यहां दस थाना क्षेत्रों में लगा संपूर्ण लॉकडाउन, होम आईसोलेशन की अब ऐसे मिलेगी इजाजत, यह होगी शर्तें व नियम

प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले पहले से ज्यादा तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। जिसे देखते हुए वीकेंड लॉकडाउन तो शुरू हो गया है, तो वहीं जिन इलाकों में ज्यादा मामले है वहां संपूर्ण लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है।

By: Abhishek Gupta

Published: 22 Jul 2020, 09:09 PM IST

लखनऊ. प्रदेश में कोरोना (Coronavirus in UP) संक्रमण के मामले पहले से ज्यादा तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। जिसे देखते हुए वीकेंड लॉकडाउन (Lockdown) तो शुरू हो गया है, तो वहीं जिन इलाकों में ज्यादा मामले है वहां संपूर्ण लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है। लखनऊ के चार इलाकों के बाद अब कानपुर के 10 थानाक्षेत्रों में मंगलवार से लाकडाउन लागू कर दिया गया जोकि शुक्रवार तक जारी रहेगा। यह थाना क्षेत्र गोविन्द नगर, काकदेव, चकेरी, बर्रा, किदवई नगर, कल्याणपुर, नौबस्ता, स्वरूप नगर, नवाबगंज हैं।

कानपुर में कोरोना के कई मामले सामने आए जिसके बाद प्रशासन ने यह फैसला लिया है। डीएम ब्रह्मदेव राम तिवारी ने इस पर कहा कि शहर में जिन थानाक्षेत्रों में अधिक तेजी से संक्रमण फैल रहा है उन्हें चिन्हित करके कंटेनमेंट जोन की श्रेणी में रखा गया है और फिर यहां पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया है। इस क्षेत्रों मेंकेवल आवश्यक सेवाओं से जारी रहेंगे। सभी बाजार व दुकानें पूरी तरह से बंद रहेंगे।

ये भी पढ़ें- फिर आए कोरोना के एक दिन में रिकॉर्ड 2308 मामले, केवल जुलाई में हुए 32096 संक्रमित, सबसे ज्यादा यहां सक्रिय

घर पर आइसोलेट होकर स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं-

अमित मोहन ने बताया कि लक्षणरहित लोग कुछ शर्तों का पालन करते हुए, घर पर भी आइसोलेट होकर स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं। होम आइसोलेशन के दौरान यदि किसी को कोई लक्षण आ रहे हैं तो वे अपने जिले के कंट्रोल रूम को सूचित करें और अगर आवश्यकता पड़ी तो उन्हें तत्काल कोविड अस्पताल में भर्ती कर दिया जाएगा। होम आइसोलेशन में जो लोग हैं अगर उन्हें कोई लक्षण नहीं आते हैं तो उन्हें दसवें दिन डिस्चार्ज मान लिया जाएगा लेकिन उसके बाद भी उन्हें 7 दिनों तक अपने घर पर ही क्वारंटाइन में रहना होगा। उसके बाद ही वे बाहर निकल सकते हैं।

ये भी पढ़ें- अटल से पिता और दोस्त का रिश्ता, मायावती के मुंहबोले भाई थे लालजी टंडन

होम आइसोलेशन वालों को रखना होगा यह-

उन्होंने कहा कि जो लोग होम आइसोलेशन में होंगे, उनके लिए यह भी व्यवस्था की गई है कि उन्हें अपने तापमान और ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल की जांच के लिए अपने पास एक थर्मामीटर, पल्स ऑक्सीमीटर रखना होगा। ताकि वह अपनी तापमान की जांच दिन में दो बार करें व कंट्रोल रूम को अपनी स्थिति से अवगत कराते रहें। अगर किसी व्यक्ति का ऑक्सीजन लेवल 94 से नीचे आता है तो वह तत्काल होम आइसोलेशन से कंट्रोल रूम को सूचित करें। ताकि उन्हें चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराई जा सके।

ऐसी मिलेगी होम आईसोलेशन की इजाजत-

होम आइसोलेशन में रहने वाले लोग 1800 180 5146 पर कॉल करके डॉक्टर से सलाह प्राप्त कर सकते हैं। यदि कोई व्यक्ति लक्षणरहित है और वह होम आइसोलेशन में रहना चाहता है तो हमारी रैपिड रिस्पॉन्स टीम, जिसमें एक डॉक्टर भी होंगे, जाकर जांच करेंगे कि व्यक्ति होम आइसोलेशन की सभी शर्तें भी पूरी कर पा रहे हैं या नहीं। सभी शर्तें पूरी होने के बाद ही होम आइसोलेशन की अनुमति दी जाएगी। इसके साथ ही एक शपथ पत्र भी साइन करवाया जाएगा और आइसोलेशन के सभी निर्देशों की एक प्रति भी उस व्यक्ति को उपलब्ध करवाई जाएगी। अमित मोहन ने बताया कि होम आइसोलेशन के दौरान अपना विशेष ध्यान रखें, ग्लव्स व मास्क का प्रयोग करें, सोडियम हाइपोक्लोराइट का प्रयोग कर कपड़ों व बर्तनों को भी विसंक्रमित करें। होम आइसोलेशन के दौरान अपने आपको केवल समाज से नहीं बल्कि अपने घर वालों से भी बिल्कुल आइसोलेट करके रखें, ताकि वे भी सुरक्षित रहें।

coronavirus
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned