मुंबई में कोर्ट के आदेश से माहुल वासियों की सु​धरेगी जिंदगी ?

मुंबई में कोर्ट के आदेश से माहुल वासियों की सु​धरेगी जिंदगी ?
मुंबई में कोर्ट के आदेश से माहुल वासियों की सु​धरेगी जिंदगी ?

Rohit Kumar Tiwari | Updated: 11 Oct 2019, 12:03:01 PM (IST) Mumbai, Maharashtra, India

बॉम्बे हाईकोर्ट ( Bombay High Court ) ने दिया है आदेश, किराया ( Rent ) और डिपॉजिट ( Deposit ) के लिए आवेदन जमा कर रहे माहुल ( Mahul ) के लोग, अदालत के आदेश ( Order ) अनुसार 45 हजार ( 45000 ) डिपॉजिट के साथ हर महीने देना होगा 15 हजार ( 15000 ) रुपए किराया, अभी सभी लोगों ने जमा नहीं किया आवेदन ( Application )

मुंबई. बांबे हाईकोर्ट के आदेश अनुसार माहुल के लोगों ने 45 हजार रुपए डिपॉजिट और हर महीने 15 हजार रुपए किराया पाने के लिए बीएमसी के साथ ही राज्य सरकार के पास आवेदन जमा करना शुरू कर दिया है। अदालत ने अपने आदेश में कहा था कि 12 सप्ताह के भीतर प्रभावितों के लिए घर का इंतजाम किया जाए। ऐसा नहीं होने पर डिपॉजिट की रकम के साथ किराया देने का आदेश दिया था। मिली जानकारी अनुसार अभी तक सभी लोगों ने आवेदन नहीं जमा किया है।

ओमाईगॉड: म्हाडा से अपनी जिंदगी की इसलिए भीख मांग रहे हजारों माहुलवासी?

अपने घर का सपना लिए 40 दिनों से धरने पर बैठे हैं साढ़े पांच हजार परिवार,न्याय की आस में अब तक 12 लोगों की हो चुकी है मौत

मुंबई में कोर्ट के आदेश से माहुल वासियों की सु​धरेगी जिंदगी ?

बीएमसी की ओर से भी कोई पहल नहीं...

माहुल निवासी अनीता ढोले ने कहा ने कहा कि सरकार और बीएमसी को हमारी पीड़ा की जरा भी चिंता नहीं है। तभी तो हाईकोर्ट के आदेश पर अब तक अमल नहीं किया गया है। मेट्रो रेल का कारशेड बनाने के लिए आरे कॉलोनी में रातोंरात 2100 से ज्यादा पेड़ काट दिए गए। लेकिन, अदालत के आदेश के बावजूद माहुल के लोगों को घर देने के मामले में सरकार और बीएमसी की ओर से कोई सकारात्मक पहल नहीं की गई है।

ओह माई गॉड: करोड़ों बकाए के बावजूद म्हाडा मुंबई उदार, आखिर क्यों ?

धोखाधड़ी: अधिकारियों के साथ बिल्डर की मिलीभगत, म्हाडा को अरबों का नुकसान

दो साल में 300 लोगों की मौत
ढोले ने आरोप लगाया कि सरकार आम लोगों और पर्यावरण के खिलाफ काम कर रही है। ढोले ने यह भी दावा किया कि प्रदूषण के कारण विभिन्न बीमारियों के चलते दो साल के दौरान माहुल में तकरीबन 300 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

ओशिवारा में जमीन घोटाला : FIR दर्ज करने के आदेश के बावजूद कार्रवाई नहीं

Patrika Expose : ओशिवारा में सवा दो एकड़ भूखंड घोटाले का मामला

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned