चीन के Corona Vaccine पर सबसे बड़ा खुलासा, सुरक्षित नहीं है टीका, बीमार पड़ने लगे हैं लोग

HIGHLIGHTS

  • China Corona Vaccine: चीन के वैक्सीन की सुरक्षा को लेकर पहले से ही सवाल उठ रहे थे और अब इस वैक्सीन के नकारात्मक प्रभाव सामने आने के बाद से और भी सवाल खड़े हो गए हैं।
  • कुछ दिन पहले ही चीन ने अपनी वैक्सीन की आपात इस्तेमाल की इजाजत दी थी। अब इनमें से कई लोगों ने सिरदर्द, चक्कर आना और उल्टी जैसी शिकायतें दर्ज करवाई हैं।

By: Anil Kumar

Updated: 26 Sep 2020, 09:42 PM IST

बीजिंग। कोरोना वायरस महामारी ( Corona Epidemic ) से पूरी दुनिया जूझ रही है और इससे बचने के लिए लगातार वैक्सीन बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है। चीन और रूस ने अपने-अपने देश में कोरोना वैक्सीन को मंजूरी भी दे दी है। हालांकि इन वैक्सीन को लेकर कई तरह के गंभीर सवाल भी उठने शुरू हो गए हैं।

दरअसल, चीन के वैक्सीन ( China Corona Vaccine ) की सुरक्षा को लेकर पहले से ही सवाल उठ रहे थे और अब इस वैक्सीन के नकारात्मक प्रभाव सामने आने के बाद से और भी सवाल खड़े हो गए हैं। कुछ दिन पहले ही चीन ने अपनी वैक्सीन की आपात इस्तेमाल की इजाजत दी थी। अब इनमें से कई लोगों ने सिरदर्द, चक्कर आना और उल्टी जैसी शिकायतें दर्ज करवाई हैं।

Covid-19 Vaccine: भारत में कब आएगी कोरोना वैक्सीन? जानें क्या है सबसे बड़ी चुनौती?

बता दें कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने संयुक्त राष्ट्र के मंच पर इस वैक्सीन को लेकर बड़ा ऐलान किया था, लेकिन अब जब इस तरह के नतीजे सामने आए हैं तो कई गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं। पाकिस्तान में भी चीन के वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल जारी है।

टीका लगाने वाले चीन के प्रसिद्ध लेखक ने साझा किया अनुभव

आपको बता दें कि चीन सरकार से अनुमति मिलने के बाद देश के कुछ लोगों को कोरोना वायरस का टीका लगाया गया। इन्ही में से एक चीन के प्रसिद्ध लेखक एवं स्तंभकार कान चाई हैं, जिन्होंने अपना अनुभव साझा किया है। उन्होंने बताया कि टीके की पहली खुराक लेने पर तो कुछ भी नहीं हुआ, लेकिन जब दूसरी डोज ली तो उन्हें चक्कर आने लगे।

Corona Vaccine की दौड़ में भारत की यह कंपनी शामिल, ऑक्सफोर्ड की कोविशील्ड वैक्सीन पर हो रहा है ट्रायल

इस महीने की शुरूआत में कान चाई ने बताया था कि जब वे गाड़ी चला रहे थे तब उन्हें अचानक चक्कर आने लगे। ऐसा लग रहा था कि वे नशा करके गाड़ी चला रहे हैं। इसके बाद उन्होंने तुरंत एक जगह पर गाड़ी रोकी और फिर कुछ देर आराम किया तो बेहतर महसूस हुआ।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, वैक्सीन लगाने वाले हजारों लोगों ने शिकायत दर्ज कराई है। बता दें कि ह्यूमन ट्रायल से पहले अपने शीर्ष पदाधिकारियों और रिसर्चर्स को जांच के लिए वैक्सीन की खुराक देने पर चीनी कंपनियां सुर्खियों में आई थीं।

वैक्सीन की फिर से जांच करेगा चीन

मालूम हो कि चीन तीन वैक्सीन पर काम कर रहा है और ये तीनों वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल के अलग-अलग स्टेज में हैं। चीन की सरकारी कंपनी Sinopharm ने कोरोना वायरस के इनऐक्टिवेटेड पार्टिकल्‍स का इस्‍तेमाल करके दो-दो वैक्‍सीन बनाई हैं। जबकि चीनी कंपनी CanSino Biologics ने भी एक वैक्सीन को विकसित किया है।

जून में ही कंपनी Sinopharm ने दावा किया था कि फेज 1 और 2 ट्रायल में वैक्‍सीन सारे वॉलंटियर्स में ऐंटीबॉडीज तैयार करने में सफल रही।

कोरोना वैक्सीन के तीसरे पड़ाव का ट्रायल 15 अक्टूबर से, मौत पर मिलेंगे 75 लाख रुपये

हालांकि अब जब टीका लगाने वालों में तरह-तरह के नकारात्मक प्रभाव देखे जा रहे हैं तब इसको लेकर गंभीर सवाल उठ रहे हैं। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि वैक्सीन की सुरक्षा संंबंधी जांच को फिर से शुरू किया जाएगा। फिलहाल ये जानकारी सामने नहीं आया है कि किस वैक्सीन को लेने वाले लोगों ने शिकायत दर्ज कराई है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned