कोरोना संकट को पुरूषार्थ से जीता जा सकता है

भाग्य सब कुछ नहीं होता, स्वयं का पुरूषार्थ ही सबकुछ होता है। पुरूषार्थी जो प्राप्त करते है, वह उपलब्धि परक होता है। कोरोना के इस संकट काल में हर व्यक्ति को अपने पुरूषार्थ की महत्ता समझनी चाहिए। क्योंकि इस संकट को पुरूषार्थ से ही जीता जा सकता है।

By: Ashish Pathak

Published: 20 Apr 2020, 03:47 PM IST

रतलाम. भाग्य सब कुछ नहीं होता, स्वयं का पुरूषार्थ ही सबकुछ होता है। पुरूषार्थी जो प्राप्त करते है, वह उपलब्धि परक होता है। कोरोना के इस संकट काल में हर व्यक्ति को अपने पुरूषार्थ की महत्ता समझनी चाहिए। क्योंकि इस संकट को पुरूषार्थ से ही जीता जा सकता है। कायर और कमजोर मानसिकता वाले लोग ही भाग्य की बंद गली में घुसते है। वीर और ताकतवर लोग तो पुरूषार्थ का संकल्प लेकर चलते है, इसलिए उन्हें सफलता मिलती है।

VIDEO लॉकडाउन में बाहर आए नाग देवता, पुलिस ने कर दिया बंद

Corona Virus:  टोंक बना कोरोना का हॉटस्पॉट : एक नौशे मियां पुल तथा 21 बमोर गेट क्षेत्र में मिले पॉजिटिव, कुल संक्रमितों की सख्यां हुई 93

यह बात शांत क्रांति संघ के नायक, जिनशासन गौरव, प्रज्ञानिधि, परम श्रद्वेय आचार्यप्रवर 1008 विजयराज ने कही। सिलावटो का वास स्थित नवकार भवन में विराजित आचार्य ने सोमवार को धर्मानुरागियों को प्रसारित संदेश में कहा कि उत्तम स्वास्थ्य, प्रसन्नता, सामाजिक समरसता और आत्म शांति मानव जीवन की आवश्यकता भर नहीं है। ये सभी जीवन की उपलब्धियां है। हमे किसी भी उपलब्धि के लिए दूसरों के भरोसे नहीं रहना चाहिए और स्वयं प्रयत्न करना चाहिए। बिना श्रम के मिलने वाली उपलब्धि महान होने पर भी अभिशाप बन जाती है।

VIDEO RSS के इतिहास में पहली बार कुटुंब शाखा से हुई प्रार्थना

Corona virus : 24 घंटे में ही किए दो हजार टेस्ट

उपलब्धियां भी पुरूषार्थ की बदौलत
उन्होंने कहा कि दूसरों से सबकुछ चाहना आज के मानव की प्रकृति और प्रवृत्ति बन गई है। वह स्वयं कुछ नहीं करना चाहता, जिससे वह मुखापेक्षी बन जाता है। उसे बुद्धि, विवेक, चिंतन और हिताहित को समझने की क्षमता मिली है, लेकिन वह इनका सम्यक उपयोग नहीं कर पा रहा है। इससे उसकी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं होती और वह अपने भाग्य को कोसता है। भाग्य को कोसने के बजाए पुरूषार्थ करना चाहिए। क्योंकि शांति, संतुष्टि, पवित्रता और आनंद जैसी जीवन की महान उपलब्धियां भी पुरूषार्थ की बदौलत ही प्राप्त होती है।

Ratlam में डॉक्टरों ने कहा कोरोना से बचना है तो रोज करें इनका सेवन

Corona virus

उपलब्धियों का मार्ग इतना आसान नहीं
आचार्यश्री ने कहा कि संसार की महत्वपूर्ण उपलब्धियों का इतिहास इस बात का साक्षी है कि अनेक प्रकार की मुसीबतों और बाधाओं को चीरकर ही इन्सान उपलब्धियों तक पंहुचता है। उपलब्धियों का मार्ग इतना आसान नहीं है, इसीलिए उनके लिए कर्मठता, जीवटता, लगनशीलता और सर्मपण का भाव रखना पडता है। चंचलता और मलीनता मन के ऐसे दोष है, जो हर उपलब्धि में अवरोधक बनते है। हमारे भीतर अनंत शक्ति है, तो उसका उपयोग करने में पीछे क्यों रहा जाए। यह सोच जिस दिन विकसित हो जाती है, उस दिन से व्यक्ति पुरूषार्थ की डगर पर चल पडता है। समस्याएं कितनी भी बडी क्यों ना हो, पुरूषार्थ के आगे वे बौनी हो जाती हैं।

Good News: Ratlam में होगी कोरोना की जांच

अंधकार घना है, लेकिन दीपक जलाना कहां मना
उन्होंने कहा कि माना अंधकार घना है, लेकिन दीपक जलाना कहां मना है। पुरूषार्थ का दीपक समस्या के अंधकार का समाधान है। मन के हारे, हार है, तो मन के जीते जीत। इस सच्चाई को आज चरितार्थ करने की आवश्यकता है। इससे ही वांछित उपलब्धियों प्राप्त होगी। कोई भी उपलब्धि कभी आकाश से नहीं टपकती और ना ही भूमि फोडकर बाहर आती है। वे हमेशा पुरूषार्थ की ही देन होती है।

सोमवार से खुलेंगे कार्यालय : कर्मचारियों के लिए DOCTOR ने दी यह खास सलाह

Corona virus

असीम सुख और आनंद की अनुभुति
आचार्य ने कहा कि अच्छे और बुरे भाग्य का निर्माण पुरूषार्थ ही करता है। सदियों से इन्सान भाग्य और पुरूषार्थ की उलझनमें उलझा रहता हैं, जबकि यह उलझन निरर्थक ही साबित होती है। हर उपलब्धि का मुख्य कारक व्यक्ति का उत्तम पुरूषार्थ होता है। लाभ-अलाभ, सुख-दुख, निंदा-प्रशंसा, मान-अपमान, जन्म-मरण, अनुकुलता-प्रतिकुलता में जितने भी द्वंद्व है, उनमें समान रहने का संकल्प और अभ्यास पुरूषार्थ से होता है। जीवन में इसे ही सर्वोच्च उपलब्धि माना गया है। उपलब्धियों का उन्माद पतन का मार्ग है। जबकि उपलब्धियों का आनंद उत्थान का मार्ग है। सच्चे साधक उन्माद से मुक्त होते है, इसलिए उनके जीवन में उपलब्धियों का खजाना बढता जाता है। प्रदर्शन का भाव ना रखकर उपलब्धियों का स्वाद चखा जाए, तो वे असीम सुख और आनंद की अनुभुति देती है। कोरोना के इस संकट काल में पुरूषार्थ के इस मार्ग पर चलते रहे, तो एक दिन इस संकट को खत्म करने की उपलब्धि मिल जाएगी।

VIDEO कोरोना वायरस के दौरान नमाज पढऩे गए 6 लोग गिरफ्तार

COVID -19 को रोकने रेलवे कर रही बड़ा काम

घर में थे पांच लाख रुपए, 91 साल की महिला ने कलेक्टर को कोरोना वायरस से लडऩे दे दिए

घर का बुझ गया नन्हा चिराग, ऑनलाइन ही किए 14 वर्षीय बेटे के अंतिम दर्शन

VIDEO रतलाम में घर से निकलते ही, पुलिस देती है सटाक

कोरोना के प्रसार को युद्धस्तर पर रोकने की ओर कदम उठाए सरकार: स्टालिन
Corona virus COVID-19
Ashish Pathak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned