लगातार बारिश से जल स्त्रोत लबालब, फिर भी पुराने शहर में पानी का संकट

लगातार बारिश से जल स्त्रोत लबालब, फिर भी पुराने शहर में पानी का संकट

KRISHNAKANT SHUKLA | Publish: Sep, 18 2019 12:00:11 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

heavy rain in bhopal: राजधानी के जल स्रोत लबालब, फिर भी 5 लाख आबादी को नहीं दे रहे रोजाना पानी, पुराने शहर समेत कोलार में एक दिन छोडकऱ सप्लाई किया जा रहा है पानी

भोपाल. मौजूदा मानसून सीजन में अभी तक हुई बारिश से राजधानी के जल स्रोत फुल टैंक लेवल (एफटीएल) को कई बार पार कर चुके हैं, पर नगर निगम शहवासियों को रोजाना पानी नहीं दे पा रहा है। कोलार समेत बड़े तालाब से जलापूर्ति वाले क्षेत्रों की पांच लाख से अधिक आबादी को अब भी एक दिन छोडकऱ पानी दिया जा रहा है।

MUST READ : टूटने वाला है 2006 का रिकॉर्ड, अगले 24 घंटे में तेज बारिश का अनुमान

गौरतलब है कि गर्मियों में जब केरवा डैम और बड़ा तालाब में जल स्तर तेजी से कम हो रहा था, तब निगम प्रशासन ने अपने स्तर पर पानी सप्लाई में कटौती की थी। शहर के अन्य क्षेत्रों में जलापूर्ति का समय 20 मिनट कम किया था। पर्याप्त बारिश होने से लबालब हुए जल स्रोतों के बाद भी जलापूर्ति में कटौती बरकरार है।

MUST READ : पानी-पानी हुआ प्रदेश, टूटा रेकॉर्ड, 48 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी

सिंचाई विभाग के जवाब का इंतजार
कोलार में केरवा डैम से पानी सप्लाई किया जाता है। सिंचाई विभाग ने कोलार के लिए पांच एमसीएम पानी आरक्षित किया था। इस बार नगर निगम ने दस एमसीएम पानी मांगा है। इस पर सिंचाई विभाग विचार कर रहा है। अभी कोलार की करीब दो लाख आबादी को एक दिन छोडकऱ पानी दिया जा रहा है। डैम के लबालब होने के बाद कोलारवासियों द्वारा इसे प्रतिदिन करने की मांग की जा रही है।

 

डैम-तालाब में जमा हुआ भरपूर पानी

इस साल हुई अच्छी बारिश से राजधानी में पानी सप्लाई करने वाले जल स्रोतों मसलन बड़ा तालाब, कोलार और केरवा डैम में 397 एमसीएम (मिलियन क्यूबिक मीटर) पानी जमा हो चुका है। इससे तीन साल तक राजधानीवासियों की प्यास बुझाई जा सकती है। गौरतलब है कि राजधानी में सालाना 120 एमसीएम पानी की सप्लाई की जाती है।

MUST READ : रेकॉर्ड तोड़ बारिश से भदभदा के 16वीं बार खुले गेट, निचले क्षेत्रों में भरा पानी, अलर्ट जारी

बड़ा तालाब: फैसला लेने में हो रही देरी

बड़ा तालाब से जलापूर्ति बढ़ाने के लिए नगर निगम को किसी अन्य एजेंसी से मंजूरी नहीं लेना है, लेकिन निगम प्रशासन अभी तक निर्णय नहीं ले सका है। मालूम हो कि तत्कालीन महापौर कृष्णा गौर के कार्यकाल में जल संकट बढऩे पर पुराने शहर और बैरागढ़ में एक दिन छोडकऱ पानी देने की व्यवस्था की थी। इससे तीन लाख की आबादी को परेशानी उठानी पड़ रही है। पूर्व निगम अध्यक्ष कैलाश मिश्रा ने मंत्री जयवद्र्धन सिंह के सामने रोजाना जलापूर्ति का मुद्दा उठाया था।

MUST READ : आफत की बारिश: मौसम वैज्ञानिक हैरान, घने बादलों से छाया अंधेरा, अलर्ट!

बड़ा तालाब-डैम हैं एफटीएल पर

3588 एमसीएफटी पानी जमा है बड़ा तालाब में
505.67 मीटर फुल टैंक लेवल कलियासोत डैम का
509.93 मीटर फुल टैंक लेवल है केरवा डैम का
462.20 मीटर फुल टैंक लेवल कोलार डैम का

कोलार को रोजाना जलापूर्ति शुरू करने प्रस्ताव भेजा है। बड़ा तालाब पर उच्चाधिकारियों से चर्चा के बाद निर्णय होगा।
- एआर पंवार, इंजीनियर, जलकार्य

पानी पर्याप्त है और रोजाना जलापूर्ति में दिक्कत नहीं होना चाहिए। इस मामले में संबंधितों से चर्चा करके निर्णय किया जाएगा। - आलोक शर्मा, महापौर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned