सरकार को गैर-जीएसटी राजस्व 2022-23 में भारी इजाफा होने का अनुमान

सरकार को गैर-जीएसटी राजस्व 2022-23 में भारी इजाफा होने का अनुमान

Saurabh Sharma | Publish: May, 28 2019 06:06:37 AM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • अनुमान के अनुसार गैर-जीएसटी में 26.6 फीसदी की होगी वृद्धि
  • जीएसटी संग्रह 9,80,807 करोड़ रुपए होने की उम्मीद

नई दिल्ली। केंद्र सरकार का अनुमान है कि 2022-23 के दौरान वस्तु एवं सेवा कर ( जीएसटी ) से इतर कर संग्रह ( गैर-जीएसटी ) में 26.6 फीसदी की वृद्धि होगी। इसी समयावधि के दौरान कुल जीएसटी संग्रह 9,80,807 करोड़ रुपए होने की उम्मीद है, जोकि वर्ष 2020-21 और 2021-22 के क्रमश: 21.1 फीसदी और 12.3 फीसदी की तुलना मे महज 2.3 फीसदी है। सरकार का अनुमान है कि 2019-20 के दौरान जीएसटी संग्रह 7.61 लाख करोड़ रुपए होगा।

यह भी पढ़ेंः- 5800 करोड़ रुपए में मणिपाल का हो जाएगा मेदांता हाॅस्पिटल

यह भी सीबीआईसी का अनुमान
केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड ( सीबीआईसी ) के आंतरिक अनुमान के अनुसार, जीएसटी मुआवजा उपकर जून 2022 तक लगाया जाएगा और करीब 80 फीसदी राशि केंद्रीय उत्पाद/अन्य शुल्क के जरिए संग्रह किया जाएगा। इसके बाद जुलाई 2022 के आगे 20 फीसदी राशि सीजीएसटी/एसजीएसटी में स्थानांरित की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः- अब सरकारी नहीं रह सकेगी एअर इंडिया, 95 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी

जीएसटी कानून 2017 की धारा-7
जीएसटी कानून 2017 की धारा-7 ( राज्यों का मुआवजा ) के तहत राज्यों को राजस्व के नुकसान की भरपाई की जाती है। इसमें जीएसटी लागू होने के शुरुआती पांच साल तक राज्यों को राजस्व के नुकसान की भरपाई करने का प्रावधान है। नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था यानी जीएसटी एक जुलाई 2017 को लागू हुई। कुल जीएसटी राजस्व संग्रह मासिक आधार पर बढ़कर इस साल अप्रैल में सर्वाधिक 1,13,865 करोड़ रुपए हो गया।

यह भी पढ़ेंः- अमूल, मदर डेयरी के बाद बाबा रामदेव का मुंहतोड़ जवाब, लॉन्च किया नए मिल्क प्रोडक्ट्स

यह नहीं है सीबीआईसी की रिपोर्ट में जानकारी
सीबीआईसी की रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया है कि क्या सरकार कुछ मदों पर दरों में वृद्धि करेगी या नए क्षेत्र को जीएसटी के दायरे में शामिल किया जाएगा। एक वरिष्ठ कर पार्टनर ने कहा कि मुआवजा कर समाप्त होने के बाद केंद्रीय उत्पाद और सीमा शुल्क में वृद्धि की जा सकती है। मुआवजा उपकर लगाने की पांच साल की अवधि अगर नहीं बढ़ाई जाती है तो कई वस्तुएं खासतौर से कार, शीतल पेय काफी सस्ती हो जाएंगी।

यह भी पढ़ेंः- इस दिग्गज निवेशक व खरबपति के साथ लंच करने का शानदार मौका, कम से कम खर्च करने होंगे 17.5 लाख रुपए

विशेषज्ञों की राय
सरकार इस समय कार पर 28 फीसदी की दर जीएसटी वसूल करती है और मुआवजा उपकर 15 फीसदी तक है। अगर, मुआवजा उपकर समाप्त कर दिया जाएगा तो कारें सस्ती हो जाएंगी। हालांकि विशेषज्ञों ने बताया कि सरकार को खजाने में राजस्व का नुकसान मंजूर नहीं होगा और वह कानून में प्रदत्त ऊपरी सीमा के अनुसार जीएसटी की दरों में 40 फीसदी तक की वृद्धि कर सकती है। पीडब्ल्यूसी इंडिया पार्टनर प्रतीक जैन ने कहा, "क्या होगा इसके बारे में भविष्यवाणी करना काफी मुश्किल है। लेकिन मुआवजा उपकर का प्रावधान समाप्त होने पर जीएसटी की दर में वृद्धि की संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता है।"

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned