पृथ्वी के करीब आ रहा 'Mini Moon', गति को लेकर अंतरिक्ष वैज्ञानिक हैरान !

  • पृथ्वी की तरफ अक्टूबर महीने में 'छोटा चांद' (Mini Moon) आने वाला है
  • अगले साल मई तक यह धरती की कक्षा में ही रहेगा।
 

By: Vivhav Shukla

Updated: 28 Sep 2020, 03:54 PM IST

नई दिल्ली। हमारे पृथ्वी की तरफ अक्टूबर महीने में 'छोटा चांद' (Mini Moon) आने वाला है। दरअसल, 2020 SO नाम का ऑब्जेक्ट अगले महीने धरती की तरफ आ रहा है। जानकारों का कहना है कि अगले साल मई तक यह धरती की कक्षा में ही रहेगा। इसी के साथ कई ऐस्टरॉइड और उल्कापिंड भी पृथ्वी की परिक्रमा लगाएंगे। इन्हीं को छोटे चांद (Mini Moon) कहा जाता है। इस पिंड की खास बात यह है कि यह पहले पृथ्वी की चक्कर नहीं, बल्कि सूर्य (Sun) का चक्कर लगा रहा था।

एक्सप्लेनर : आज से 900 साल पहले ईरान में बनता था '20वीं सदी का स्टेनलैस स्टील'

चांद का मतलब केवल चंद्रमा से नहीं होता है। वैज्ञानिक भाषा में इसका मतलब किसी ऐसे प्राकृतिक ऑब्जेक्ट से होता है जो पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण से बंधा रहता है, और उसका ही चक्कर लगता है।

अब नासा के ऐस्ट्रोनॉमर्स को एक ऐसे ही प्राकृतिक ऑब्जेक्ट के बारे में पता चला है जो पृथ्वी की तरफ बढ़ रहा है। नासा के मुताबिक छोटा सा यह चंद्रमा पृथ्वी की कक्षा में घुस सकता है। यह 27 हजार मील की दूरी तक आ चुका है.

जानकारों की माने तो ये कोई क्षुद्रग्रह (Asteroid) नहीं है जो पृथ्वी की कक्षा में आकर उसके पास से निकल जाए, ये एक पुराने रॉकेट का हिस्सा है जो चंद्र अभियान के लिए उपयोग में लाया गया था। इसे आप अंतरिक्ष का कचरा (Debris) भी कह सकते हैं।

ये ऑब्जेक्ट 1 दिसंबर को धरती के 25 हजार किमी दूर से गुजरने की संभावना है। यहीं ऑब्जेक्ट धरती का दुबारा चक्कर लगाकर 2 फरवरी, 2021 को वापस आएगा।

इनोवेशन: अब हम जो सोचेंगे वो तस्वीरों के रूप में कम्प्यूटर पर भी देख सकेंगे हम

मशहूर ऐस्ट्रोनॉमर टोनी डन का मानना है कि 2020SO अक्टूबर 2020-मई 2021 के बीच धरती की कक्षा में आ सकता है। लेकिन ये भी हो सकता है कि ये वाले महीनों में भी अपनी जगह बदल दे।

वैज्ञानिकों ने बनाया दुनिया का सबसे छोटा Ultrasound Detecto

टोनी ने इस Mini Moon की गति को लेकर संभावना जताई है कि यह कोई मानव निर्मित ऑब्जेक्ट भी हो सकता है। उनके मुताबिक औसतन किसी स्पेस रॉक की गति 11 किमी प्रति सेकंड से 72 किमी प्रति सेकंड होती है जबकि 2020 SO की गति सिर्फ 0.6 किमी प्रति सेकंड है। ऐसे में माना जा रहा है कि ये 1960 के दशक का पुराना बूस्टर रॉकेट है।

 
Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned