भूलकर भी इन्हें कमतर मत आंकना क्यों कि इनकी दुनिया पलटने वाली है

भूलकर भी इन्हें कमतर मत आंकना क्यों कि इनकी दुनिया पलटने वाली है

Shiv Bhan Singh | Publish: Nov, 15 2017 05:12:54 PM (IST) Baran, Rajasthan, India

अब तक फिसड्डी और सरकार के मोहताज दिखने वाला आदिम समुदाय को अब कमतर आंकने की कोशिश ना करें, क्यों कि अब इनकी दुनिया पलटने वाली है

जंगल जमीन से जुड़े आदिम समुदाय को अब कमतर आंकने की कोशिश ना करें, क्यों कि अब इनकी दुनिया पलटने वाली है। अब तक फिसड्डी और सरकार के मोहताज दिखने वाला सहरिया समुदाय जल्द ही डिजीटल दुनिया में पांव रखने वाला है। बारां जिले के आदिवासी जनजाति क्षेत्र में शिक्षा का डिजीटल अंदाज देखने को मिलेगा। विभिन्न दृष्किोण से पिछड़े सहरिया छात्र-छात्राओं को राष्ट्र की मुख्यधारा से जोडऩे के लिए उपखंड मुख्यालय शाहाबाद में ज्ञान केन्द्र शुरू किया जा रहा है। इस केन्द्र के माध्यम से सहरिया छात्र-छात्राओं को समाज की अगली पंक्ति में स्थान दिलाने के लिए कम्प्यूटर, मोबाइल व टेबलेट पर नि:शुल्क शिक्षा ज्ञान दिया जाएगा। इसके लिए जिला प्रशासन की पहल पर एक मोबाइल एप तैयार किया जा रहा है। आगामी एक माह में यह केन्द्र शुरू कर दिया जाएगा।

Read more: रोटी नहीं मिल रही कपड़ा मकान तो दूर की कोड़ी

देखेंगे दर्शनीय स्थल, करेंगे प्रतियोगिता की तैयारी

इस एप में एनसीआरटी की करीब 45 हजार किताबें व कक्षा आठवंी, दसवीं का सैलेबस उपलब्ध रहेगा। सरकार की योजनाओं की जानकारी तथा योजनाओं के आवेदन-पत्र उपलब्ध रहेंगे। इसके अलावा घर में रहने वाले अनुपयोगी सामग्री से खिलौने बनाने की जानकारी मिलेगी। विज्ञान के विभिन्न तरह के प्रोजेक्ट बनाने का तरीका बताया जाएगा। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए आवश्यक शिक्षा ज्ञान उपलब्ध रहेगा। छात्र घर बैठे परीक्षाओं की तैयारी कर सकेंगे। वहीं एक बार शुरूआत होने के बाद इसमें जिले के दर्शनीय धार्मिक पर्यटक स्थलों की जानकारी वीडियो समेत अपलोड की जाएगी। भविष्य में जिले की डॉक्यूमेंट्री भी बनाई जाएगी।

Read more: ऐसा क्या हुआ कि उसने मौत को गले लगा लिया

ऐसे करेगा काम

जिला प्रशासन की पहल पर मोहिनी फाउंडेशन की ओर से झालावाड़ के बाद बारां जिले में इस तरह का ज्ञान केन्द्र शुरू करने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए एनटीपीसी के सीआरएस फंड से आर्थिक सहयोग लिया जा रहा है। केन्द्र पंचायत समिति के दो कक्षों में शुरू होगा। इसमें कम्प्यूटर, एलईडी, हैड फोन आदि होंगे। लोग केन्द्र पर पहुंचकर भी कम्प्यूटर पर देश दुनिया की जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इसके केन्द्र के वाई-फाई से जुड़कर स्मार्ट मोबाइल व टेबलेट रखने वाले लोग घर बैठे ज्ञानवर्धन कर सकेंगे। फिलहाल वाई-फाई करीब पांच से सात सौ मीटर क्षेत्र में काम करेगा।
-इसमें एनआईसी की ओर से तकनीकी सहयोग किया जा रहा है। भविष्य में जिले की डॉक्यूमेंट्री बनाकर अपलोड करने तथा बाद में क्षेत्र के आवासीय विद्यालयों व छात्रावासों कों भी जोडऩे का विचार है। जानकारियों को समय-समय पर अपडेट किया जाएगा।
-मनीष शर्मा, डीआईओ, एनआईसी बारां

जानकारी सहजता से मिलेगी

-इस केन्द्र के माध्यम से महिलाओं, बच्चों, बुजुर्गो, किसान व मजदूर हर वर्ग से सम्बंधित सरकारी योजनाओं की जानकारी सहजता से मिलेगी। किताबें व प्रतियोगी परीक्षाओं की जानकारी मिलेेगी। इससे छात्रों समेत क्षेत्र के लोगों को काफी सुविधा मिलेगी।
-डॉ. एसपी सिंह, जिला कलक्टर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned