यूपी में है बीजेपी की सरकार, सपा इस माह होने वाले चुनाव में कैसे बचायेगी अपनी यह १० सीट

Devesh Singh

Publish: Dec, 07 2017 05:41:27 (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India
यूपी में है बीजेपी की सरकार, सपा  इस माह होने वाले चुनाव में कैसे बचायेगी अपनी यह १० सीट

भगवा पार्टी को मिली जीत तो सपा को लगेगा तगड़ा झटका, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. निकाय चुनाव में मिली जीत से उत्साहित बीजेपी ने सपा के एक और झटका देने की तैयारी की है। बीजेपी ने अपनी खास रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है। यूपी में बीजेपी की सरकार है इसलिए भगवा पार्टी को इस माह होने वाले चुनाव में लाभ हो सकता है। बीजेपी इन सीटों पर चुनाव जीत जाती है तो सपा के लिए यह तगड़ा झटका होगा।
यह भी पढ़े:-बीजेपी की जिला पंचायत अध्यक्ष अपराजिता ने अपनी शादी में किया मेरे सइयां सुपरस्टार पर डांस, वीडियो वायरल



बीजेपी ने सपा को बहुत कमजोर कर दिया है। संसदीय चुनाव 2014, यूपी चुनाव व निकाय चुनाव 2017 के बाद सपा के पास अधिक प्रमुख पदों की सीट नहीं बची है। यूपी में इस माह एक और चुनाव होने हैं, जिसकी सीटों पर सबसे अधिक कब्जा सपा नेताओं का है। प्रदेश के 38 जिलों में इसी माह साहकारिता चुनाव होने वाले हैं। हम पूर्वांचलल की १० सीटों की बात करे तो इस पर सपा का कब्जा है। पीएम नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस की साहकारिता सीट भी सपा के पास है। इसके अतिरिक्त बलिया, गोरखपुर, बस्ती, देवरिया, मिर्जापुर, जौनपुर, गाजीपुर, इलाहाबाद साहकारिता की सीट भी सपा के पास है, जिस पर कब्जा करने के लिए बीजेपी ने खास रणनीति बनायी है।
यह भी पढ़े:-गुजरात में बीजेपी की जीत के लिए काशी में मुस्लिम महिला की दुआख्वानी, देखे वीडियो

प्रदेश सरकार होने के चलते बीजेपी को मिल सकता है लाभ
आमतौर पर यह माना जाता है कि प्रदेश में जिसकी सरकार होती है उस पार्टी के प्रत्याशियों को चुनाव जीतने में अधिक दिक्कत नहीं होती है। पिछली बार हुए चुनाव में यूपी में अखिलेश यादव की सरकार थी, जिसके चलते सपा को अधिक सीटों पर विजय मिली थी। इस बार यूपी में सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार है इसलिए बीजेपी अधिक दमखम के साथ चुनाव में उतरेगी।
यह भी पढ़े:-पीएम मोदी की बड़ी सौगात, यहां बनेगा एशिया का पहला फ्रेट विलेट

शिवपाल यादव का चला था जादू, अब क्या करेंगे अखिलेश
पिछले साहकारिता के चुनाव में शिवपाल यादव का जादू चला था और सपा ने अपने प्रत्याश्यिों को जीत दिलायी थी। सपा में अब शिवपाल यादव सक्रिय नहीं है, जिसके चलते अखिलेश को ही पार्टी को चुनाव जीताने की रणनीति बनानी होगी। बनारस की बात की जाये तो यहां पर सपा के नेता सक्रिय हो गये हैं अब देखना है कि इस चुनाव में किस दल के हाथ में बाजी लगती है।
यह भी पढ़े:-मुख्य अभियंता के सस्पेंड होने का नहीं हुआ असर, वरूणा कॉरीडोर के काम में नहीं आयी तेजी

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned