कोटा से 27 छात्र-छात्राओं को लेकर बस पहुंची मेरठ, स्वास्थ्य विभाग की टीमें जांच में जुटी

Highlights

  • बच्चों को सामने देखकर अभिभावकों ने ली राहत की सांस
  • छात्राओं ने कहा- हॉस्टल में फंसे थे, नहीं हुई कोई दिक्कत
  • स्वास्थ्य विभाग ने रैपिड टेस्ट के लिए टीमें गठित की

 

By: sanjay sharma

Published: 19 Apr 2020, 03:59 PM IST

मेरठ। राजस्थान के कोटा में अलग-अलग कोचिंग सेंटरों में मेडिकल व इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने वाले 27 छात्र-छात्राओं को लेकर बस रविवार को रोडवेज बस स्टैंड पहुंची। इन छात्रों को उन्हें अलग-अलग रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम इन छात्र-छात्राओं का रैपिड टेस्ट करने में जुटी है।

यह भी पढ़ेंः कोरोना पॉजिटिव मरीज का गुपचुप इलाज करता रहा अस्पताल, संक्रमित की मौत के बाद लाइसेंस सस्पेंड

लॉकडाउन के चलते मेरठ ही नहीं, प्रदेश के अन्य जिलों के भी ऐसे युवा कोटा में फंस गए थे जो वहां विभिन्न कोचिंगों में मेडिकल व इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे हैैं। रविवार को बस से छात्र-छात्राओं को बस स्टैंड लाया गया। वहां से उन्हें अलग-अलग क्वारंटाइन किया गया है। सीएमओ डा. राजकुमार ने कहा कि कोटा से आए सभी छात्र-छात्राओं को घर भेजने से पहले उनका रैपिड एंंटीबॉडी टेस्ट कराया जा रहा है। इस किट से 15-20 मिनट में रिपोर्ट आती है। इन सभी छात्र और छात्राओं का रैपिड एंटीबॉडी टेस्ट आज ही कराया जाएगा। इसके लिए टीमें गठित की गई हैं।

कर्मवीर: कोरोना से जंग में स्वास्थ्य अधिकारी ने गेस्ट हाउस को ही बना लिया अपना आशियाना, एक महीने से नहीं गए घर

प्रशासनिक सूत्रों के मुताबिक 27 विद्यार्थियों के परिजनों ने संपर्क कर मदद मांगी थी। वहीं बच्चों को लेने के लिए इनके परिवार वाले भी पहुंचे। हालांकि उन्हें छात्र-छात्राओं से रैपिड टेस्ट होने तक मिलने से मना कर दिया गया। कोटा से आई छात्रा अनामिका ने बताया कि वे लोग कोटा में अपने हॉस्टल में फंसे हुए थे। हालांकि वहां पर किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं थी। खाने-पीने का सामान मेस से आ रहा था। कोचिंग सेंटर संचालक और सरकार पूरी मदद कर रहे थे। उन्होंने बताया कि यहां पर उनके परिजन परेशान थे। इसलिए ही सरकार और उनके कोचिंग सेंटर वालों ने उनको मेरठ भेजने की व्यवस्था की।

यह भी पढ़ेंः Meerut: लॉकडाउन के दौरान बाजार खुलने और भीड़भाड़ का वीडियो वायरल, एसएसपी ने शुरू कराई जांच

युवक अदित चौहान ने बताया कि वे कोटा में कम्पटीशन की तैयारी कर रहे थे। लॉकडाउन हो गया और सभी छात्र वहां पर फंस गए। उन्होंने बताया कि उनको कोटा में किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हुई, लेकिन परिजन यहां पर परेशान थे। अब कोटा में जो भी बाहर के छात्र थे और तैयारी कर रहे थे वे सभी अपने-अपने घरों को भेज दिए गए हैं।

Corona virus
Show More
sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned