राधास्वामी मत के द्वितीय गुरु हजूर महाराज की समाध भी आगरा में, यहां पढ़िए पूरी जानकारी

वर्ष 1878 में निजधाम सिधारते समय स्वामीजी महाराज ने हजूर महाराज को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया। हजूरी भवन, पीपल मंडी में अद्धभुत पच्चीकारी से युक्त हजूर महाराज की समाध का निर्माण किया गया है।

By: Bhanu Pratap

Published: 31 Aug 2018, 12:18 PM IST

आगरा। राधास्वामी मत के द्वितीय गुरु हजूर महाराज थे। उनका असली नाम सालिगराम बहादुर था। उन्होंने राधास्वामी मत के प्रथम गुरु स्वामी जी महाराज की बेमिसाल सेवा की। इसके बाद स्वामी जी महाराज ने हजूर महाराज को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया। हजूर महाराज ने ही स्वामी जी महाराज की समाध का निर्माण कराया था, जो अब विशाल और मनमोहक है। द्वितीय जन्मशताब्दी के मौके पर स्वामी जी महाराज की समाध पर स्वामीबाग में 31 अगस्त से कार्यक्रम शुरू हो गए हैं। हजूर महाराज की समाध स्थल हजूरी भवन में महोत्सव एक सितम्बर, 2018 से शुरू होगा। इसकी व्यापाक तैयारियां चल रही हैं।

यह भी पढ़ें

राधास्वामी मत के गुरु दादाजी महाराज ने स्वामी बाग में बनी स्वामी जी महाराज की समाध के बारे में किया बड़ा खुलासा, देखें वीडियो

hazuri bhawan agra

क्या है राधास्वामी मत

राधास्वामी मत के वर्तमान आचार्य और आगरा विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति दादाजी महाराज ( प्रोफेसर अगम प्रसाद माथुर) ने बताया कि राधास्वामी मत मूलतः एक अन्तर्मुखी अध्यात्मवादी पंथ है, जिसमें बाह्य आडम्बरों का स्थान शून्य है। मत की शिक्षाओं का भव्य प्रासाद मत प्रवर्तक एवं आद्य आचार्य परमपुरुष पूरनधनी स्वामीजी महाराज तथा मत संस्थापक परमपुरुष पूरनधनी हजूर महाराज के विचार-दर्शन की आधारशिला पर टिका हुआ है। राधास्वामी मत तत्कालीन धर्म में विद्यमान रूढ़िवादिता एवं कर्मकाण्डीय प्रवृत्तियों के विरोध में एक निर्भीक प्रतिक्रिया के रूप में उभरा। इसका उद्देश्य एक ऐसे सरल धर्म की स्थापना था, जिससे मनुष्यों के आध्यात्मिक उत्थान का मार्ग बिना जाति, वर्ण, आस्था एवं राष्ट्रीयता की अड़चन के प्रशस्त हो सके। सही मायनों में मत की शिक्षाएं आत्मा की अन्तर्निहित पुकार प्रेम पर आधारित हैं। आधुनिक वैज्ञानिक युग में निर्मल प्रेम आधारित यह प्रेमपंथ मत संस्थापकों की अनोखी उपलब्धि है। अतः राधास्वामी मत को आधुनिक भारत में ‘भक्ति के पुनरुद्धार की प्रथम धारा’ कहना समीचीन होगा।

यह भी पढ़ें

राधास्वामी मत के प्रवर्तक स्वामीजी महाराज की द्वितीय जन्मशताब्दीः हजूरी भवन में दुनियाभर से आ रहे सत्संगी, देखें वीडियो

 

hazuri bhawan

सर्वोच्च नाम राधास्वामी

उन्होंने बताया कि राधास्वामी मत सार्वभौम तत्वों को स्वयं में समाहित किए हुए ऐसा विचार है जो कि सुरत-शब्द योग के माध्यम से अपनी संकल्पनाओं को साकार देखने का खुला आमंत्रण देता है। मत प्रवर्तकों ने भले ही पुरातन संकल्पनाओं को नकारा नहीं है, लेकिन स्पष्ट कर दिया है कि सर्वोच्च नाम राधास्वामी ही है, जो भी मानव आत्मतत्व (आत्मा) के मूल निवास और उसके मालिक या स्वामी से तादात्म्य होना चाहे, सहज में मत प्रवर्तकों द्वारा आविष्कृत एवं परिष्कृत - योगाभ्यास (सुरत-शब्द योग) के माध्यम से हो सकता है।

परमपुरुष पूरनधनी हजूर महाराज का जन्म

राधास्वामी मत के द्वितीय आचार्य राय सालिगराम बहादुर ‘हजूर महाराज’ थे। उनका जन्म 14 मार्च, 1829 को पीपल मण्डी में आगरा निवासी एक कायस्थ परिवार में हुआ। उनके पिता राय बहादुर सिंह उस समय के प्रसिद्ध वकील थे। वे अत्यंत धार्मिक एवं दानशील प्रकृति के व्यक्ति थे। परिवार में दो पुत्र एवं पुत्री का जन्म हुआ। हुजूर महाराज की आयु अभी चार वर्ष की ही थी कि पिता का देहावसान हो गया। उनकी माँ ने अपने कठोर परिश्रम और सतत संघर्ष से दोनों पुत्रों को उच्चतम शिक्षा दिलायी।

यह भी पढ़ें

राधास्वामी मत शुरू करने वाले स्वामी जी महाराज के बारे में रहस्यपूर्ण बातें

dadaji maharaj

उच्च पद पर पहुँचने वाले वह प्रथम भारतीय

मकतब में प्रारम्भिक शिक्षा समाप्त कर उच्च शिक्षा के लिए उन्होंने आगरा कालेज में प्रवेश लिया। सन् 1847 में इस विद्यालय में उन्होंने सीनियर कैम्ब्रिज की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की तथा अंग्रेजी, गणित और उर्दू में विशेष दक्षता प्राप्त की। अध्ययन समाप्ति के बाद वर्ष 1847 में हजूर महाराज ने पश्चिमोत्तर सीमा प्रान्त के पोस्ट मास्टर जनरल के कार्यालय में कार्य शुरू किया। विभाग में द्रुत पदोन्नति प्राप्त हुई। उनकी प्रसिद्धि योग्य एवं सत्यनिष्ठ पदाधिकारी के रूप में स्थापित हुई। पहले वे डाकघरों के निरीक्षक बने, फिर महाडाकपाल के सहायक और निजी सहायक। वर्ष 1871 में वह भारत के डाकघरों के मुख्य निरीक्षक नियुक्त हुए। 1881 में पश्चिमोत्तर सीमा प्रान्त के पोस्ट मास्टर जनरल बने तथा उनका कार्य केन्द्र इलाहाबाद रहा। इस उच्च पद पर पहुँचने वाले वह प्रथम भारतीय थे।

यह भी पढ़ें

राधास्वामी समाध स्थल पर स्वर्ण कलश स्थापित, देखें मनमोहक तस्वीर

एक पैसे का पोस्टकार्ड चलाया

अद्भुत क्षमता के सम्पन्न प्रशासक होने के कारण उन्होंने डाक विभाग में अनेक नए सुधार किए। लैण्ड रेवेन्यू, मनीआर्डर, पार्सल इंश्योरेंस, वी0पी0 पार्सल, बैरंग पत्र के नियम, तार संयोजन, जिला डाक प्रबन्ध को शासकीय पत्रों के लिए बड़े डाकघर से संबद्ध करना इत्यादि अनमोल सुधार उन्हीं की देन है। विभागीय सेवा को नियन्त्रित करते हुए उन्होंने डाक व्यवस्था के विकास एवं प्रसार में अतुलनीय योगदान दिया। आम जनता के लिए सर्वप्रथम उन्होंने ही एक पैसे का पोस्टकार्ड प्रचलित किया, जो आज भी गरीब जनता के बीच संदेश आदान-प्रदान का प्रमुख माध्यम बना हुआ है। तत्कालीन परिवेश में हजूर महाराज ने संचार व्यवस्था को जो बहुमुखी आयाम दिये, वो वर्तमान संचार क्रान्ति से प्रत्येक मायने में श्रेष्ठतर थे।

यह भी पढ़ें

पढ़िए राधास्वामी दयाल के प्रकट होने की कहानी, 200 साल पुराना है सत्संग

dadaji maharaj

राय बहादुर’ की उपाधि

तत्कालीन अव्यवस्था एवं लालफीताशाही को उन्होंने दूर किया। विभागीय कार्यों में उनकी योजनाओं एवं सुधारों से सुगमता हुई और जनसाधारण को सीधा लाभ पहुँचा। पश्चिमोत्तर सीमा प्रान्त एवं पंजाब प्रान्त के डाक अधिनियमों को उन्होंने स्वयं जनता की भाषा में अनूदित किया। वर्ष 1871 में उनके सराहनीय प्रशासनिक सुधारों के लिए शासन द्वारा उन्हें ‘राय बहादुर’ की उपाधि से विभूषित किया गया। डाक विभाग के लिए अपनी सेवाओं के कारण वह अपरिहार्य बन गए थे और वर्ष 1884 में भी ब्रिटिश प्रशासक उनको अवकाश ग्रहण नहीं करने देना चाहते थे। भारतीय डायरेक्टर जनरल ने उनसे स्वयं एक निजी पत्र में उनके कार्यों की सराहना करते हुए सेवानिवृत्ति न लेने का अनुरोध किया था।

यह भी पढ़ें

काले कानून के विरोध में सर्व समाज का प्रदर्शन, लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार को चेताया

गुरु की अनूठी सेवा की

लौकिक सफलताएँ हजूर महाराज के लिए महत्वहीन थीं। अपनी आत्मिक प्यास बुझाने के लिए उन्हें आध्यात्मिक गुरू की खोज थी। वर्ष 1858 ई0 में उनकी चिर कामना पूर्ण हो गई और राधास्वामी दयाल परम पुरुष पूरन धनी स्वामीजी महाराज से उनकी भेंट हुई। हजूर महाराज ने स्वामीजी महाराज की हर प्रकार से सेवा की। चरन दबाना, पंखा करना, चंवर डुलाना, चक्की पीसना, हुक्का भरकर लाना, शहर के बाहर मीलों दूर मीठे कुएं से नंगे पैर पद व प्रतिष्ठा का ख्याल किये बिना पानी भरकर लाना, स्नान कराना, केश संवारना, खाना बनाना, मकान की झाड़ू, सफाई-पुताई करना, स्नानागार एवं नालियाँ धोना, खदान से मिट्टी खोदकर लाना, जंगल से दातुन लाना, धोती धोना, चैका-बरतन करना, स्वामीजी महाराज के घर के लिए खाद्य सामग्री एवं अन्य आवश्यकता की वस्तुएं खरीदकर खुद लाना, पालकी उठाना, सवारी के साथ-साथ दौड़ना, पीकदान पेश करना और स्वयं पीक पी जाना आदि। हजूर सेवा में इतने तल्लीन रहते थे कि मौसम के प्रकोप की उन्हें कोई चिन्ता नहीं रहती थी। वर्ष 1858 से 1878 ई0 तक बीस वर्ष उन्होंने अपने गुरु की जो अतुलनीय सेवा की, वो भक्ति के इतिहास में अनूठी और बेमिसाल है।

यह भी पढ़ें

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी विशेषः इस मूर्तिकार की कारीगरी देख हैरत में पड़ जाएंगे आप, 22 साल से निस्वार्थ बना रहा मूर्तियां

 

  <a href=radhasoami guru dadaji mahraj" src="https://new-img.patrika.com/upload/2017/10/25/2_9_3338055-m.jpg">

1878 में स्वामी जी महाराज के उत्तराधिकारी बने

वर्ष 1878 ई0 में निजधाम सिधारते समय स्वामीजी महाराज ने हजूर महाराज को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया। उन्होंने सन् 1898 तक सतसंग का व्यापक विस्तार और सैद्धांतिक और व्यावहारिक स्तर पर आने वाली सभी समस्याओं के लिए उठने वाली सभी शंकाओं का प्रभावी समाधान किया। इसी परिसर के प्रेम विलास में उनकी अद्धभुत पच्चीकारी से युक्त समाध का निर्माण किया गया है। उनके आवास हजूरी भवन में आज भी उनकी शिक्षाओं का प्रसार आज भी जस का तस किया जा रहा है। राधास्वामी सतसंग हजूरी भवन में स्वामीजी महाराज के दो सौ वर्ष को दिव्तीय जन्म शताब्दी महोत्सव मत के रूप में मनाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें

भीड़ तंत्र: ट्रैक्टर की बैटरी चोरी करने पर युवकों को मिली ऐसी सजा

 

 

  <a href=Radhasoami guru dadaji mahraj" src="https://new-img.patrika.com/upload/2018/01/22/dadaji_maharaj_agra_3338055-m.jpg">
Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned