आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी में सरकार के लगे 107 करोड़ रुपये, कब्जे में ले सकती है योगी सरकार

Highlights:

-आजम के जौहर विश्वविद्यालय को लेकर आईं शिकायतों की जांच कराई गई

-इनकी जांच रिपोर्ट में आया कि आजम खान ने मंत्री रहते हुए सरकारी 107 करोड़ रुपये भवनों में लगाया

-उसके आधार पर विस्तृत रिपोर्ट योगी सरकार को भेजी गई है

By: Rahul Chauhan

Updated: 07 Mar 2020, 01:35 PM IST

रामपुर। समाजवादी पार्टी के कद्दावेर नेता व रामपुर सांसद आजम खान की मुश्किलें दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कारण, जहां एक तरफ आजम खान को कोर्ट से राहत मिलती नजर नहीं आ रही है तो वहीं अब उनके ड्रीम प्रोजेक्ट मौलाना मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी को यूपी सरकार अपने कब्जे में ले सकती है। दरअसल, रामपुर जिलाधिकारी आंजनेय कुमार द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को यूनिवर्सिटी संबंधित एक रिपोर्ट भेजी गई है। जिसमें बताया गया है कि जौहर यूनिवर्सिटी में उत्तर प्रदेश सरकार का करीब 107 करोड रुपये भावनों के निर्माण में लगा हुआ है।

यह भी पढ़ें : राहत भरी खबर! चीन के वुहान शहर से लौटे युवक समेत तीन संदिग्धों के सैंपल निगेटिव

इस बाबत रामपुर जिलाधिकारी आंजनेय कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि बीते 1 वर्ष के कार्यकाल में आजम खान की निजी ट्रष्ट मौलाना मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय को लेकर जितनी शिकायतें आईं। तमाम शिकायतें सीएम योगी आदित्यनाथ के यहां भी की गईं और अलग-अलग मंत्रालयों में भी की गई। जिनकी जब जांच रिपोर्ट सामने आई है तब यह बात साफ हुई कि रामपुर सांसद आजम खान ने सरकार में मंत्री रहते हुए सरकार का सरकारी 107 करोड़ रुपये गलत तरह से अपनी निजी जौहर ट्रष्ट में बनने वाले भवनों में इस्तेमाल किया। जांच रिपोर्ट आने के बाद उसके आधार पर विस्तृत रिपोर्ट तैयार करके हमने सरकार को भेजी है। अब शासन से जो भी निर्देश आएगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें: अमर सिंह की बहू-बेटियों पर आपत्तिजनक टिप्पणी मामले में भी बढ़ी आजम खान की मुश्किलें

भाजपा नेता ने खोला था आजम के खिलाफ मोर्चा

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के नेता आकाश हनी ने सूबे की सत्ता परिवर्तन के बाद से ही आजम खान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। इस दौरान उन्होंने उनकी निजी जौहर ट्रस्ट को लेकर दर्जनों शिकायतें सीएम योगी आदित्यनाथ के यहां पर की थींं। इसके अलावा पीडब्ल्यूडी विभाग में खुद स्वयं जाकर के भी उन्होंने इस बाबत शिकायत की। जिसे सरकार ने गंभीरता से लेकर उनकी जांच रामपुर के अफसरों से कराई।

यह भी पढ़ें : Holi 2020 से पहले रेलवे ने दिया तोहफा, नॉन स्टॉप सफर पूरा कर सकेंगे यात्री

आजम का दावा, खून पसीने की कमाई से बनाई यूनिवर्सिटी

गौरतलब है कि जौहर यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति आजम खान, सीईओ अब्दुल्ला आजम, सदस्य तंजीन फातिमा और सलीम कासिम चारों अभी जेल में हैं। आजम खान यूनिवर्सिट को लेकर कहते नजर आए हैं कि उन्होंने अपने खून पसीने की कमाई से इसे सींचा है और उन्होंने भीख मांगकर इसको बनाया है। वह कहते हैं कि उन्होंने जीवन भर की कमाई से इतनी बड़ी जौहर विश्वविद्यालय बनाई है।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned