मंदी की मार से गुजरात में इंडक्शन फर्नेस उद्योग में 7000 बेरोजगार

मंदी की मार से गुजरात में इंडक्शन फर्नेस उद्योग में 7000 बेरोजगार

Saurabh Sharma | Updated: 03 Sep 2019, 05:40:23 PM (IST) इंडस्‍ट्री

  • तीन माह में ही एक तिहाई यानी लगभग 50 इकाइयां बंद
  • उत्पादन गिरकर 15 से 20 हजार टन रह गया है उत्पादन
  • 50 अन्य इकाइयां भी खस्ताहाल, बंदी की कगार पर पहुंची

नई दिल्ली। वाहन उद्योग तथा स्टील का बतौर कच्चा माल इस्तेमाल करने वाले अन्य उद्योगों में मौजूदा मंदी के असर से गुजरात के इंडक्शन फर्नेस उद्योग यानी लोहे के कबाड़ अथवा स्क्रैप आयरन और स्पांज आयरन को बिजली चालित भट्टियों में गला कर बिलेट या इंगट जैसे उत्पाद बनाने वाली इकाइयों पर जबरदस्त मार पड़ी है और पिछले तीन माह में ही ऐसी एक तिहाई यानी लगभग 50 इकाइयां बंद हो गयी हैं और इनके 7000 वेतनभोगी कामगार बेरोजगार हो गए हैं। इस दौरान कुल उत्पादन भी गिर कर लगभग एक चौथाई रह गया है।

यह भी पढ़ेंः- अमरीका और चीन के ट्रेड वॉर से बढ़ा भारत में शादियों का खर्च

भारत के तीसरे सबसे बड़े ऑयरन बिलट/इंगट (जिनका इस्तेमाल स्टील के पतरे और अन्य सामान बनाने में होता है) उत्पादक राज्य गुजरात में इंडक्शन फर्नेस एसोसिएशन के अध्यक्ष इनामुल हक इराकी ने मंगलवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि राज्य में तीन माह पहले तक कुल 150 इंडक्शन फर्नेस चालू थे, जिनमें 50 से 60 हजार वेतनभोगी कामगार थे और प्रति दिन का उत्पादन 60 से 70 हजार टन था। मंदी के चलते तीन माह में 50 इकाइयां बंद हो गई, सात हजार कामगार बेरोजगार हो गए और उत्पादन गिर कर 15 से 20 हजार टन ही रह गया है। 50 अन्य इकाइयां भी खस्ताहाल हैं और बंदी की कगार पर हैं।

यह भी पढ़ेंः- 6 लाख रुपए की कमाई पर नहीं देना होगा टैक्स, सरकार बदलने जा रही है नियम!

उन्होंने कहा कि राज्य और केंद्र सरकार अगर जल्द ही मदद के लिए नहीं आई तो पूरा उद्योग ही संकट में पड़ जाएगा। इस उद्योग में बिजली की खपत अधिक होती है, इसलिए इसकी दरों में राहत की हमने सरकार से मांग की है। हमने बिजली यूनिट के रूप मेें एक पैकेज की मांग की है। मंदी के बीच महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में सस्ती बिजली पा रही इंडक्शन फर्नेस इकाइयां गुजरात में अपना माल बेच कर हमे नुकसान पहुंचा रही हैं। हमने सरकार से निर्यात प्रोत्साहन दर को मौजूदा साढ़े तीन फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसदी करने की और भारतीय कमोडिटी एक्सचेंज में स्टील तथा इंगट आदि के फ्यूचर ट्रेडिंग पर रोक लगाने की भी मांग की है।

यह भी पढ़ेंः- बैंक मर्जर और रुपए में गिरावट का दिखा असर, सेंसेक्स 770 अंक टूटा, निफ्टी 2 फीसदी गिरकर बंद

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री तथा ऊर्जा मंत्री से उनके एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने कुछ समय पहले मुलाकात कर अपनी मांगे रखी थी पर अब तक कोई ठोस पहल नहीं हुई है। उन्होंने आज एक रैली निकाल कर प्रतीकात्मक विरोध स्वरूप उद्योग आयुक्त रोहित शर्मा को अपने उद्योगों की चाबियां और मांगों का ज्ञापन उन्हें सौंपा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned