hathras

हाथरस

hathras

विवरण :

हाथरस उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। ये शहर हास्य सम्राट पद्मश्री काका हाथरसी की जन्मस्थली है।


हाथरस कभी बालाजी पेशवा के अधीन स्वतंत्र रियासत थी। इस रियासत के राजा दयाराम थे। शहर के पूरब राजा दयाराम का किला इतिहास समेटे हुए हैं। इस किले में सैकड़ों वर्ष पुराना श्री दाऊजी महाराज का मंदिर है। अंग्रेजी हुकूमत के आगे न झुकने की गवाही किले पर बने दाऊजी मंदिर की प्राचीर आज भी देता है। अंग्रेजों ने मंदिर पर तोप के गोले दागे। बताते हैं कि भगवान की कृपा से गोलों से मंदिर को कोई क्षति नहीं पहुंची। आज भी मंदिर में गोला रखा है। श्रीदाऊ जी महाराज के मंदिर में श्री कृष्ण के नाम से श्रीदाऊ जी महाराज का विग्रह विराजमान है।


ब्रज प्रदेश का ऐतिहासिक मेला लक्खी श्री दाऊजी महाराज महोत्सव भी यहीं लगता है। बताया जाता है अंग्रेजों के हमले के बाद 1817 में जब राजा दयाराम ने किला छोड़ा था, तब से दाऊजी मंदिर के पट भी बंद थे। इसके बाद वर्ष 1912 में तत्कालीन तहसील श्यामलाल ने हाथरस किला पर लगने वाले ऐतिहासिक लक्खी मेला की शुरुआत की थी। इस मेले के बारे में बताया जाता है कि जब श्यामलाल के बेटे की तबीयत काफी खराब थी। तब उन्हें सपने में दाऊजी महाराज ने मंदिर को खुलवाने का आदेश दिया था। बताते हैं कि तहसीलदार ने मंदिर खुलवाकर सेवा-पूजा शुरू कराई तो उनका बेटा ठीक हो गया। तब से शुरू हुए इस ऐतिहासिक मेले का हर साल आयोजन किया जाता है। इस मेले में विराट कुश्ती दंगल भी महशूर है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK