न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर की विदाई आज, क्या सीजेआई दीपक मिश्रा के साथ इस प्रावधान को करेंगे पूरा?

Kiran Rautela

Publish: May, 18 2018 08:05:08 AM (IST)

Miscellenous India
न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर की विदाई आज, क्या सीजेआई दीपक मिश्रा के साथ इस प्रावधान को करेंगे पूरा?

न्यायमूर्ति चेलमेश्वर को उनके सम्मान में सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने निमंत्रण दिया है लेकिन उन्होंने ये प्रस्ताव ठुकरा दिया है।

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े न्यायालय, सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश जे चेलमेश्वर आज सुप्रीम कोर्ट को अदविदा कहने वाले हैं। बता दें कि जस्टिस जे चेलमेश्वर सर्वोच्च न्यायालय के दूसरे सबसे बड़े न्यायाधीश हैं। साथ ही न्यायपालिका की पारदर्शिता के मुद्दे पर आवाज उठाने में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। जानकारी के अनुसार न्यायमूर्ति चेलमेश्वर को 22 जून को सेवानिवृत्त होना है। लेकिन 19 मई से उत्ततम न्यायानय में ग्रीष्मावकाश शुरू होने वाले हैं जिसकी वजह से न्यायाधीश जे चेलमेश्वर की विदाई शुक्रवार को ही की जाएगी।

जस्टिस चेलमेश्वर ने जज जोसेफ के प्रमोशन के लिए CJI को लिखा पत्र, कहा- केंद्र को फिर भेजें नाम

क्या इस प्रावधान को पूरा करेंगे न्यायाधीश जे चेलमेश्वर

गौरतलब है कि सर्वोच्च न्यायलय का एक प्रावधान है कि जब भी कोई न्यायाधीश सेवानिवृत्त होता है तो उसे अपना अंतिम दिन मुख्य न्यायाधीश के साथ बिताना होता है। यानी कि अपने अंतिम दिन का कामकाज वो मुख्य न्यायाधीश के साथ बैठकर करेगा। अब देखने वाली ये है कि जस्टिस जे चेलमेश्वर प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के साथ अपना अंतिम दिन साझा करेंगे या नहीं। इस बात को लेकर विधिक गलियारों में काफी गर्माहट देखने को मिल रही है।

बार एसोसिएशन ने निमंत्रण को ठुकरा दिया

खबर है कि न्यायमूर्ति चेलमेश्वर को उनके सम्मान में सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने निमंत्रण दिया है लेकिन उन्होंने ये प्रस्ताव ठुकरा दिया है। यह आयोजन शुक्रवार को होना था। साथ ही न्यायमूर्ति चेलमेश्वर को उनके बेहतरान कामें के लिए कई शीर्ष वकीलों से प्रशंसा भी मिली है।

जस्टिस चेलमेश्वर: कोलेजियम केंद्र सरकार को वापस भेजे न्यायमूर्ति केएम जोसेफ का नाम

न्यायमूर्ति एच आर खन्ना से तुलना

पूर्व विधि मंत्री शांति भूषण ने तो उनकी तुलना आपातकाल के दौरान मौलिक अधिकारों के निलंबन को बरकरार रखने वाले सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर असहमति जताने वाले न्यायमूर्ति एच आर खन्ना से भी कर दी।

इस वजह से आए आए प्रकाश में

बता दें कि न्यायमूर्ति चेलमेश्वर और शीर्ष अदालत के चार वरिष्ठतम न्यायाधीशों ने 12 जनवरी को प्रेस काॅन्फेंस करके प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ एक तरह से बगावत कर दी थी।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned