West Bengal : बाबुल सुप्रियो बोले TMC से मिला चुनौतीपूर्ण ऑफर, बताया कब देंगे सांसद पद से इस्तीफा

West Bengal बाबुल सुप्रियों के टीएमसी में शामिल होने के बदा से ही वे बीजेपी नेताओं के निशाने पर हैं, इस बीच सुप्रियो ने बताया कि वे 22 सितंबर को लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात कर एमपी पद से इस्तीफा देंगे

By: धीरज शर्मा

Published: 19 Sep 2021, 04:41 PM IST

नई दिल्ली। आसनसोल से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो (Babul Supriyo) के तृणमूल कांग्रेस (TMC) में शामिल होने बाद वे लगातार बीजेपी नेताओं के निशाने पर हैं। इस बीच बाबुल सुप्रियो ने बीजेपी नेताओं के सवालों और हमलों का जवाब दिया है।

बाबुल सुप्रियो ने टीएमसी जॉइन करने की वजह बताई, उन्होंने कहा कि राजनीति संन्यास लेने के बाद उन्हें तृणमूल कांग्रेस से चुनौतीपूर्म जिम्मेदारी मिली है। यही वजह है कि जनता की सेवा करने के लिए उन्होंने टीएमसी में शामिल होने की फैसला किया।

यह भी पढ़ेंः West Bengal: दिलीप घोष ने बाबुल सुप्रियो को बताया राजनीतिक पर्यटक, दिनेश त्रिवेदी ने पूछा बड़ा सवाल

बाबुल सुप्रियो ने बताया कि वे सांसद पद से बुधवार यानी 22 सितंबर को इस्तीफा दे देंगे। बुधवार को लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात करेंगे और एमपी पद से त्यागपत्र देंगे।

दरअसल टीएमसी में शामिल होने के बाद बीजेपी नेता खास तौर पर नेता विपक्ष शुभेंदु अधिकारी लगातार उनके सांसद पद से इस्तीफा देने की बात कर रहे हैं।

सुप्रियो ने खुले संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह राजनीति से संन्यास ले रहे थे, लेकिन कुछ ऐसा अवसर और चुनौती मिला है कि जिससे वह फिर राजनीति के साथ जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि, यह चुनौतीपूर्ण अवसर है। प्यार और युद्ध में सभी जायज है।

बीजेपी ने बाहरी लोगों को शीर्ष पर बैठाया
बाबुल सुप्रियो ने बीजेपी आलाकमान पर बड़ा आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि चुनाव के पहले बाहरी लोगों को संगठन के शीर्ष पर बैठाकर स्थानीय बीजेपी समर्थकों को नजरदांज किया गया था।

उन्होंने कहा कि पाला-बदल कोई नया नहीं है। बाबुल सुप्रियो ने सार्वजनिक रूप से बीजेपी की नीति पर सवाल उठाया है

यह भी पढ़ेंः West Bengal: बाबुल सुप्रियो ने BJP का छोड़ा दामन, अभिषेक बनर्जी की मौजूदगी में TMC में हुए शामिल

बता दें कि बाबुल सुप्रियो शनिवार 18 सितंबर को टीएमसी में शामिल हो गए थे। इसके बाद लगातार बीजेपी नेता उनकी आलोचना कर रहे हैं। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने उन्हें राजनीतिक पर्यटक बताया।

बता दें कि इस बार अप्रैल-मई महीने में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में बाबुल सुप्रियो को बीजेपी टालीगंज से उम्मीदवार भी बनाया गया था, लेकिन वह हार गए थे। वहीं मोदी मंत्रिमडल में जगह नहीं मिलने के बाद सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा कर दी थी।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned