scriptSwitzerland approves euthanasia device for painless death | स्विट्जरलैंड में इच्छा मृत्यु को मिली मंजूरी, खास मशीन के जरिए सिर्फ एक मिनट में दी जाएगी बिना दर्द की मौत | Patrika News

स्विट्जरलैंड में इच्छा मृत्यु को मिली मंजूरी, खास मशीन के जरिए सिर्फ एक मिनट में दी जाएगी बिना दर्द की मौत

यह मशीन सिर्फ उन लोगों के लिए इस्तेमाल की जा सकेगी, जो लाईलाज बीमारी से जूझ रहे हैं। इच्‍छा मृत्‍यु जिसे अंग्रेजी में यूथनेशिया कहते हैं। यह ग्रीक भाषा का शब्द है और इसका मतलब है अच्छी मौत। इस मशीन को मंजूरी मिलने के बाद कुछ लोग स्विट्जरलैंड सरकार के फैसले पर सवाल खड़े कर रहे हैं।

नई दिल्ली

Published: December 08, 2021 05:12:57 pm

नई दिल्ली।

स्विट्जरलैंड सरकार ने अपने देश में इच्छा मृत्यु को कानूनी मान्यता दे दी है। इसके लिए संबंधित व्यक्ति को सिर्फ एक मिनट में बिना दर्द के मौत दी जा सकेगी। वैसे इच्छा मृत्यु के बारे में तो सभी जानते ही होंगे। जब जिंदगी मौत से भी ज्यादा दर्द देने लगे तो लोग मौत को ही गले लगाना ज्यादा मुफीद समझते हैं। स्विट्जरलैंड की सरकार ने इच्छा मृत्यु के लिए इस्तेमाल की जाने वाली इस मशीन को अपने देश में कानूनी मंजूरी दे दी है। हालांकि, यह मशीन सिर्फ उन लोगों के लिए इस्तेमाल की जा सकेगी, जो लाईलाज बीमारी से जूझ रहे हैं। इच्‍छा मृत्‍यु जिसे अंग्रेजी में यूथनेशिया कहते हैं। यह ग्रीक भाषा का शब्द है और इसका मतलब है अच्छी मौत। इसके लिए सुसाइड मशीन तैयार करने वाली संस्था का नाम एग्जिट इंटरनेशनल है और इसके निदेशक डॉ. फिलीप निट्स्के हैं। डॉ. फिलीप ने ही इस खास डेथ मशीन को बनाया है और वह डॉ. डेथ के नाम से मशहूर हैं।
sw.jpg
स्विट्जरलैंड सरकार की ओर से इच्‍छा मृत्‍यु की मशीन को कानूनी मान्यता दिए जाने के बाद अब इस मशीन का इस्तेमाल ऐसे लोगों पर किया जा सकेगा, जो किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं और उनके बचने की उम्‍मीद नहीं है। इस मशीन के जरिए ऐसे लोग मौत को गले लगा सकेंगे।
यह भी पढ़ें
-

अमरीका में भारतीय मूल के पेट्रोल स्टेशन के मालिक की दिनदहाड़े हत्या, बेटी का था उस दिन जन्मदिन

वहीं, दूसरी ओर इस मशीन को मंजूरी मिलने के बाद कुछ लोग स्विट्जरलैंड सरकार के फैसले पर सवाल खड़े कर रहे हैं। उनकी दलील है कि इस निर्णय से आने वाले समय में आत्‍महत्‍या को बढ़ावा मिलेगा। इच्‍छा मृत्‍यु यानी यूथनेशिया दो तरह की होती हैं। एक, एक्टिव यूथनेशिया और दूसरी पैसिव यूथनेशिया।
एक्टिव यूथनेशिया में संबंधित व्यक्ति के जीवन का अंत सीधे तौर पर चिकित्सक की मदद से किया जाता है। वहीं, पैसिव यूथनेशिया में रिश्‍तेदारों और सगे-सम्‍बंधियों की अनुमति से चिकित्सक कोमा या गंभीर हालत में मरीज को बचाने वाले जीवनरक्षक उपकरण को धीरे-धीरे बंद करते जाते हैं और इस तरह धीरे-धीरे मरीज की मौत हो जाती है।
इस खास मशीन को बनाने वाले संगठन के मुताबिक, हमने सुसाइड पॉड के दो प्रोटोटाइप तैयार किए हैं। इसका नाम सारको रखा गया है। इसमें मरीज को सुलाया जाता है। इसके बाद एक बटन दबाया जाता है। ऐसा करने के बाद मशीन के अंदर नाइट्रोजन का लेवल बढ़ना शुरू हो जाता है और 20 सेकंड में ऑक्‍सीजन का लेवल 21 फीसदी से 1 फीसदी तक पहुंच जाता है। इसके परिणाम स्वरूप मरीज की 5 से 10 मिनट के अंदर मौत हो जाती है।
यह भी पढ़ें
-

आंग सान सू ची की सजा चार साल से घटाकर दो साल हुई

वहीं, संस्था के निदेशक डॉ. फ‍िलीप के अनुसार, इस नई मशीन से इच्‍छा मृत्‍यु मांगने वाला मरीज पैनिक नहीं होता। अब तक इच्‍छा मृत्‍यु का तरीका अलग था। स्विट्जरलैंड में अब तक करीब 1300 लोगों को इच्‍छा मृत्‍यु दी जा चुकी है।
इस खास मशीन को मंजूरी दिए जाने से पहले स्विट्जरलैंड में अब तक इच्‍छा मृत्‍यु मांगने वाले मरीजों को लिक्विड सोडियम पेंटोबार्बिटल का इंजेक्‍शन दिया जाता था। इंजेक्‍शन देने के 2 से 5 मिनट बाद मरीज गहरी नींद में चला जाता था। इसके बाद कोमा में जाने के बाद मरीज की मौत हो जाती थी। कंपनी का कहना है, अब सुसाइड कैप्‍सूल की मदद से मरीज को ज्‍यादा आसान मौत दी जा सकेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारराहुल गांधी से लेकर गहलोत तक कांग्रेस के नेता देश के विपरीत भाषा बोलते हैं : पूनियांश्रीलंकाई नौसेना जहाज की भारतीय मछुआरों के नौका से टक्कर, सात मछुआरे बाल बाल बचेटीआई-लेडी कॉन्स्टेबल की लव स्टोरी से विभाग में हड़कंप, दो बच्चों का पिता है टीआई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.