड़ा निर्णय

मोदी सरकार ने मान ली मांग, बढ़ा दिया वेतन

मार्च 2020 में 11 दिन बंद रहेंगे सरकारी बैंक

Holi of Vandavan flowers played in Khandwa
Show More
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned