भारत-सेशल्स में 6 समझौतों पर दस्तखत, नौसैनिक अड्डा बनने का रास्ता साफ

भारत-सेशल्स में 6 समझौतों पर दस्तखत, नौसैनिक अड्डा बनने का रास्ता साफ

| Updated: 25 Jun 2018, 06:25:43 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

भारत ने सोमवार को सेशेल्स को प्रतिरक्षा क्षमताओं और समुद्री बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने के लिए 10 करोड़ डॉलर का ऋण प्रदान करने की घोषणा की है।

नई दिल्लीः सेशल्स में भारत की तरफ से बनने वाले नौसेना अड्डा बनाने का रास्ता साफ हो गया है। सोमवार को नई दिल्ली में सेशल्स के राष्ट्रपति डैनी फॉरे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच मुलाकात में इस पर सहमति बनी। बता दें कि भारत दौरे से पहले डैनी फॉरे ने असम्पशन आइलैंड पर नौसैनिक अड्डा बनाने के समझौते को रद्द करने का फैसला किया था। इस इनकार के बाद कूटनीतिक तौर पर भारत को धक्का लगा था। लेकिन अब सेशल्स के राष्ट्रपति ने कहा है कि उनको भारत से कोई दिक्कत नहीं है। हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया जा रहा है कि नौसेना अड्डा बनाने का विवाद अभी सुलझा नहीं है क्योंकि सेशल्स में विपक्ष इसका विरोध कर रहा है।

भारत सेशेल्स को 10 करोड़ डॉलर रक्षा ऋण देगा
सोमवार को भारत और भारत-सेशल्स में 6 समझौतों पर दस्तखत हुए हैं। भारत ने सोमवार को सेशेल्स को प्रतिरक्षा क्षमताओं और समुद्री बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाने के लिए 10 करोड़ डॉलर का ऋण प्रदान करने की घोषणा की। भारत सेशेल्स में अपने रणनीतिक केंद्र का निर्माण करना चाहता है और दोनों देशों ने अपने हितों के लिए साथ मिलकर काम करने का फैसला किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सेशेल्स के राष्ट्रपति डैनी फौरे के बीच हैदराबाद हाउस में हुई वार्ता के बाद यहां दोनों नेताओं की ओर से जारी संयुक्त प्रेसवार्ता में पीएम ने ये घोषणा की।

भारत ने दिया सेशेल्स को मदद का भरोसा
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के आमंत्रण पर पहले द्विपक्षीय दौरे पर भारत आए फौरे ने दिल्ली पहुंचने से पहले अहमदाबाद और गोवा की यात्रा की। मोदी ने कहा कि भारत सेशेल्स को उसकी प्रतिरक्षा क्षमताओं और समुद्री बुनियादी ढांचों को मजबूत बनाने और रक्षा जवानों की क्षमता बढ़ाने में मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। मोदी ने कहा कि भारत की मदद से सेशेल्स परंपरागत और गैर-परंपरागत दोनों प्रकार की समुद्री चुनौतियों का समाधान करने में सक्षम होगा और अपने समुद्री संसाधनों की सुरक्षा कर पाएगा।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned