वीडियोकाॅन कर्ज मामले में ईडी ने की कोचर दंपति से 8 घंटे तक पूछताछ

  • मंगलवार देर शाम ईडी ने खत्म की अपनी पूछताछ
  • मामले से जुड़े दस्तावेजों को लाने के बारे में कहा
  • 1,857 करोड़ रुपए के मामले में काेचर दंपत्ति से पूछताछ

By: Saurabh Sharma

Published: 15 May 2019, 06:17 AM IST

नई दिल्ली। आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर 1,875 करोड़ रुपए के वीडियोकॉन ऋण मामले की जांच के संबंध में मंगलवार को प्रवर्तन निदेशालय ( ईडी ) के समक्ष पूछताछ के लिए पेश हुए, और एजेंसी ने उनसे आठ घंटे तक पूछताछ की।

यह भी पढ़ेंः- लोकसभा चुनाव 2019 में निकला निवेशकों का दम, डूब गए करीब 10 लाख करोड़ रुपए

कोचर दंपत्ति मंगलवार सुबह खान मार्केट इलाके में स्थित ईडी मुख्यालय पहुंचे, और उनसे शाम सात बजे तक पूछताछ की गई। उनसे कुछ दस्तावेज लाने को कहा गया है। एजेंसी के अधिकारियों ने कोचर दंपत्ति से वीडियोकॉन समूह के प्रमोटर और चेयरमैन वेणुगोपाल धूत से उनके सौदे तथा उनके बीच हुए आर्थिक लेन-देन के बारे में पूछताछ की।

यह भी पढ़ेंः- वोडाफोन आइडिया को चौथी तिमाही में 4,878.3 करोड़ रुपए का घाटा

यह मामला 2009 और 2011 के दौरान आईसीआईसीआई बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को 1,875 करोड़ रुपये के ऋण को मंजूरी देने में कथित वित्तीय अनियमितताओं और भ्रष्ट आचार से संबंधित है। ईडी को अवैध लेन-देन से संबंधित सबूत मिले थे, जिसमें दीपक कोचर की कंपनी न्यूपॉवर को करोड़ों रुपये दिए गए थे।

यह भी पढ़ेंः- पलटवार की तैयारी में चीन, 1 जून से अमेरिकी वस्तुओं पर बढ़ाएगा शुल्क

कोचर दंपति से पिछले महीने मुंबई में कई बार पूछताछ हुई थी। दिल्ली में कोचर दंपति पहली बार ईडी के समक्ष पेश हुए। ईडी ने मार्च में अपनी जांच के तहत कोचर दंपत्ति के आवास तथा कार्यालय परिसरों की सिलसिलेवार तलाशी ली थी और चंदा तथा उनके पति दीपक कोचर के साथ-साथ धूत से पूछताछ भी की थी।

यह भी पढ़ेंः- लगातार छठे दिन पेट्रोल के दाम में 25 पैसे की कटौती, डीजल के दाम में कम हुए 12 पैसे प्रति लीटर

धूत ने कथित रूप से दीपक की कंपनी 'न्यूपॉवर रीन्यूवेबल्स लिमिटेड' में अपनी कंपनी 'सुप्रीम इनर्जी' के माध्यम से निवेश किया था, जिसके बदले में चंदा कोचर आईसीआईसीआई बैंक से ऋण को मंजूरी दिला दें।

यह भी पढ़ेंः- खुदरा महंगार्इ दर में बढ़ोतरी आैर यूएस-चीन ट्रेड वाॅर से शेयर बाजार बड़ी गिरावट की आेर, सेंसेक्स आैर निफ्टी लाल निशान पर

वीडियोकॉन समूह को दिए गए कुल 40,000 करोड़ रुपये के ऋण में से 3,250 करोड़ रुपये का ऋण आईसीआईसीआई बैंक द्वारा दिया गया था और आईसीआईसीआई के ऋण का बड़ा हिस्सा 2017 के अंत तक बकाया था। बैंक ने बकाया ऋण के 2,810 करोड़ रुपये को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) घोषित कर दिया था।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned