अरे ये क्या, म्हाडा के एमएपीएस से होगा ये सब ?

म्हाडा ( Mhada ) ने लॉन्च एमएपीएस (MAPS) ( Mhada Advance Publicity System ) किया, सरकारी कार्यों में पारदर्शिता ( Transparency ) आएगी, म्हाडा प्राधिकरण ( MHADA Authority ) को तेज सेवा देने के लिए डिजाइन किया गया यह ऐप, म्हाडा उपाध्यक्ष ( MHADA Vice President ) मिलिंद म्हैसकर के कुशल नेतृत्व में बनाया गया ऐप, ऐप लॉचिंग ( App launching ) के दौरान म्हाडा अध्यक्ष ( MHADA President ) उदय सामंत समेत अन्य म्हाडा अधिकारी रहे मौजूद

 

मुंबई. म्हाडा ने शुक्रवार को सेवाओं को सुलभ और पारदर्शी बनाने के लिए 'म्हाडा ऑटो डीसीआर अनुमति प्रणाली' (एमएपीएस) प्रणाली को लॉन्च किया गया। इस दौरान उदय सामंत ने बताया कि सभी सेवाएं जैसे आर्किटेक्चर पंजीकरण, भवन निर्माण की अनुमति, निर्माण और निवास प्रमाण पत्र की पूर्णता, दस्तावेजों की ऑनलाइन पूर्ति और भुगतान आदि कार्यों में तेजी आएगी। एमएपीएस प्रणाली शहर के लिए वरदान साबित होगी, जो मुंबई में बढ़ते शहरीकरण की जरूरतों को पूरा करेगा। यह इस माध्यम से सरकारी कार्यों में पारदर्शिता बढ़ाने के साथ-साथ पुनर्विकास की प्रक्रिया को भी गति देगा।

अब सभी का होगा अपना घर, म्हाडा की यह है रणनीति

MHADA : तेजी पर रहेगा 3.84 लाख घरों का निर्माण कार्य

अरे ये क्या, म्हाडा के एमएपीएस से होगा ये सब ?

म्हाडा के अन्य अधिकारी उपस्थित रहे

म्हाडा प्राधिकरण को तेज सेवा देने के लिए डिजाइन किया गया यह ऐप परियोजना के काम को तेज करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। इस ऐप को म्हाडा के उपाध्यक्ष मिलिंद म्हैसकर के कुशल नेतृत्व में तैयार किया गया है। इस मौके पर सामंत समेत मुंबई बोर्ड के सभापति मधु चव्हाण, मुंबई रिपेयर बोर्ड में मुख्य अधिकारी सतीश लोखंडे, वित्त नियंत्रक विकास देसाई, मुख्य सूचना और संचार प्रौद्योगिकी अधिकारी सविता बोडके, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, वैशाली गडपाले, उप मुख्य अभियंता राजीव सेठ समेत म्हाडा के अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Decision : पवई और विरार में बनेंगे 950 नए घर

चार दशक पुरानी MHADA मुख्यालय की इमारत की होगी मरम्मत

अरे ये क्या, म्हाडा के एमएपीएस से होगा ये सब ?

आदित्य ठाकरे की मांग के बाद MHADA का फैसला

तीन कक्षों का निर्माण...

विदित हो कि बांद्रा पूर्व स्थित म्हाडा मुख्यालय में लॉन्च किया गया। महाराष्ट्र सरकार ने बृहन्मुंबई क्षेत्र में 114 पुराने म्हाडा भवनों के पुनर्विकास / पुनर्विकास में तेजी लाने के लिए म्हाडा को 23 मई 2018 को नियोजन प्राधिकरण का दर्जा दिया था। इसके बाद से पुनर्विकास प्रस्तावों को चलाने के लिए म्हाडा मुख्यालय में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत लेआउट अनुमोदन कक्ष, भवन अनुमतियां कक्ष और भवन निर्माण प्रस्ताव के कार्यान्वयन के लिए तीन अलग-अलग कमरों को निर्मित किया गया।

म्हाडा की है मिल मजदूरों को घर दिलाने की जिम्मेदारी

Mhada अब PMGP के तहत करेगी इमारतों के पुनर्विकास

धोखाधड़ी: अधिकारियों की मिलीभगत से बिल्डर ने म्हाडा को पहुंचाया 2000 करोड़ का नुकसान

सभी प्रकार के प्रमाण पत्र होंगे उपलब्ध...

उल्लेखनीय है कि अब इस माध्यम से विभिन्न परियोजनाओं के निर्माण तक सभी कार्य इस प्रणाली के माध्यम से ऑन लाइन किए जाएंगे। म्हाडा ऑटो डीसीआर अनुमति प्रणाली (एमएपीएस) प्रणाली के माध्यम से एक खिड़की बनाई जाएगी, जिसे अनुमति, विभिन्न गैर-आपत्ति प्रमाण पत्रों को ऑनलाइन दिया जाएगा। साथ ही सीएडी सॉफ्टवेयर, ऑनलाइन भुगतान भुगतान, डिजिटल हस्ताक्षर सत्यापन / प्रमाण पत्र, एसएमएस-ई-मेल के माध्यम से अलर्ट, एसएमएस और ईमेल के माध्यम से अधिसूचना, एमआईएस रिपोर्ट के लिए अलग डैशबोर्ड, ऑनलाइन साइट के लिए सभी प्रकार के प्रमाण पत्र उपलब्ध कराए गए हैं।

वर्षों से MHADA प्राधिकरण से सैकड़ों लोग लगाए बैठे थे आस

Show More
Rohit Tiwari
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned