script800,000 Americans Dead: COVID Deaths Under Biden Now Equal Those Under Trump | ट्रंप के शासन में कोविड से जितनी मौतें हुईं, उतनी ही बिडेन के नेतृत्व में भी हो चुकी हैं : रिपोर्ट | Patrika News

ट्रंप के शासन में कोविड से जितनी मौतें हुईं, उतनी ही बिडेन के नेतृत्व में भी हो चुकी हैं : रिपोर्ट

कैसर फैमिली फाउंडेशन (केएफएफ) के एक हालिया विश्लेषण से पता चला है कि देश में 800,000 मौतों में से पांचवां हिस्सा संक्रामक बीमारी के खिलाफ टीकों से रोका जा सकता था। पिछले महीने ओमिक्रॉन वैरिएंट के सामने आने के साथ, जो अब 77 देशों में फैल गया है, विशेषज्ञों का मानना है कि महामारी खत्म नहीं हुई है।

नई दिल्ली

Published: December 17, 2021 05:14:53 pm

अमरीका में अब तक कोरोना महामारी से करीब आठ लाख लोगों की मौत हुई है। इस बीच एक विश्लेषण रिपोर्ट में सामने आया है कि राष्ट्रपति जो बिडेन के नेतृत्व में अमरीकियों की मौत पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शासन काल के बराबर दर्ज की गई हैं। जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार, दुनिया में सबसे अधिक कोविड मामलों और मौतों की संख्या के मामले में अमरीका अब भी सबसे आगे बना हुआ है। यहां अभी तक 50,374,099 कोविड मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 802,502 लोग संक्रमण की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं। इसके साथ ही अमरीका सबसे अधिक प्रभावित देश बना हुआ है। 19 जनवरी तक (ट्रंप का अपने कार्यालय में अंतिम पूरा दिन) दर्ज की गई 400,000 मौतों से आगे बढ़ते हुए अब यह आंकड़ा दोगुना हो चुका है।
biden.jpg
रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 के लिए ट्रंप प्रशासन की प्रतिक्रिया स्पष्ट रूप से बेतरतीब थी और बिडेन के शपथ ग्रहण के समय तक यह बीमारी व्यापक थी। हालांकि, बिडेन भी वादे के अनुसार काम नहीं कर सके। जीवन रक्षक टीके के बावजूद - जो पहली बार दिसंबर 2020 में अमरीका में उपलब्ध हुआ - 4 जुलाई तक 'वायरस से आजादी' प्राप्त करने की प्रतिज्ञा के बावजूद, देश वैक्सीन को लेकर लोगों के मन में व्याप्त हिचकिचाहट से जूझ रहा है। यही नहीं अमरीका में डेल्टा वैरिएंट के दौरान स्वास्थ्य प्रणाली चरमराती हुई नजर आई थी और संक्रमण रोकने के सरकार के प्रयास फीके नजर आए थे।
यह भी पढ़ें
-

दक्षिण अफ्रीका में खतरनाक स्तर पर पहुंचा कोरोना, सरकार ने लगाया लेवल-1 लाॅकडाऊन



सितंबर और अक्टूबर विशेष रूप से क्रूर थे, कुल मिलाकर 92,800 मौतों को रोका जा सकता था। वॉल स्ट्रीट जर्नल ने हाल के संपादकीय में लिखा है, ऐसा लगता है कि बिडेन ने टीके, बेहतर उपचार और अधिक अनुभव के लाभ के बावजूद कोविड को हराने में डोनाल्ड ट्रंप से बेहतर कोई काम नहीं किया है।
संपादकीय में कहा गया है, 2021 में पूरे 2020 की तुलना में अधिक अमेरिकियों की मौत हुई है। वाशिंगटन पोस्ट ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के डेटा से पता चला है कि बिडेन के 10 महीनों के कार्यकाल में लगभग 353,000 लोगों की मौत हुई है, जबकि ट्रंप प्रशासन के अपने अंतिम 10 से अधिक महीनों में लगभग 425,000 लोगों की मौत हुई थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि इनकी तुलना की जाए तो समान अवधि में ट्रंप शासन के मुकाबले बिडेन शासन के तहत अभी भी कम मौतें हुई हैं।
यह भी पढ़ें
-

संयुक्त राष्ट्र के मुख्य प्रवक्ता वैक्सीन लगवाने के बावजूद कोरोना पाज़िटिव, इजराइल ने 7 और देशों की यात्रा पर लगाया प्रतिबंध



हालांकि, जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों से पता चला है कि ट्रंप के 10 से अधिक महीनों के दौरान 425,000 मौतें दुनियाभर में होने वाली मौतों का लगभग 20 प्रतिशत हैं। दूसरी ओर, बिडेन के पदभार संभालने के 10 महीनों के बाद, दुनिया में 30 लाख से अधिक लोगों ने अपनी जान गंवाई है, जबकि अमरीका में दुनियाभर में होने वाली मौतों के मुकाबले 12 प्रतिशत से भी कम मौतें दर्ज की गई हैं। यह आंकड़ा ट्रंप शासन से तुलनात्मक रूप से 19.9 प्रतिशत कम है। इस बीच, कई अध्ययनों से पता चला है कि वैक्सीन हिचकिचाहट को रोकने के लिए राज्यों द्वारा कोविड-19 की बेहतर प्रतिक्रिया से अमेरिका में सैकड़ों-हजारों मौतों को रोका जा सकता था।
अमरीका स्थित गैर-लाभकारी कैसर फैमिली फाउंडेशन (केएफएफ) के एक हालिया विश्लेषण से पता चला है कि देश में 800,000 मौतों में से पांचवां हिस्सा संक्रामक बीमारी के खिलाफ टीकों से रोका जा सकता था। पिछले महीने ओमिक्रॉन वैरिएंट के सामने आने के साथ, जो अब 77 देशों में फैल गया है, विशेषज्ञों का मानना है कि महामारी खत्म नहीं हुई है और कोविड से अधिक लोगों की जान जाने की उम्मीद की जा सकती है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार ओमिक्रॉन उस दर से फैल रहा है, जो किसी भी पिछले वैरिएंट के साथ नहीं देखा गया है। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस एडनॉम घेबियस ने ओमिक्रॉन को कम करके आंकने के खिलाफ चेताया है। उन्होंने सावधान होने की अपील करते हुए कहा, हम चिंतित हैं कि लोग ओमिक्रॉन को हल्के में लेते हुए खारिज कर रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.